Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) के चीफ के सिवन ने चंद्रयाण-3 के प्रोजेक्ट को लेकर बात की। के सिवन ने बताया कि आने वाले समय में भविष्य में चंद्रमा पर अंतरिक्ष यात्री को भेजने का मिशन किया जाएगा लेकिन इस मिशन को लेकर उन्होंने इस बात को भी साफ किया कि यह उनका भविष्य का कार्य है। ISRO के चीफ ने बताया कि अभी जिस मिशन पर काम चल रहा है वह गगनयान मिशन है। आगे उन्होंने बताया कि इसके लिए 4 अंतरिक्ष यात्रियों को इस महीने के अंत तक ट्रेनिंग के लिए रूस भेजा जा रहा है और इसके लिए सारी तरह की तैयारियां की जा रही है।

चंद्रयाण-3 को लेकर के सिवन ने बताया कि इसको लेकर भी सभी तैयारियां शुरु हो चुकी है और तेजी से चल रही है।

आपको बता दें कि गगनयान मिशन को 2022 में भेजा जाना है और साथ ही साथ इस मिशन में 4 भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को भी भेजा जाएगा। इसकी ट्रेनिंग के लिए चारों अंतरिक्ष यात्रियों को महीने के आखिरि तक रुस भेजा जाएगा। गगनयान मिशन भारत के बड़े मिशनों में से एक है।

पिछले करीब एक महीने से ज्यादा समय से लगातार चल रहे नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध और समर्थन से जुड़े करीब 143 याचिकाओं की सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई होनी थी। हालांकि अब इस पर एक अहम फासला लिया गया है। सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि अभी इस पर कोई रोक नहीं लगाया जा सकता और साथ ही साथ केंद्र को 4 हफ्ते का समय भी दिया गया है जिसमें उनसे जवाब मांगा गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इसकी सुनवाई करते हुए कहा सभी याचिकाओं का देखने के बाद ही इस पर कोई फैसला लिया जा सकता है।

नागरिकता बिल के विरोध और समर्थन में सुप्रीम कोर्ट में कई व्यक्तियों और कई संस्थानओं ने याचिका दायर की है। तीन जजों की बेंच जिनमें चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एस ए बोबड़े, जस्टिस अब्दुल नज़ीर और संजीव खन्ना, इन याचिकाओं पर सुनवाई कर ये फैसले लिए गए है। 

इन याचिकाओं में कई नेता भी शामिल है जिन्होनें सीएए का विरोध करते हुए कहा है कि यह कानून देश में अशांति फैलाने के लिए लाया गया है। ये कानून भारत के पड़ोसी देशों से हिंदू, बौद्ध, ईसाई, पारसी, सिख और जैन धर्म के लोगों के साथ हो रहे धर्म के नाम पर भेदभाव के चलते इन्हीं लोगों को नागरिकता देने की मंजूरी देता है। इस कानून में मुसलमानों को बाहर रखा गया है, जिस वजह से हिंसा भड़काने जैसी कोशिश की गई है। इनमें से लोगों का कहना है कि यह जानबूझकर किया है और धर्म के नाम पर भेदभाव करने को लेकर भारतीय संविधान कभी भी मंजूरी नहीं देता। 

आपको बता दें कि इस नए कानून के अनुसार धार्म के आधार पर भेदभाव का शिकार होने वाले लोग जो 31 दिसंबर 2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भारत आए हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को बाहर का नहीं माना जाएगा और उन्हें भारतीय नागरिकता दी जाएगी। इस कानून के पास होने के बाद देश में कई जगहों पर इसके विरोध में हिंसाएं भी हुई थी, जिसमें यह विरोध किया जा रहा था कि इस कानून में मुसलमानों को क्यों जगह नहीं दी गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस समय पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर हैं। प्रधानमंत्री मोदी के दो दिवसीय दौरे का आज दूसरा दिन है। पीएम मोदी ने अपने दूसरे दिन के दौरे की शुरुआत बेलूर मठ में दर्शन करके किया। यहां उन्होंने भिक्षुओं से भी मुलाकात की।

प्रधानमंत्री मोदी ने बेलूर मठ में लोगों को संबोधित करते हुए CAA को लेकर अपनी बात रखते हुए कहा कि ये कानून नागरिकता लेने के लिए नहीं बल्कि देने के लिए है। उन्होंने कहा कि ये कानून रातों-रात नहीं बनाया गया बल्कि महात्मा गांधी भी ऐसा चाहते थे।

पीएम ने कहा कि इतनी स्पष्टता के बावजूद कुछ लोग इस कानून को लेकर भ्रम फैला रहे हैं। पश्चिम बंगाल के सीएम ममता बनर्जी की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि जो बात यहां बैठे बच्चों को समझ में आ गई वह बात राजनीतिक खेल खेलने वालों को समझ में नहीं आती है।

उन्होंने कहा कि इस कानून को लेकर कुछ युवा भ्रम के शिकार हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल की धरती से एक बार फिर से वे लोगों को आश्वस्त करना चाहेंगे कि ये कानून नागरिकता देने के लिए बना है, छीनने के लिए नहीं।

संशोधित नागरिकता कानून के विरोध को लेकर देशभर में हो रहे प्रदर्शनों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को एक रैली को संबोधित करते हुए एक नारा दिया। रैली के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि विविधता में एकता भारत की विशेषता है। उन्होंने यहां रामलीला मैदान में आयोजित रैली को संबोधित करते हुए यह बात कही। पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री उदय योजना के माध्यम से लोगों को अपने घर और अपनी जमीन पर सम्पूर्ण अधिकार मिल पाया है और उन्हें संतोष है कि दिल्ली के 40 लाख लोगों के जीवन में नया सवेरा लाने का यह अवसर उन्हें और बीजेपी को मिला है।

 

40 लाख से ज्यादा लोगों दिया नया सवेरा

रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जीवन से जब अनिश्चितता निकल जाती है। एक बड़ी चिंता हट जाती है, तो उसका प्रभाव क्या होता है, ये मैं आज आप सभी के चेहरों पर देख रहा हूं। आपके उत्साह में देख रहा हूं।

पीएम मोदी ने कहा, 'मुझे संतोष है कि दिल्ली के 40 लाख से ज्यादा लोगों के जीवन में नया सवेरा लाने का एक उत्तम अवसर मुझे और बीजेपी को मिला है। आपको अपने घर आपनी जमीन, अपने जीवन की सबसे बड़ी पूंजी पर संपूर्ण अधिकार मिला, इसके लिए आप सबको बहुत-बहुत बधाई।

 

दिल्ली में 1,700 से ज्यादा कॉलोनियों किया चिह्नित BJP

प्रधानमंत्री ने कहा कि काफी कम समय में प्रौद्योगिकी की मदद से दिल्ली की 1,700 से ज्यादा कॉलोनियों की बाउंडरी को चिह्नित करने का काम पूरा किया जा चुका है। इतना ही नहीं 1,200 से ज्यादा कॉलोनियों के नक्शे भी पोर्टल पर डाले जा चुके हैं।

विपक्षी कांग्रेस और आप पर परोक्ष निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि जिन लोगों पर आप लोगों ने अपने घरों को नियमित कराने के लिए भरोसा किया था। वे खुद क्या कर रहे थे? इन लोगों ने दिल्ली के सबसे आलीशान और सबसे महंगे इलाकों में दो हजार से ज्यादा बंगले अवैध तरीके से अपने करीबियों को दे रखे थे।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के बारे में लोगों को समझाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (BJP) अगले 10 दिन तक व्यापक स्तर पर अभियान चलाने की योजना बनाई है। इसके लिए बीजेपी घर-घर जाएगी और लोगों को नागरिकता संशोधन कानून के बारे में बताएगी। बीजेपी सूत्रों की मानें तो पार्टी के नेता नागरिकता संशोधन कानून के बारे में लोगों को स्पष्ट जानकारी देने के लिए 250 प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे। इसके साथ ही हर जिले में नागरिकता संशोधन कानून के पक्ष में रैली और कार्यक्रम भी होगा।

 

अगले 10 दिन बीजेपी चलाएगी व्यापक अभियान

बीजेपी के राज्यसभा सांसद भूपेंद्र यादव ने इसकी घोषणा करते हुए कहा, पार्टी ने तय किया है कि आने वाले 10 दिनों में हम एक विशेष कैंपेन लॉन्च करेंगे। इसके तहत हम 3 करोड़ परिवारों से मिलेंगे। इसमें नागरिकता संशोधन विेधेयक पर लोगों तक अपनी बात पहुंचाएंगे। इस बिल के समर्थन में हम जगह जगह पर 250 से ज्यादा प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित करेंगे।

बीजेपी की योजना करीब 3 करोड़ परिवारों को नागरिकता कानून के संबंध में जानकारी देने की है। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्षी दलों पर नागरिकता कानून को लेकर झूठ फैलाने और प्रदर्शन के लिए लोगों को उकसाने का आरोप लगाया था।

 

घर- घर जाकर लोगों को देगी स्पष्ट जानकारी 

लोकसभा और राज्यसभा में नागरिकता कानून बिल का समर्थन करने वाली जेडीयू और एलजेपी ने कहा है कि सरकार को इस बिल पर लोगों की गलतफहमी दूर करनी चाहिए। राज्यसभा सांसद स्वप्न दासगुप्ता ने पिछले दिनों कोलकाता में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मांग की थी, कि सरकार इस मुद्दे पर प्रिंट मीडिया में प्रचार करे और बताए कि ये कानून किसी के लिए खतरा नहीं है।

