मेट्रों मैन ई श्रीधरन होंगे भाजपा में शामिल, केरल से लड़ सकते हैं चुनाव

Metro Man

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

भाजपा पहले ही अपना दाव पश्चिम बंगाल में खेल चुकी है। बंगाल में भाजपा ने अपने कई दर्जन नेताओं को मैदान में शक्ति प्रदर्शन के लिए उतारा है। कई दिग्गज (Metro Man) नेताओं को भाजपा ने टीएमसी से तोड़ कर अपने साथ मिलाया है। अब तय है की भाजपा का अगला दाव केरल विधानसभा पर होगा यह अब तय हो चुका है। केरल में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने बड़ा दांव खेला है। मेट्रो मैन के नाम से मशहूर ई श्रीधरन जल्द ही बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

 

बिहार के छपरा में चलती ट्रेन में हुई लूटपाट, 1 युवक को गोली मारी

 

 

बीजेपी ने श्रीधरन से केरल में विधानसभा चुनाव लड़ने का किया अनुरोध

 

 

बीजेपी ने श्रीधरन (Metro Man) से केरल में विधानसभा चुनाव लड़ने का अनुरोध किया है। 21 फरवरी को केरल में बीजेपी की विजय यात्रा के दौरान बीजेपी अध्यक्ष के सुदर्शन की मौजूदगी में बीजेपी का हाथ थामेंगे। पद्म श्री और पद्म विभूषण से सम्मानित ‘मेट्रो मैन’ श्रीधरन को देश में विकास के प्रतीक के रूप में जाना जाता है। मेट्रो मैन ई श्रीधरन आगामी केरल विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

 

ई श्रीधरन ने यह कहा मीडिया से

 

 

मीडिया (Metro Man) से कहा है कि ‘मुझे उम्मीद है कि बीजेपी केरल के लोगों के लिए कुछ कर सकती है, दूसरे राजनीतिक दलों ने अभी तक कुछ नहीं किया है। ‘ ई श्रीधरन को सिर्फ मेट्रो ही नहीं कोंकण रेलवे में उत्कृष्ट योगदान के लिए भी उन्हें जाना जाता है। साल 2001 में उन्हें पद्म श्री और 2008 में पद्म विभूषण अवार्ड से सम्मानित किया गया।

 

 

यह अवार्ड मिल चुके हैं ई श्रीधरन को

 

 

अमेरिका की विश्व प्रसिद्ध पत्रिका टाइम मैग्जीन भी इन्हें ‘एशिया का हीरो’ कह कर पुकार चुकी है। विश्व में यातायात को सुगम बनाने के किए ई श्रीधरन यूएनओ (Metro Man) में भी अपनी सेवा दे चुके हैं। ई श्रीधरन का जन्म पलक्कड़ जिला के करूकापुथूर गांव में हुआ था। नीलकंदन मूसा और अम्मालुअम्मा के घर पैदा होने वाले ई श्रीधरन की आरंभिक शिक्षा गांव के ही सरकारी स्कूल में हुई। इसके बाद सीनियर सेंकडरी पालघाट और बाद सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री के लिए ये आंध्र प्रदेश के काकीनाडा गए। पढ़ाई के बाद शुरूआत में कुछ समय के लिए शिक्षक बने लेकिन जल्द ही यूपीएससी क्वॉलीफाई करने के बाद भारतीय रेल में अपनी सेवाएं शुरू कीं। जिसके लिए भारतीय रेल उन्हें हमेशा याद करता है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *