Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

हैदराबाद एनकाउंटर: आप कानून को हाथ में नहीं ले सकते- मेनका गांधी, कुमारी शैलजा ने कहा- बुरे काम का बुरा अंत

jk24x7news.tv jk24x7news.tv jk24x7news.tv

तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर के साथ रेप के बाद हत्या की घटना के बाद चारों आरोपियों की पुलिस मुठभेड़ में मौत हो गई। इसके बाद राजनीतिक गलयारों से नेताओं की प्रक्रिया शुरु हो गई है। जिसको लेकर कुछ नेताओं ने इस मुठभेड़ में पुलिस की सरहना की है, तो कुछ नेता पुलिस और कानून का हवाला देकर विरोध करते नजर आए। 


मेनका गांधी ने हैदराबाद एनकाउंटर पर जताया एतराज


बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने हैदराबाद एनकाउंटर पर एतराज जताते हुए कहा कि, जो पुलिस ने किया है, वह बेहद भयानक हुआ है। देश के लिए आप कानून को अपने हाथों में नहीं ले सकते है। साथ ही उन्होने कहा कि आप किसी भी आरोपी को इस तरह से मारते है तो कानून और पुलिस का क्या औचित्य रह जाता है।


ट्वीट कर शशि थरूर ने जताया विरोध


मेनका गांधी के अलावा कांग्रेस के वरिष्ट नेता शशि थरूर ने ट्वीट कर कहा कि ‘न्यायिक व्यवस्था से परे इस तरह के एनकाउंटर स्वीकार नहीं किए जा सकते'। एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा कि 'हमें और जानने की जरूरत है। यदि क्रिमिनल्स के पास हथियार थे तो पुलिस ने अपनी कार्रवाई को सही ठहरा सकती है। जब तक पूरी सच्चाई सामने न आए तब तक हमें निंदा नहीं करनी चाहिए। लेकिन कानून से चलने वाले समाज में इस तरह का गैरन्यायिक हत्याओं को सही नहीं ठहराया जा सकता'।


पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी का बयान


वहीं बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने हैदराबाद पुलिस के एनकाउंटर का पक्ष किया है। इस दौरान उन्होने कहा कि इस तरह की घटनाओं में आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए। साथ ही कहा कि पुलिस को मामलों पर कार्रवाई भी पूरी करनी चाहिए। राबड़ी देवी नकहा कि ऐसे अपरोध पर पूरे देश में कार्रवाई करनी चाहिए।


ऐसे अपराधियों का बुरा अंत होना चाहिए- कुमारी शैलजा


हैदराबाद एनकाउंटर को लेकर हरियाणा की कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने भी अपना पक्ष रखते हुए कहा कि इस तरह के घिनौने अपराध देश की जनता को झिनझोड़ कर रख देते है। जिसके बाद सब की प्रतिक्रिया होती है कि ऐसे अपराधियों का बुरा अंत होना चाहिए। साथ ही उन्होने कहा कि न्याय की प्रक्रिया के तहत ही अन्त होना चाहिए। जिससे लोगों का विश्वास सिस्टम पर बना रहे। 

Rate this item
(0 votes)