बता दें कि बीजेपी ने राजस्थान में इस कानून के समर्थन में रैली की थी, जिसमें कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी शिरकत की थी। इस दौरान कई नेताओं ने पार्टी के कार्यकर्ताओं से इस कानून के समर्थन में सड़क पर उतरने की अपील की थी।

नागरिकता संशोधन एक्ट को लेकर पूरे देश में विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं। जामिया के बाद सीलमपुर में हुए प्रदर्शन के बाद पुलिस कार्रवाई पर भी सवाल खड़े होने लग गए हैं। CAA के विरोध में बॉलीवुड एक्टर आयुष्मान खुराना, राजकुमार राव, परिणीति चोपड़ा, आलिया भट्ट के साथ डायरेक्टर अनुराग कश्यप भी उतर आए हैं। अब विरोध करने वालों की लिस्ट में फरहान अख्तर का नाम भी जुड़ गया है। फरहान अख्तर ने सभी प्रदर्शकारियों से अगस्त क्रांति मैदान में इकट्ठा होने के लिए कहा है। फरहान ने ट्वीट मे कहा कि यहां आपको ये जानने की जरूरत है कि ये प्रोटेस्ट बहुत जरूरी है। 19 तारीख को आपसे अगस्त क्रांति मैदान, मुंबई में ही मिलेंगे। सिर्फ सोशल मीडिया पर प्रोटेस्ट करने का समय अब खत्म हो गया है।  

 

जामिया मामले के तीन दिन बाद फरहान ने प्रक्रिया

अभिनेता फरहान ने नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (NRC) की व्याख्या करने वाली एक तस्वीर भी साझा की है। नागरिकता संशोधन कानून में पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से यहां आए हिंदू, सिख, बौद्ध, ईसाई, पारसी और जैन समुदाय के शरणार्थियों को भारत की नागरिकता के लिए आवेदन करने का प्रावधान है। जिन्हें उन देशों में धार्मिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ा हो। अख्तर की यह प्रतिक्रिया दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में रविवार को दिल्ली पुलिस की कार्रवाई के तीन दिन बाद आई है।

 

IPS अधिकारी ने की कार्रवाई करने की मांग

फरहान अख्तर के ट्वीट के बाद वरिष्ठ IPS अधिकारी संदीप मित्तल ने कार्रवाई करने की मांग की है। संदीप मित्तल ने कहा कि फरहान ने कानून का उल्लंघन किया है। इसके साथ उन्होंने IPC की धारा 121 समझाने का एक वीडियो भेजा है। मित्तल ने ट्वीट अपने कहा कि आपको ये भी पता होना चाहिए कि आपने कानून का उल्लंघन किया। आपके ट्वीट से पता चलता है कि ये सब आपने अनजाने में नहीं किया है। मुंबई पुलिस और एनआई आप सुन रहे हैं। कृप्या राष्ट्र के बारे में सोचिए जिसने आपको जीवन में सबकुछ दिया है। कानून को समझिए।

 

पिता जावेद अख्तर ने भी किया था विरोध

इससे पहले फरहान के पिता और गीतकार जावेद अख्तर ने भी NRC और CAA का मुद्दा उठाया था। जावेद ने अपने ट्वीट में कहा था कि लॉ ऑफ लैंड के मुताबिक, किसी भी परिस्थिति में पुलिस किसी भी यूनिवर्सिटी के कैंपस में यूनिवर्सिटी के अधिकारियों की इजाजत के बिना नहीं घुस सकती। जामिया कैंपस में बिना इजाजत घुसकर पुलिस ने एक ऐसी मिसाल कायम की है जो हर यूनिवर्सिटी के लिए एक खतरा है। जावेद के ट्वीट पर भी संदीप मित्तल ने प्रतिक्रिया दी थी। उन्होंने कहा था कि प्रिय कानूनी विशेषज्ञ, प्लीज लॉ ऑफ लैंड, अनुभाग संख्या और अधिनियम आदि के नाम को थोड़ा विस्तार से समझाएं ताकि हम भी प्रबुद्ध हों।

तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर के साथ रेप के बाद हत्या की घटना के बाद चारों आरोपियों की पुलिस मुठभेड़ में मौत हो गई। इसके बाद राजनीतिक गलयारों से नेताओं की प्रक्रिया शुरु हो गई है। जिसको लेकर कुछ नेताओं ने इस मुठभेड़ में पुलिस की सरहना की है, तो कुछ नेता पुलिस और कानून का हवाला देकर विरोध करते नजर आए। 


मेनका गांधी ने हैदराबाद एनकाउंटर पर जताया एतराज


बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने हैदराबाद एनकाउंटर पर एतराज जताते हुए कहा कि, जो पुलिस ने किया है, वह बेहद भयानक हुआ है। देश के लिए आप कानून को अपने हाथों में नहीं ले सकते है। साथ ही उन्होने कहा कि आप किसी भी आरोपी को इस तरह से मारते है तो कानून और पुलिस का क्या औचित्य रह जाता है।


ट्वीट कर शशि थरूर ने जताया विरोध


मेनका गांधी के अलावा कांग्रेस के वरिष्ट नेता शशि थरूर ने ट्वीट कर कहा कि ‘न्यायिक व्यवस्था से परे इस तरह के एनकाउंटर स्वीकार नहीं किए जा सकते'। एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा कि 'हमें और जानने की जरूरत है। यदि क्रिमिनल्स के पास हथियार थे तो पुलिस ने अपनी कार्रवाई को सही ठहरा सकती है। जब तक पूरी सच्चाई सामने न आए तब तक हमें निंदा नहीं करनी चाहिए। लेकिन कानून से चलने वाले समाज में इस तरह का गैरन्यायिक हत्याओं को सही नहीं ठहराया जा सकता'।


पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी का बयान


वहीं बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने हैदराबाद पुलिस के एनकाउंटर का पक्ष किया है। इस दौरान उन्होने कहा कि इस तरह की घटनाओं में आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए। साथ ही कहा कि पुलिस को मामलों पर कार्रवाई भी पूरी करनी चाहिए। राबड़ी देवी नकहा कि ऐसे अपरोध पर पूरे देश में कार्रवाई करनी चाहिए।


ऐसे अपराधियों का बुरा अंत होना चाहिए- कुमारी शैलजा


हैदराबाद एनकाउंटर को लेकर हरियाणा की कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने भी अपना पक्ष रखते हुए कहा कि इस तरह के घिनौने अपराध देश की जनता को झिनझोड़ कर रख देते है। जिसके बाद सब की प्रतिक्रिया होती है कि ऐसे अपराधियों का बुरा अंत होना चाहिए। साथ ही उन्होने कहा कि न्याय की प्रक्रिया के तहत ही अन्त होना चाहिए। जिससे लोगों का विश्वास सिस्टम पर बना रहे। 

हमारे देश की राजनीति भी बड़ी गजब है। कौन दुश्मन है और कौन दोस्त कुछ पता ही नहीं चलता। कुछ ऐसा ही नजारा हरियाणा की राजनीति में देखने को मिला। कल तक जो जननायक जनता पार्टी (JJP) भारतीय जनता पार्टी (BJP) के खिलाफ चुनाव लड़ रही थी। आज वही JJP सत्ता की चाहत में BJP को समर्थन देने के लिए तैयार हो गई है।
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 25 अक्टूबर को JJP ने अपनी कुछ शर्तों के साथ बीजेपी को समर्थन दिया है। इन शर्तों में सबसे पहली शर्त JJP का पहली शर्त JJP पार्टी का उपमुख्यमंत्री होगा। इसके साथ-साथ हरियाणा कैबिनेट में 2 मंत्री, 1 राज्य मंत्री और इसके साथ-साथ राज्यसभा में JJP का एक सांसद होगा।
आपको बता दें कि हरियाणा में किसी भी पार्टी को सरकार बनाने के लिए 90 सीटों में से 46 सीटों की आवश्यकता है। जिसमें बीजेपी के पास 40, कांग्रेस के पास 31, JJP के पास 10 और अन्य का खाते में 9 सीटें है। हरियाणा में सीटों के सम्मीकरण के हिसाब से बीजेपी और जेजेपी के गठबंधन के बाद 50 सीटें हो गई हैं। जो कि जादुई आकड़े से 4 सीट ज्यादा है।

 

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग खत्म

महाराष्ट्र में 288 और हरियाणा में 90 सीटों पर हुआ मतदान

17 राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश में उपचुनाव

 

18:00 PM

आज हरियाणा और महाराष्ट्र में लगातार विधानसभा चुनाव के हो रही वोटिंग पोल में आज सुबह से लंबी कतारों में लोग खड़े होकर वोट दे रहे हैं । अस दौरान कई बड़े नेताओं से लेकर फिल्मी सितारों ने भी अपने मताधिकार का प्रयोग किया। बात अगर हरियाणा की करें तो शाम बजे तक 54.53 प्रतिशत वोट डाले जा चुके हैं। वहीं महाराष्ट्र में अब 46.57 प्रतिशत वोट डाले गए हैं ।

15:45 PM

महाराष्ट्र में सुस्त हुई मतदाताओं की रफ्तार

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में मतदाताओं की रफ्तार फिर से सुस्त हो गई है तो वहीं हरियाणा में वोटर लोकतंत्र के इस पर्व में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। महाराष्ट्र में 3 बजे तक 41 प्रतिशत और हरियाणा में 49.77 प्रतिशत मतदान हुआ है।

14:35 PM

हरियाणा में वोटरों की धीमी पड़ी रफ्तार, महाराष्ट्र में दिखी तेजी

हरियाणा में दोपहर होते ही मतदाताओं में रफ्तार धीमी पड़ती नजर आ रही है तो वहीं महाराष्ट्र में वोटरों में थोड़ी तेजी जरुर दिखी है। महाराष्ट्र में दोपहर 1 बजे तक 30.89 प्रतिशत और हरियाणा में 34 फीसदी मतदान हुआ है।  

14:26 PM

बॉलीवुड अभिनेत्री शबाना आज़मी और फिल्म के लेखक जावेद अख्तर ने किया मतदान

 

14:25 PM

महाराष्ट्र में दोपहर 1 बजे तक इनते फीसदी हुए मतदान 

14ः05 PM

बॉलीवुड अभिनेता अनिल कपूर और ऋतिक रौशन ने किया मतदान

13:45 PM

बॉलीवुड अभिनेत्री और मथुरा से बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने किया अपने मताधिकार का प्रयोग

 

13:20 PM 

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने मुंबई में डाला वोट

 

12:55 PM 

फिल्म एक्टर गोविंदा (चीची) ने पत्नी संग किया मतदान 

 

12:40 PM

वोटिंग में हरियाणा में दिखा दम महाराष्ट्र बेदम

दोपहर 12 बजे तक हरियाणा में करीब 23.12 फीसदी मतदान हुआ है, जबकि महाराष्ट्र में महज 16.35% ही वोटिंग हुई है. यानी शुरुआती पांच घंटों में हरियाणा में वोटिंग को लेकर थोड़ा उत्साह देखने को मिल रहा है, लेकिन महाराष्ट्र इस मामले में काफी पीछे है.

12:30 PM

क्रिकेट के भगवान सचिन रमेश तेंदुलकर ने परिवार संग किया मतदान

12:15 PM

कुरुक्षेत्रः पूर्व भारतीय हॉकी कप्तान और पिहोवा से भाजपा उम्मीदवार संदीप सिंह  ने किया मतदान

12:05 PM

रोहतकः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने किया अपने मताधिकार का प्रयोग

 

11:55 AM

फिल्म अभिनेता प्रेम चोपड़ा ने किया मतदान 

11:40 AM

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने परिवार समेत किया मतदान

 

11:20 AM

सुबह 10 बजे तक हरियाणा और महाराष्ट्र में इतने प्रतिशत हुआ मतदान

11:00 AM 

महाराष्ट्र के CM देवेंद्र फडणवीस ने पत्नी के साथ किया मतदान 

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी अपने मत का इस्तेमाल किया। फडणवीस ने नागपुर में अपनी मां सरिता फडणवीस और पत्नी अमृता फडणवीस के साथ जाकर मतदान किया। वोटिंग के बाद फडणवीस ने कहा कि सभी लोग लोकतंत्र में सहभागी बनें और मतदान करें। 

10:48 AM

मुंबई में बॉलीवुड अभिनेत्री माधुरी दीक्षित ने किया मतदान

10:45 AM

पूणे में पोलिंग बूथ पर बिजली कटी

 

10:35 AM

बॉलीवुड अभिनेता रितेश देशमुख ने किया मतदान

एक्टर रितेश देशमुख ने वोटिंग के बाद कहा, 'मुझे लोगों को सबसे पहले वोट करना चाहिए। मैंने दोनों भाइयों के लिए प्रचार किया है और उन दोनों को उनके काम पर वोट मिलेंगे. मुझे उम्मीद है कि मेरे दोनों भाई विजयी होंगे।' बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख के दो बेटे अमित और धीरज कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। दोनों भाइयों की विधानसभा सीटें एक-दूसरे से लगी हुई हैं। लातूर शहर विधानसभा से जहां अमित मैदान में हैं। वहीं, उनके भाई धीरज लातूर ग्रामीण सीट से पहली बार चुनावी दंगल में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. दोनों नेता बॉलीवुड अभिनेता रितेश देशमुख के भाई हैं।

10:25 AM 

टेनिस प्लेयर महेश भूपति ने अपनी पत्नी और बॉलीवुड अभिनेत्री लारा दत्ता ने किया मतदान

 

10:00 AM 

मुंबई जिले में 9 बजे तक 5% वोटिंग

मुंबई जिले में शुरुआती दो घंटों में वोटिंग धीमी नजर आ रही है. जिले के अंतर्गत आने वाली दस विधानसभा सीटों पर सुबह 9 बजे तक महज 5 फीसदी वोटिंग हुई है.

09:35 AM 

कुछ इस अंदाज में परिवार के साथ मतदान केंद्र पर वोट डालने पहुंचे JJP नेता दुष्यंत चौटाला 

जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के नेता दुष्यंत चौटाला और उनका परिवार ट्रैक्टर पर सवार होकर सिरसा में एक मतदान केंद्र पर वोट डालने के लिए पहुंचे।

09:20 AM

बॉलीवुड अभिनेता और गोरखपुर से BJP सांसद रवि किशन और अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरे ने महाराष्ट्र के गोरेगांव और अंधेरी में मतदान केंद्र में अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

09:00 AM

BJP प्रत्याशी बबीता फोगाट ने किया मतदान

चरखी दादरी से बीजेपी उम्मीदवार बबीता फोगट ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतदान के वक्त उनका परिवार उनके साथ था।

08:45 AM

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किया मतदान 

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी ने भी अपने मत का इस्तेमाल किया। गडकरी ने अपने पूरे परिवार के साथ नागपुर में वोटिंग की। वोटिंग के बाद उन्होंने जनता से ज्यादा से ज्यादा मतदान का आह्वान किया और एक बार फिर देवेंद्र फडणवीस के मुख्यमंत्री बनने का विश्वास जताया।

 

08:40 AM

टिकटॉक स्टार सोनाली फोगट ने किया मतदान

हरियाणा: टिकटॉक स्टार सोनाली फोगट ने आमदपुर में अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। बता दें कि सोनाली फोगाट आदमपुर विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं।

08:20 AM

हिसार: हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने यशोदा पब्लिक स्कूल के बूथ संख्या 103 पर अपना वोट डाला।

 

 

08:15 AM

NCP नेता शरद पवार ने किया मतदान

एनसीपी नेता अजीत पवार ने भी मतदान किया है। पवार बारामती विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। उनके सामने बीजेपी से गोपीचंद पाडलकर हैं।

 

08:00 AM

अभिनेत्री शुभा खोटे ने डाला वोट

बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री शुभा खोटे ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। शुभा खोटे ने अंधेरी पश्चिम विधानसभा क्षेत्र में वोटिंग की।

 

07:45 AM

RSS प्रमुख मोहन भागवत ने डाला वोट

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत ने सुबह-सुबह मतदान किया। मोहन भागवत ने नागपुर में मतदान किया, वोट करने के बाद उन्होंने लोगों से अधिक संख्या में वोट डालने की अपील की।
 

07:20 AM

PM मोदी ने की मतदाताओं से अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र और हरियाणा के वोटरों से अधिक संख्या में मतदान करने की अपील की है. पीएम मोदी ने मतदान शुरू होने से पहले ट्वीट किया.

07:05 AM

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान शुरु

महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान शुरू हो गया है। महाराष्ट्र की 288 और हरियाणा की 90 सीटों पर आज वोट डाले जा रहे हैं। दोनों ही राज्यों के नतीजे 24 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे।

 06:30 AM

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के भारी बहुमत से विजयी होने के बाद हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए आज मतदान किया जाएगा। महाराष्ट्र की 288 विधानसभा सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं। वहीं, हरियाणा की 90 विधानसभा सीटों पर वोट पड़ेंगे। इसके अलावा 17 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश की 51 विधानसभा सीट और 2 लोकसभा सीट के लिए भी आज वोट डाले जाएंगे। चुनाव के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। बीजेपी और कांग्रेस समेत सभी छोटी बड़ी पार्टियों के लिए ये चुनाव किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं है। एक तरफ तो भारतीय जनता पार्टी के लिए अपनी साख को बचाए रखना है तो वहीं बाकी अन्य पार्टियों के लिए सत्ता में फिर वापसी के लिए ये अच्छा रास्ता है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने भारत और चीन को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। ट्रंप ने कहा है कि भारत और चीन अब अविकसित देश नहीं रहे हैं। इन दोनों देशों ने इतना विकास कर लिया है कि इन्हें अविकसित सूची का नहीं कहा जा सकता, इसके बाद भी दोनों ही देश विश्व व्यापार संगठन (WTO) से विकासशील दर्जे के तहत मिलने वाले सभी फायदे ले रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने आगे कहा कि उनके प्रशासन ने WTO को इस विषय पर चर्चा करते हुए पत्र लिखकर इस बात की गुजारिश की है कि भारत और चीन को इस संगठन के तहत आने वाले फायदे को बंद किया जाए।

ट्रंप ने कहा कि हमारे प्रशासन ने WTO को चिट्ठी लिखी है और उसमें कहा है कि इन दोनों देशों को इस दर्जे से अलग किया जाए, डब्ल्यूटीओ के लिए आज भी चीन एक विकासशील देश है, डब्ल्यूटीओ को अब ये बंद करना होगा। वहीं भारत को लेकर ट्रंप ने कहा कि हम भारत को अब विकासशील देश के दर्जे में नहीं रख सकते क्योंकि चीन के साथ-साथ भारत भी अमेरिका को कड़ी टक्कर दे रहा हैं, जिसके चलते हम ने इस बात को ध्यान में रखते हुए इस बात का फैसला लिया है कि आगे हम यह फायदा नहीं दे सकते।

इससे पहले करीब तीन महिने पहले जुलाई में ट्रंप ने इस मुद्दे को उठाते हुए डब्ल्यूटीओ से यह साफ करने के लिए कहा था कि वह किस आधार पर अन्य देशों को WTO में विकासशील देश का दर्जा देता है।

आपको बता दें विश्व व्यापार संगठन (WTO) का कार्य विकासशील देशों को विश्व स्तर पर व्यापार में आने वाले नियमों के तहत रियायत मिलती है। ट्रंप ने इस बात को साफ करते हुए यह भी कहा था कि यदि कोई विकसित अर्थव्यवस्था डब्ल्यूटीओ से मिलने वाले फायदें का लाभ उठाती है तो वह उसके खिलाफ विश्व स्तर दंडात्मक कार्रवाई शुरू करे।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला । मनमोहन सिंह ने कहा कि, देश की जनता ने भाजपा को जिसके लिए वोट दिया उसे करने में भाजपा सिर्फ नाकाम साबित हुई । उन्होंने बताया कि, महाराष्ट्र का विनिर्माण ग्रोथ पिछले चार साल से लगातार घट रहा है।

उन्होंने कहा कि देश में उद्योगों की रफ्तार काफी धीमी हो चुकी है, अर्थव्यवस्था के खराब मैनेजमेंट का खामियाजा उठाना पड़ा है। महाराष्ट्र में किसानों की आत्महत्या के काफी मामले सामने आ रहे हैं। महाराष्ट्र की भाजपा सरकार लोगों के हित कीं नीतियां बनाने में नाकाम रही है। मैंने अपने कार्यकाल में महाराष्ट्र के कई नेताओं के साथ काम किया। सभी महाराष्ट्र का हित चाहते थे। किसानों के लिए कर्जमाफी भी हमने की थी।

मनमोहन सिंह ने धारा 370 हटाए जाने को लेकर कहा कि, कांग्रेस पार्टी ने अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के लिए बिल के पक्ष में मतदान किया, न कि इसके खिलाफ। हमारा मानना है कि अनुच्छेद 370 एक अस्थायी उपाय है लेकिन अगर कोई बदलाव लाना है तो यह जम्मू कश्मीर के लोगों की सद्भावना के साथ होना चाहिए। लेकिन जिस तरह इसे लागू किया गया था, उसका हमने विरोध किया था।

चुनावों के लिए अपने उम्मीदवारों के प्रचार प्रसार में लगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को भाजपा उम्मीदवार नरेंद्र मेहता के पक्ष में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए राफेल विमानों की ताकत के बारे में लोगों को बताते हुए बालाकोट एयर स्ट्राइक को लेकर बड़ा बयान दिया है। रक्षा मंत्री ने कहा कि अगर भारत के पास पहले से राफेल युद्धक विमान होते तो भारतीय वायुसेना को आतंकी अड्डो पर निशाना बनाने के लिए पाकिस्तान के बालाकोट में घुसने की जरूरत नहीं होती।

राजनाथ सिंह ने कहा कि अगर हमारे पास राफेल युद्धक विमान होते तो हमें बालाकोट में घुसने और हमला करने की आवश्यकता नहीं होती। राफेल विनामों के चलते हम भारत में बैठकर बालाकोट में हमला कर सकते थे और वहां चल रहे आतंकी अड्डो को आतंकवादियों के साथ ही नष्ट कर सकते थे। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि ऐसे खतरनाक लड़ाकू विमान केवल आत्मरक्षा के लिए हैं न कि आक्रमण के लिए।

आपको बता दें कि राफेल विमानों की पूजा करने पर विरोध करने वालों को राजनाथ सिंह ने करारा जवाब दिया था, जिसमें उन्होंने कांग्रेस के नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा था कि विमान पर ऊं लिख दिया तो विपक्ष ने इस पर भी विवाद पैदा कर दिया है, कांग्रेस हर बार बिना सोचे समझे आरोप लगाती है और वहीं एक चुनावी सभा में बोलते हुए  राजनाथ सिंह ने सभा में आए लोगों से ये भी कहा था कि मैं आप लोगों से पूछना चाहता हूं कि क्या आपके घरों में ऊं नहीं लिखा होता।

साल 2019 में फिर चुनावी बिगुल फूकने की तैयारी में है पक्ष-विपक्ष । जिसके लिए आज पीएम मोदी खुद महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए महाराष्ट्र के जलगांव में एक चुनावी रैली को संबोधित करने पहुंचे । इस दौरान पीएम मोदी ने बीते वर्षों की उपलब्धियां गिनाई और कहा कि, 'बीते 5 वर्षों के हमारे काम से यहां विपक्षी भी हैरान और परेशान हैं। हमारे विरोधी भी आज ये मान रहे हैं कि भाजपा-शिवसेना गठबंधन का नेतृत्व कर्मशील भी है और ऊर्जावान भी है' ।

वहीं पीएम मोदी ने अनुच्छेद 370 मामले में कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा । '5 अगस्त को आपकी भावना के अनुरूप भाजपा- NDA सरकार ने एक अभूतपूर्व फैसला लिया। जिसके बारे में सोचना तक पहले असंभव लगता था'।  पीएम मोदी ने कहा, 'एक ऐसी स्थिति जिसमें जम्मू कश्मीर के गरीब की, बहन-बेटियों की, दलितों और शोषितों के विकास की संभावनाएं नहीं के बराबर थी'।  नरेंद्र मोदी ने कहा, 'जम्मू कश्मीर और लद्दाख सिर्फ जमीन का एक टुकड़ा नहीं है, वे मां भारती का शीष है, वहां का कण-कण भारत की शक्ति को मजबूत करता है' ।

पीएम मोदी ने कहा कि बीते कुछ महीनों में कांग्रेस-एनसीपी के नेताओं के बयान देख लीजिए। जम्मू-कश्मीर को लेकर जो पूरा देश सोचता है, उससे एकदम उल्टा इनकी सोच दिखती है।इनका तालमेल पड़ोसी देश के साथ मिलता जुलता है। पीएम ने कहा कि, 'आज मैं विरोधियों को चुनौती देता हूं कि आपमें अगर हिम्मत है तो इस चुनाव में भी और आने वाले चुनावों में भी अपने चुनावी घोषणा पत्र में ये ऐलान करें कि हम अनुच्छेद 370 को वापस लाएंगे । 5 अगस्त के निर्णय को हम बदल देंगे, नहीं तो ये घड़ियाली आंसू बहाना बंद करें' ।

राफेल विमानों की पूजा करने पर विरोध करने वालों को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने करारा जवाब दिया है। राजनाथ सिंह ने विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि सालों से चली आ रही भारतीय संस्कृति और परंपरा का पालन करना कोई गुनाह हैं क्या?

आपको बता दें कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 7 अक्टूबर को फ्रांस के दौरे पर गए थे, जहां उन्हें भारत और फ्रांस की डील के मुताबिक राजधानी पेरिस में राफेल विमान मिलने थे। इसके बाद राजनाथ सिंह को 8 अक्टूबर दशहरा के दिन पेरिस में पहला राफेल विमान मिला था, जिसके बाद उन्होंने भारतीय संस्कृति और परंपरा के तहत विमान पर ऊं लिख कर उसकी पूजा की थी। हालांकि विमानों की पूजा करने की बात कुछ लोगों को रास नहीं आई, जिसके चलते लोगों ने इस पर सवाल उठाने शुरु कर दिए थे।

इसका जवाब देते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि विमान पर ऊं लिख दिया तो विपक्ष ने इस पर भी विवाद पैदा कर दिया है। रक्षा मंत्री ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस हर बार बिना सोचे समझे आरोप लगाती है। एक चुनावी सभा में बोलते हुए  राजनाथ सिंह ने सभा में आए लोगों से कहा कि मैं आप लोगों से पूछना चाहता हूं कि क्या आपके घरों में ऊं नहीं लिखा होता।

जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचीव रोहित कंसल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी है कि राज्य में पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवाएं सोमवार से बहाल कर दी जाएंगी और साथ ही साथ आने जाने पर भी पूरी तरह से पाबंदी हटा ली गई हैं। सोमवार दोपहर 12 बजे से मोबाइल सेवाओं पर लगी पाबंदी को हटा लिया जाएगा।

इस बात की जानकारी देते हुए रोहित कंसल ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर में हालात ठीक हो रहे हैं, और इसी को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने पोस्टपेड मोबाइल सेवाएं बहाल करने का फैसला लिया है। कंसल ने आगे कहा कि हिरासत में बंद नेताओं को एक प्रक्रिया के तहत रिहा किया जा रहा हैं।

बता दें कि केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष राज्य का दर्जे को खत्म दिया था। केंद्र सरकार ने इस पर कहा था कि इस फैसले से राज्य की जनता की स्थिति और बेहतर होगी साथ ही केंद्र सरकार की योजनाओं का सीधा लाभ मिल सकेगा।

इस फैसले की गंभीरता को देखते हुए सरकार ने साथ ही कई अहम अन्य कदम भी उठाए थे, जिसमें भारी संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती की गई, मोबाइल फोन और इंटरनेट सेवाओं पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई थी और राज्य के नेताओं को नजरबंद कर दिया गया था।

ये सभी कदम उठाने के पीछे सरकार ने कारण बताते हुए कहा था कि ऐसे हालातों में नेताओं की बयानबाजी से स्थिति और भी बिगड़ सकती है, साथ ही साथ फोन सेवाओं और इंटरनेट सेवाओं का आतंकवादी गलत इस्तेमाल कर सकते हैं, जिससे ये कदम उठाने जरुरी है। सुरक्षा के चलते राज्य में स्कूल और कॉलेजों को भी बंद कर दिया गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वच्छता को लेकर कितने सजग है, ये इस बात से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि वो महाबलीपुरम (ममल्लापुरम) में बीच पर पहुंचकर वहां की खुद ही सफाई करने लगे। यहां समुद्र तट पर प्‍लास्टिक (Plastic) का कचरा फैला देख प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे साफ करने का बीड़ा उठाया और उन्‍होंने खुद प्‍लास्टिक के इस कूड़े को उठाकर बीच को साफ किया।

 

आपको बता दें कि इस तरह प्रधानमंत्री मोदी ने सिंगल यूज प्लास्टिक (SUP) को लेकर देशभर में चलाई गई अपनी मुहिम को बल दिया। पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर बाकायदा इसका वीडियो भी शेयर किया। इस वीडियो में पीएम नरेंद्र मोदी समुद्र तट पर फैले हुए प्‍लास्टिक की खाली बोतलों और अन्‍य कचरे को एकत्र करते दिखे। उन्‍होंने करीब आधे घंटे तक बीच पर सफाई अभियान चलाया।

प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में ये भी बताया कि इस कचरे को उठाने के बाद उन्‍होंने इसे होटल स्‍टाफ जयराज को सौंप दिया। पीएम नरेंद्र मोदीने स्‍वच्‍छता का संदेश देते हुए कहा कि हम यह सुनिश्चित करें कि हमारे सार्वजनिक स्थान साफ-सुथरे रहें। आइए हम यह भी सुनिश्चित करें कि हम फिट और स्वस्थ रहें।

चुनावों को लेकर पहले खबर आ रही थी कि देश की राजधानी दिल्ली और झारखंड में विधानसभा के चुनाव एक साथ होंगे। हालांकि अब मिल रही जानकारी के मुताबिक दिल्ली विधानसभा चुनाव और झारखंड विधानसभा चुनाव एक साथ नहीं होंगे। सूत्रों से मिल रही खबरों की मानें तो दिल्‍ली में विधानसभा चुनावों की तारीख की घोषणा अगले साल जनवरी के महिने में होगी, जबकि मतदान फरवरी में होगा।

2015 हुए दिल्ली विधानसभा के चुनावों में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी ने बड़े बहुमत से जीत हासिल की थी, जिसमें AAP पार्टी दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में से 67 सीटों पर जीत हासिल करने में कामयाब हुई थी और वहीं भाजपा केवल तीन विधानसभा सीटें जीतने में ही कामयाब हो पाई थी।

आपको बता दें कि दिल्ली विधानसभा का कार्यकाल फरवरी 2020 में पूरा हो रहा है और खबरों की माने तो चुनाव आयोग इस साल के अंत में दिल्ली के चुनाव को लेकर घोषणा कर सकता है।

2020 में दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर AAP पार्टी और BJP पार्टी के बीच मुकाबला देखने को मिल सकता है।

केंद्र सरकार की तरफ से देश के 6 करोड़ किसानों के लिए अच्छी खबर है। कागजों और आधार की समस्याओं से झूंझ रहे किसानों को बड़ी राहत देते हुए केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में बड़ा फैसला लिया गया है। सरकार ने इसी साल में 30 नवंबर तक पीएम किसान सम्मान निधि की अगली किस्त किसानों के खातों में डालने का फैसला किया है।

बुधवार को हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में किसानों को लेकर फैसला लिया गया है जिसमें पीएम किसान सम्मान निधी के तहत हर किसान परिवार के खाते में हर साल 6000 रुपए जमा किए जाने को लेकर सहमति जताई गई है, साथ ही साथ 6000 रुपए में से नवंबर अंत तक 6 करोड़ किसानों के खाते में 2000 रुपए जमा होंगे। प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत छह हजार रुपए का लाभ लेने के लिए आधार जोड़ने की समयसीमा 30 नवंबर तक बढ़ा दी गई है।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधी की अगली किस्त में जो भी देरी हुई है वह कागजों की गड़बड़ी और किसानों बैंक खातों को आधार से नहीं जोड़े जाने की वजह से हुई है, लेकिन अभी परेशान होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि अगली किस्त को लेकर खाता अगर अभी भी आधार से जुड़ा नहीं होगा तो भी 30 नवंबर तक किसानों के खातों में किस्त आ जाएगी।

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग (Xi Jinping) 11 अक्टूबर को दो दिन के दौरे के लिए भारत आ रहे हैं। दो दिनों की यात्रा के दौरान चिनफिंग चेन्‍नई में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ एक बार फिर से अनौपचारिक शिखर वार्ता के कार्यक्रम में शामिल होंगे। यह शिखर वार्ता चेन्‍नई के शहर मामल्लापुरम में होगी।

विदेश मंत्रालय ने बुधवार को चीन के राष्‍ट्रपति के कार्यक्रम को लेकर जानकारी दी। मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री के आमंत्रण पर शी चिनफिंग अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए 11 -12 अक्टूबर 2019 को भारतीय दौरे पर रहेंगे और चेन्‍नई के शहर मामल्लापुरम में शिखर वार्ता के लिए होने वाले कार्यक्रम में शामिल होंगे।

घोषणा के बाद मंत्रालय ने कहा कि शिखर वार्ता के दौरान भारत-चीन एक दूसरे की विकास साझेदारी को गहरा करने पर बातचीत करेंगे। शिखर वार्ता दोनों नेताओं को द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक महत्व के विस्तृत मुद्दों पर बातचीत करने का अवसर प्रदान करेगी।

गौरतलब है कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग के भारत दौरे से पहले विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि गेंग शुआंग ने मंगलवार को कश्मीर मुद्दे को लेकर बड़ा बयान दिया है, उन्होंने कहा कि कश्मीर भारत-पाकिस्तान के बीच दो देशों का मुद्दा है और दोनों देशों को आपसी बातचीत से इसको सुलझाने की जरुरत है।

जम्मू-कश्मीर को अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बनाने की कोशिशों में पाकिस्तान को एक बार फिर से बड़ा झटका मिला है। यह झटका किसी और देश ने नहीं बल्कि खुद उसी के मित्र देश चीन ने दिया है। कश्मीर मुद्दे को लेकर बीजिंग पहुंचे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान  को चीन ने जोरदार झटका देते हुए पीठ दिखा दी है।

लगातार कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का साथ दे रहे चीन ने अपने स्टैंड से यू-टर्न लेते हुए कश्मीर को भारत-पाकिस्तान के बीच दो देशों का मुद्दा माना है। बता दें कि कश्मीर का एजेंडा फैलाने वाले पाकिसतान को हर जगह से आपसी बातचीत की नसीहत दी गई है, ठीक ऐसा चीन ने भी कहा कि दोनों देशों को आपसी बातचीत से इसको सुलझाने की जरुरत है। चीन के विदेश मंत्रालय ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भारत दौरे से पहले ये बड़ा ही चौंकाने वाला बयान दिया है। 

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि गेंग शुआंग ने मंगलवार को कश्मीर मुद्दे को लेकर कहा कि चीन ने भारत और पाकिस्तान से आपसी विश्वास बढ़ाने और संबंधों को सुधारने के लिए कश्मीर सहित सभी विवादों पर बातचीत को मजबूत करने की मांग की है। यह भारत और पाकिस्तान दोनों के साझा हितों के तहत है और देशों और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की अपेक्षा है।

आपको बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री  चीन के दौरे के लिए मंगलवार को बीजिंग पहुंचे थे। इमरान खान के साथ उनके प्रतिनिधिमंडल के मंत्री भी मौजूद थे। वे यहां चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और अपने समकक्ष ली क्यांग के साथ क्षेत्रीय और द्विपक्षीय मुद्दों के साथ-साथ कश्मीर मुद्दे को लेकर बातचीत करने पहुंचे है।

गौरतलब है कि अगस्त 2018 में प्रधानमंत्री बनने के बाद इमरान खान की यह तीसरी अधिकारिक चीन यात्रा थी। इससे पहले वे इसी साल अप्रैल में दूसरी बेल्ट एंड रोड फोरम में शामिल होने और चीन के नेतृत्व से सीपीईसी के विस्तार पर चर्चा करने के लिए गए थे। उनकी पहली आधिकारिक चीन यात्रा नवंबर 2018 में हुई थी।

Indian Air Force Day: आज भारतीय वायुसेना का 87वां स्थापना दिवस है। इस मौके पर आज ग़ाज़ियाबाद के हिंडन एयरफ़ोर्स स्टेशन पर भारतीय वायुसेना ने अपनी ताक़त को दिखाया। इस कार्यक्रम में भारतीय वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कई दूसरे देशों के सैन्य अधिकारी भी शामिल हुए। पाकिस्तान के F-16 विमान को उसी के घर में घुसकर मात देने वाले विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने जब अपनी ताकत का प्रर्दशन करते हुए मिग-21 (MiG-21) विमान को उड़ाया किया तो कार्यक्रम में शामिल होने वाले सभी लोगों ने इसका आनंद उठाया साथ ही साथ पूरा एयरबेस तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा।

आपको बता दें कि विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तान के F-16 विमान को मात दी थी, जो टेक्नोलॉजी के मामले में MiG विमानों से काफी ज्यादा शक्तिशाली है। इसी बहादुरी के लिए वायुसेना ने कमांडर अभिनंदन को सम्मानित भी किया था। एयरफोर्स डे पर आज अभिनंदन ने 3 मिग-21 विमानों के साथ उड़ान भरी। उनका नेतृत्व वीर चक्र से सम्मानित अभिनंदन कर रहे थे। जैसे ही अभिनंदन के फ्लाई पास्ट की घोषणा हुई पूरा एयरबेस तालियों की आवाज से गुंज उठा।

कार्यक्रम को शुरू करने से पहले एयरफोर्स के प्रमुख राकेश भदौरिया ने संबोधित भी किया जिसमें उन्होंने शहीद जवानों को याद किया और साथ ही साथ एयरफोर्स द्वारा हासिल की गईं विभिन्न उपलब्धियों से भी अवगत कराया।

इस कार्यक्रम में मिग विमान के अलावा तेजस, सारंग हेलिकॉप्टर, सुखोई और ग्लोबमास्टर जैसे घातक विमानों ने हवा में कई तरह के करतब कर लोगों का  मनोरंजन किया। इस खास मौके का लुप्त उठाने के लिए यहां दर्शकों के बैठने का इंतजाम भी किया गया। एयर शो में टीम सारंग ने आसमान पर दिल की आकृति बनाकर आए दर्शकों का दिल जीता।

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 7 अक्टूबर को तीन दिनों की यात्रा के लिए फ्रांस रवाना होंगे, साथ ही साथ राजनाथ सिंह 8 अक्टूबर को विजय दशमी के दिन फ्रांस मे शस्त्र पूजन भी करेंगे। राजनाथ फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमान लाने जा रहे हैं।

बता दें कि 2016 में भारत ने फ्रांस के साथ करीब 58 हजार करोड़ रुपये में 36 लड़ाकू विमान खरीदने के लिए डील साइन की थी, जिसके चलते भारत को पैरिस में 8 अक्टूबर को पहला राफेल विमान मिलेगा। विमान मिलने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उसी दिन राफेल में फ्रांसीसी एयरफोर्स के बेस पर से उड़ान भी भरेंगे। 8 अक्टूबर को भारतीय वायुसेना के स्थापना दिवस पर भारत को पहला राफेल लड़ाकू विमान सौंपा जाएगा।

डील के अनुसार फ्रांस को भारत को 36 लड़ाकू विमान सौंपने है। इसको लेकर होने वाले कार्यक्रम में फ्रांस के सर्वोच्च सैन्य अधिकारियों के साथ-साथ राफेल विमान की कंपनी के वरिष्ट अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। ये सभी विमान बड़ी मात्रा में शक्तिशाली हथियार और मिसाइल आसानी से ले जाने में सक्षम होंगे। इसके बाद राजनाथ सिंह सर्वोच्च सैन्य अधिकारियों से दोनों देशों की रक्षा और सुरक्षा को लेकर बात करेंगे।

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में बड़ा रेल हादसा टला, जब लखनऊ-आनंद विहार डबल डेकर ट्रेन के 2 डिब्बे पटरी से उतर गए। राहत की बात यह हे कि इस हादसे में किसी भी यात्री के हताहत होने की खबर नहीं है, लेकिन इस घटना के बाद ट्रेन में बैठे यात्रियों में हड़कंप मच गया, जिसके बाद सभी यात्रियों को ट्रेन से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है और साथ ही साथ मुरादाबाद रेल मंडल और बचाव दल सहित स्थानीय पुलिस को भी घटना के बारे में जानकारी दी गई।

जानकारी के मुताबिक लखनऊ से दिल्ली के आनंद विहार टर्मिनल को जाने वाली डबल डेकर ट्रेन मुरादाबाद से गुजर रही थी और इसी दौरान ट्रेन के दो डब्बों के पहिए पटरी से उतर गए, बताया जा रहा है कि आपातकालीन ब्रेक लगाने से बड़ा हादसा टल गया।

आपको बता दें यह पहली बार नहीं है जब रेल की घटना सामने आई है, अभी बीते शनिवार को भी मुरादाबाद रेल मंडल के धनेटा में से गुजर रही एक मिलिट्री स्पेशल ट्रेन का एक डिब्बा पटरी से उतर गया था, जिसकी जानकारी मिलने पर रेल प्रशासन में हड़कंप मच गया था। घटना के बाद ही ट्रेनों का संचालन को बंद करा दिया गया था। ऐसे में पिछने 24 घंटों में यह ट्रेन के पटरी से उतरने की दूसरी घटना सामने आ रही है।

ट्रेन के पटरी से उतरने के बाद संचालन कई घंटे तक बंद रहा। रेल प्रशासन के घंटों प्रयासो के बाद संचालन फिर से शुरु किया गया, साथ ही साथ प्रबंधन ने इस पूरी घटना की जांच के लिए आदेश भी दिए है।

केंद्र सरकार ने बिहार और कर्नाटक में जबरदस्त बारिश और बाढ़ से हुए भारी नुकसान को ध्यान में रखते हुए वहां की स्थिति को बेहतर करने के लिए इन दोनों राज्यों के लिए करीब 1813.75 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता को लेकर शुक्रवार को मंजूरू दे दी है। गृह मंत्री अमित शाह ने बाढ़ की चपेट में चल रहे सभी राज्यों में राहत और बचाव की समीक्षा करने के बाद ज्यादा से ज्यादा वित्तीय मदद को मंजूरी दी।

वित्तीय मदद को लेकर गृह मंत्रालय ने एक ब्यान जारी करते हुए कहा कि बाढ़ की वजह से हुए भारी नुकसान के चलते बिहार और कर्नाटक के राज्य आपदा कोष खातों में गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय आपदा राहत से बिहार के लिए करीब 400 करोड़ और कर्नाटक के लिए 1200 करोड़ रुपये की पहली राशि जारी करने की इजाजत दी।

आपको बता दें कि बिहार और कर्नाटक ने केन्द्र को SDRF खाते में धन की कमी होने की जानकारी दी थी, जिसके बाद केन्द्र सरकार बारिश और बाढ़ से प्रभावित लोगों को मदद पहुंचाने में समर्थ हुआ।

इन दोनों राज्यों ने National Disaster Response Fund से अग्रिम वित्तीय सहायता को लेकर राशि जारी करने का अनुरोध किया था। बिहार ने साल 2019-20 के लिए  State Disaster Response Fund को लेकर भारी नुकसान के चलते  केन्द्र के हिस्से की दूसरी किस्त की अग्रिम राशि जारी करने का भी अनुरोध किया था। इसी को लेकर अमित शाह ने साल 2019-20 के लिए बिहार को SDRF के लिए केन्द्र द्वारा करीब 213.75 करोड़ रुपये की दूसरी किस्त की अग्रिम राशि जारी करने को लेकर मंजूरी दी।

मध्य प्रदेश के रामनगर कस्बे में बसा एक गांव जो आज भी महात्मा गांधी के सिखाए पाठ पर चल रहा है। आजादी की प्रथा को बनाए रखने वाले इस गांव के लगभग हर घर में आज भी चरखे का प्रयोग किया जाता है। चरखे का इस्तेमाल करना इनकी जरूरतों को पूरा करना और स्वतंत्र भारत की प्रथा को आगे बढ़ाना है। वहीं यहां के लोगों का कहना है कि उनके बुजुर्गों ने महात्मा गांधी से सभी पाठ सीखे और उन्हें विरासत में दे गए। कई तरह की समस्याओं से जूंझ रहा ये गांव आज भी इस परम्परा को बनाए हुए है।

यहां की आबादी लगभग साढ़े 3 हजार है, जहां हर घर से चरखे के चलने की आवाज आज भी सुनाई देती है। इस गांव की यह परम्परा महात्मा गांधी के सिखाए पाठ की वजह से है। लाखों परेशानियों से जूझने के बाद भी यहां के लोगों ने सालों से चली आ रही प्रथा को बनाए रखा है।

आपको बता दें कि जिस आजाद भारत का सपना महात्मा गांधी ने देखा था उसकी देखभाल के लिए आज भी यह गांव एकजुट होकर उसका पालन पोषण कर रहा है। चरखे से कपड़े और कम्बल तैयार करके बहार जाकर बैचते है। चरखा चलाकर सूत कातने का काम घर की महिलाओं का होता है, जो घर के बाकि काम निपटाकर खाली बचे समय में चरखे से सूत तैयार करती हैं। इसके बाद का काम घर में पुरूषों का होता है, जो इस सूत से कम्बल और बाकि चीजें बुनने का काम करते हैं।

सरकार से सहायता मिलने की जगह यह गांव अपने बजुर्गों की परम्परा के चलते रोजगार के लिए इसी का प्रयोग करता है। हालांकि अब यह विरासत बहुत ही कमजोर होने लगी है, जिसका मुख्य कारण यह है कि कई दिनों तक चरखा कातने और बुनने के बाद भी इन लोगों को पूरी मजदूरी तक नहीं मिल पाती है। गांव में हर परिवार में रह रहे बच्चों का भी सालों से चली आ रही प्रथा को लेकर सवाल करने का मन करता है।

सरकार की योजनाओं से अछूता यह गांव आज भी अपनी जरूरतों को लेकर सहायता की गुहार कर रहा है। यहां बसे लोगों के पास चरखा चलाने के अलावा कोई रोजगार नहीं है। ग्रामीणों का मानना है कि अगर सरकारी सहायता से यही काम मशीनरी उपकरणों से करें तो ना सिर्फ पूरी मजदूरी मिलेगी बल्कि इनकी गरीबी भी दूर होगी।

लगातार कई तरह की समस्याओं का सामना करने वाले इस गांव के लोग आज भी चरखे की परम्परा और गाँधी जी की प्रथा को लेकर बहुत खुश है और गर्व के साथ इस परम्परा को जीवित किए हुए हैं। इसलिए नहीं कि इनकी जरूरत है, बल्कि इसलिए क्योंकि इनके बुजुर्गों ने जो पाठ महात्मा गांधी से सीखा था उसे पूरा करने का जिम्मेदारी इनके कंधों पर है, जिसे यहां के लोग हमेशा निभाते रहेंगे।

कश्मीर विवाद के लिए कांग्रेस पार्टी को पूरी तरह से जिम्मेदार ठहराते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को अनुच्छेद 370 हटने की आलोचना करने वालों को लताड़ लगाई है। अमित शाह ने सालों से चली आ रही जम्मू कश्मीर की समस्या को लेकर एक बार फिर से जवाहरलाल नेहरू पर निशाना साधा है। अमित शाह ने कहा कि कश्मीर के मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र में लेकर जाना नेहरू की सबसे बड़ी भूल थी।

शाह ने कहा कि जवाहरलाल नेहरू द्वारा चार्टर 35 को UN मे लेकर जाना सबसे बड़ी गलती थी और गलत प्रचार के चलते अनुच्छेद 370 कई सालों तक चला। उन्होंने आगे कहा कि नेहरू को संयुक्त राष्ट्र में इसके साथ नहीं बल्कि घुसपैठ चार्टर के साथ जाना चाहिए था। अपने दावों को बताते हुए शाह ने आगे कहा कि चार्टर 35 ने इसे दो देशों के बीच एक संघर्ष बना दिया, जबकि चार्टर 51 ने हमें हमारी भूमि पर कब्जा करने वाले विदेशी राष्ट्र के मामले को लेकर काफी मदद की।

शाह ने आरोप लगाते हुए यह भी कहा कि कश्मीर के इतिहास की सच्चाई को भी छिपाया गया है, जिसके चलते हमें आज तक इसके सही-सही तथ्य नहीं मिल पाए है क्योंकि इसका इतिहास लिखने वाले वहीं लोग है जिन्होंने इसकी समस्या पैदा की थी। सरदार पटेल ने कितनी आसानी से 565 से ज्यादा रियासतों को भारत में शामिल किया था, लेकिन कश्मीर का भार नेहरू के हाथ में था, जिससे समस्याएं पैदा हुई।

अमित शाह ने कहा कि अब समय आ गया है कि इतिहास लिखा जाए और लोगों तक पहुंचाया जाए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगभग सात दिन के लंबे अमेरिका दौरे के बाद शनिवार को वापस भारत लौट आए है। अमेरिका दौरे से आते ही पीएम मोदी का जोरदार स्वागत किया गया। अमेरिका में उन्होंने कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया, जिसकी शुरुआत “हाउडी मोदी” कार्यक्रम से हुई। इस कार्यक्रम में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी शामिल हुए। जैसे-जैसे दौरा आगे बड़ा प्रधानमंत्री मोदी ने कई कार्यक्रमों को संबोधित किया जिनमें संयुक्त राष्ट्र महासभा भी शामिल था।

विदेशी मामलों से जुड़े मंत्री डॉ.एस.जयशंकर ने पीएम मोदी के अमेरिका दौरे के बारे में लिखते हुए कहा कि लगभग एक सप्ताह में अमेरिका दौरे में प्रधानमंत्री मोदी ने नए भारत, भारत की नीतियों और आतंकवाद को खत्म करने को लेकर जबरदस्त भाषण दिया। साथ ही साथ 41 विदेशी नेताओं से मुलाकात की और कई बैठकों में हिस्सा भी लिया।

प्रधानमंत्री मोदी के इस दौरे से विश्व को भारत पर और भी ज्यादा भरोसा हो गया है। वहीं दौरे से विश्व भर में रह रहे लोगों को यह भी पता चल गया है कि भारत ने जब-जब दुनिया के साथ हाथ मिलाने की कोशिश की है उसे दुनिया का पूरा साथ मिला है।

UNGA में अपने कार्यक्रम को समाप्त करने के बाद पीएम मोदी ने ट्रंप और अमेरिका के लोगों को इतने शानदार स्वागत के लिए धन्यवाद दिया। लगभग 50 हजार लोगों को संबोधित करने वाले हाउडी मोदी कार्यक्रम को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि मैं यह कभी भी नहीं भूल पाउंगा और ट्रंप के आने से यह कार्यक्रम और भी खास बन गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में अपना भाषण देने जा रहे हैं। पीएम मोदी के भाषण के कुछ समय बाद पाकिस्तान के पीएम इमरान खान भी उसी मंच पर अपना भाषण देंगे, लेकिन अब खबरों के मुताबिक जब इमरान खान अपनी स्पीच दे रहे होंगे तो उस समय पीएम मोदी उन्हें सुनने के लिए वहां नहीं होंगे और उससे पहले ही वहां से चले जाएंगे।

खबरों के अनुसार पीएम मोदी लगभग 7:45 बजे सभा को संबोधित करेंगे तो वहीं ठीक 30 मिनट बाद इमरान खान का भाषण होगा।

इससे पहले पीएम मोदी ने UNGA को साल 2014 और 2015 में संबोधित किया था। इसी के साथ यह तीसरी बार होगा जब पीएम मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा में कई मुद्दो पर बात करेंगे। लोकसभा में एकतरफा जीत के साथ दोबारा पीएम चुने जाने के बाद पीएम मोदी का UNGA में यह पहला भाषण होगा।

पीएम मोदी UNGA को संबोधित करते हुए कई मुद्दों पर बात कर सकते हैं, जिनमें नए भारत की नीतियों के बारे में विश्व को बताना, सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ एक बार फिर से विश्व को सचेत करना, भारत में कई तरह की चल रही योजनाओं को लेकर तथा देश में आतंकवाद और उसको पालने वालों को चुनौति देना शामिल हैं। 2014 में UNGA को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आतंकवाद को दो हिस्सों में बांटने वाले देशों की बहुत आलोचना की थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा “फादर ऑफ इंडिया” का टाइटल मिलने पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने इस पर बड़ा ब्यान देते हुए कह है कि डोनाल्ड ट्रंप जाहिल है, लगता है कि उनको महात्मा गाँधी के बारे में कुछ भी नहीं पता है, उन्हें यह जानने की जरुरत है कि फादर ऑफ इंडिया नाम की उपाधि मात्र एक इंसान को मिली है और वो महात्मा गाँधी है। 

ओवैसी ने आगे विवादित ब्यान देते हुए कहा कि डोनाल्ड ट्रंप ने पीएम मोदी को गायक एलविस प्रेस्ली के साथ तुलना की है, यह एक दम सही बैठता है क्योंकि एलविस प्रेस्ली एक गायक थे ठीक इसी तरह मोदी भी मजमा जमाते है।

जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी हमले को अंजाम देने के प्लान को लेकर बाहरी इनपुट मिलने के बाद भारतीय वायुसेना ने अपने श्रीनगर, अवंतीपोरा, जम्मू, पठानकोट और हिंडन एयरबेस को हाई अलर्ट कर दिया है। ऐसे में हमले को नाकाम करने और सुरक्षा के लिए वरिष्ठ अधिकारी 24x7 सुरक्षा व्यवस्था की छानबीन कर रहे हैं। एजेंसियों ने जैश के आतंकी हमले के गतिविधियों पर नजर रखने के बाद अलर्ट जारी किया है। खुफिया एजेंसियों ने 8-10 जैश-ए-मोहम्मद के एक मॉड्यूल के खिलाफ चेतावनी जारी की है, जो जम्मू और कश्मीर के आसपास और वायुसेना के ठिकानों के खिलाफ आत्मघाती हमले को अंजाम देने की कोशिश करेंगे।

आपको बता दें कि इससे पहले खबर आई थी की पाकिस्तान की देख-रेख वाला आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा के सलाहकार अजित डोभाल पर हमले की पूरी तैयारी कर ली है और इसको जल्द ही अंजाम भी देने वाले है। इसी खबर को पक्का करते हुए एक विदेशी खुफिया एजेंसी से मिले इनपुट के अनुसार यह पता चला था कि इस हमले को सफल बनाने के लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI का एक मेजर इसमें जैश की पूरी मदद कर रहा है।

जम्मू-कश्मीर से भारत सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान की तरफ कई तरह की नाकाम कोशिशें देखने को मिल रही है और इसके विरोध में आतंक को पनाह देने वाला पाकिस्तान हर दिन किसी अन्य देश के सामने हाथ फैला कर कश्मीर मुद्दे को लेकर मदद की भीख मांग रहा है। हालांकि पाकिस्तान को अभी तक हर जगह से मुँह की खानी पड़ी है।

विदेशी खुफिया इनपुट है कि जैश आतंकी संगठन में पाकिस्तानी आतंकवादी शमशेर वानी और सरगना के बीच हमले को अंजाम देने को लेकर बातचीत हुई है। वहीं खबरों के अनुसार ये आतंकी सितंबर में भारत में एक बड़े हमले की तैयारी कर रहे है।

एजेंसियों द्वारा जो भी तथ्य मिले है उसके मुताबिक जिन शहरों में आतंकी हमले होने का खतरा है उन शहरों में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और साथ ही साथ जाँच पड़ताल की जा रही है।

ह्यूस्टन में 'हाउडी मोदी' समारोह को पीएम मोदी ने संबोधित किया । जिसके लिए कई खास तैयारियां की गई थी । वहीं इस खास मौके में पीएम मोदी ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मौजूदगी में पाकिस्तान का बिन नाम लिए आतंकवाद मुद्दे को लेकर जमकर निशाना साधा । पीएम मोदी ने कहा कि, जम्मू-कश्मीर में धारा 370 लगाने के बाद से कुछ लोगों को कुछ ज्यादा दिक्कतें होनी शुरू हो गई है । वहीं पीएम मोदी ने पाकिस्तान के पीएम इमरान खान पर निशाना साधते हुए कहा कि, कुछ ऐसे लोगों को भी दिक्कतें होनी लग गई हैं जिनसे अपना ही देश नहीं संभल रहा है ।

पीएम मोदी ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि, 'ये वो लोग हैं जो अशांति चाहते हैं, आतंक के समर्थक हैं और आतंक को पालते-पोसते हैं। उनकी पहचान सिर्फ आप ही नहीं, पूरी दुनिया अच्छे से जानती है। अमेरिका में 9/11 हो या मुंबई में 26/11 हो उसके साजिशकर्ता कहां पाए जाते हैं? अब समय आ गया है कि आतंकवाद और उसे बढ़ावा देने वालों के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़ी जाए' । पीएम मोदी ने कहा कि, आतंक के खिलाफ लड़ाई में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पूरी मजबूती के साथ खड़े हुए हैं ।

 इस मौके पर पीएम मोदी ने धारा 370 के मुद्दे पर कहा कि, 'देश के सामने 70 साल से एक चुनौती थी, जिसे कुछ दिन पहले भारत ने इसे 'फेयरवेल' दे दिया है, ये विषय है अनुच्छेद 370 का‘ । पीएम मोदी ने कहा कि, 'अनुच्छेद 370 ने जम्मू एवं कश्मीर और लद्दाख के लोगों को विकास और समान अधिकार से वंचित रखा था। इस स्थिति का लाभ आतंकवादी और अलगाववादी उठा रहे थे। संविधान ने जो अधिकार भारत को दिए हैं, वही अधिकार अब जम्मू एवं कश्मीर को मिल गया है। वहां की महिलाओं और दलितों के साथ हो रहा भेदभाव अब खत्म हो गया है।

रविवार को पीएम मोदी ने ह्यूस्टन में 'हाउडी मोदी' को संबोधित किया । इस कार्यक्रम की प्रस्तूती भारत के समय अनुसार रात 9 बजे से शुरू हुई और 12.30 बजे तक चली । इस कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मौजूदगी में पाकिस्तान आतंकवाद पर जमकर निशाना साधा । बता दें कि, पीएम मोदी ने इस कार्यक्रम के दौरान जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाने को लेकर कहा कि, "देश के सामने 70 साल से एक चुनौती थी, जिसे कुछ दिन पहले भारत ने इसे 'फेयरवेल' दे दिया है, ये विषय है अनुच्छेद 370 का" ।

पीएम मोदी ने कहा कि, धारा 370 ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों को विकास और समान अधिकार से वंचित रखा था। इस स्थिति का लाभ आतंकवादी और अलगाववादी उठा रहे थे। साथ ही उन्होंने कहा कि, संविधान ने जो अधिकार भारत को दिए हैं, वही अधिकार अब जम्मू-कश्मीर में भी लागू होंगे। वहां की महिलाओं और दलितों के साथ हो रहा भेदभाव अब खत्म हो गया है। राज्यसभा में हमारी बहुमत नहीं है, इसके बावजूद हमारे दोनों सदनों ने इस फैसले को दो तिहाई बहुमत से पारित किया है"।

पीएम मोदी ने कहा कि, "मैं यहां जोर देकर कहना चाहूंगा कि इस लड़ाई में राष्ट्रपति ट्रंप पूरी मजबूती के साथ आतंक के खिलाफ खड़े हैं।" उन्होंने कहा कि, "भारत में बहुत कुछ हो रहा है, बहुत कुछ बदल रहा है और बहुत कुछ करने के इरादे से हम चल रहे हैं। हमने नई चुनौतियों को पूरा करने की जिद ठान रखी है" ।

अमेरिकी दौरे पर ह्यूस्टन पर आज पीएम मोदी पहुंचे हैं । इस दौरान पीएम मोदी ने अमेरिकी सीईओ समेत कई भारतीय लोगों से मुलाकात की । बता दें कि, पीएम मोदी से मुलाकात कर भारतीय लोग काफी खुश हुए । वहीं इस मौके पर कश्मीरी पंडित पीएम मोदी से मिलकर काफी भावुक हो गए थे । बातचीत के दौरान कश्मीरी पंडितों के समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाले सुरिंदर कौल ने उनका हाथ चूम लिया ।

बता दें कि, कश्मीरी पंडितों ने जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाए फैसले का स्वागत करते हुए पीएम मोदी से कहा कि जम्मू कश्मीर के विकास के लिए जाने वाले हर कदम में आपके साथ हैं। हमारे युवाओं ने उन्हें वह संदेश दिए जो समुदाय ने उनके लिए तैयार किए हैं। उन्होंने इसे सहर्ष स्वीकार कर लिया। बता दें कि, पीएम मोदी के स्वागत में कश्मीरी पंडित इतने भावुक हो गए कि, उन्होंने पीएम मोदी के साथ मिलकर संस्कृत का एक श्लोक नमस्ते शरादा देवी पढ़ा ।

कश्मीरी पंडितों ने प्रधानमंत्री को जो ज्ञापन सौंपा, उसमें कश्मीर में उनके समुदाय के लोगों को फिर से बसाए जाने और कश्मीर का विकास करने का अनुरोध किया। इसके लिए उन्होंने एक सलाहकार परिषद का गठन करने की मांग की, जिसमें कश्मीरी पंडित नेताओं, विशेषज्ञों और उद्योगपतियों को शामिल किया जाए।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 से हटने के बाद घाटी के लोगों को केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओं का लाभ मिलना शुरु हो गया है। कश्मीर की स्थिति में तेजी से सुधार के चलते जम्मू-कश्मीर की पुलिस ने स्थानीय लोगों को बड़ी संख्या में पुलिस में भर्ती करने के आदेश दिए है। पुलिस ने गुरुवार को कहा है कि जल्द ही वे विभिन्न पदों के लिए लोगों की भर्ती करने वाले है, जिनमें सब-इंस्पेक्टर, महिला कांस्टेबल और स्पेशल पुलिस शामिल है। पुलिस द्वारा इन पदों के लिए भर्ती के लिए भर्ती बोर्ड का निर्माण किया गया है।

जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिर्देशक दिलबाग सिंह ने बड़ी संख्या में भर्ती के आदेश दिए है, साथ ही साथ ही उन्होनें यह भी कहा है कि अलग-अलग रैंकों के लगभग 8500 पद जैसे एसआई, महिला कांस्टेबल, कांस्टेबल और स्पेशल पुलिस जल्द ही भरे जाएगें। डीजीपी ने संबंधित पुलिस प्रबंधकों को निर्देश देते हुए कहा है कि वे इन पदों को कम से कम समय में भरे।

मंगलवार को पुलिस ने कुल 1,350 कांस्टेबलों वाली दो महिला बटालियन जुटाने का फैसला किया था। गृह मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार वितरित की गई 2 महिला बटालियनों में जम्मू और कश्मीर के सीमावर्ती जिलों के लिए 60% और दूसरे जिलों के लिए 40%  समान रुप से कुल 3503 पदों पर भर्ती की जाएगी।

आपको बता दें कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद घाटी में सुरक्षा बहुत ही ज्यादा मजबूत है, लेकिन उसके बाद भी वहां के युवा लोगों का जोश बहुत ही ज्यादा हाई है, साथ ही सेना में भर्ती होने के लिए उत्सुक है और देश के लिए कुछ करना चाहते है।

भारत में जल्द ही त्योहारों का सीजन शुरू होने वाला है, ऐसे में आम जनता के लिए महंगाई के रुप में खतरें की घंटी बज सकती है। तेल बाजार की कंपनियों ने आज लगातार चौथे दिन पेट्रोल तथा डीजल के दामों में बढ़ोतरी की है। कई ऐसे राज्य है जिनमें पेट्रोल और डीजल के दामों में भारी इजाफा हुआ है। राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 35 पैसे तथा डीजल 28 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ है। वहीं कुछ अन्य राज्यों में पेट्रोल और डीजल 34, 35, 30 प्रति लीटर महंगा हुआ है।

आपको बता दें कि साउदी अरब के तेल ठिकानों पर हमले के बाद से ही तेल के दामों में लगातार वृद्धि हो रही है। वहीं दिल्ली के अंदर पिछले 4 दिनों में पेट्रोल 1 रुपए 4 पैसे तथा डीजल 89 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया है। साथ ही साथ कोलकता, मुंबई और चैन्नई में भी तेल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है।

खबरों के अनुसार तेल के दामों में आने वाले समय में और ज्यादा बढ़ोतरी होने के आसार है, जिसके चलते बाकी वस्तुओं और सेवाओं के दामों में भी भारी असर देखने को मिलेगा। कुछ ही दिनों बाद भारत में त्योहारों का सीजन शुरू हो जाएगा जहाँ आम जनता को काफी समस्याओं का सामना कर पड़ सकता है।

GST परिषद की गोवा में होने वाली बैठक से पहले वित्त मंत्री निर्माला सीतारमण ने अर्थव्यवस्था को तेजी देने के लिए कई बड़ी घोषणाएं की है। वित्त मंत्री ने शुक्रवार को कॉर्पोरेट टैक्स को हटाने, 1 अक्टूबर 2019 के बाद बनी कंपनियों पर 15% टैक्स का प्रस्ताव किया तथा न्यूनतम वैकल्पिक टैक्स को हटाने की घोषणा की।

वित्त मंत्री सीतारमण द्वारा की गई इन घोषणाओं के बाद से ही कई जगहों पर बड़ा परिवर्तन देखने को मिला है और साथ ही साथ शेयर बाजार में भी तेजी से रफ्तार का रुख देखा गया है, जिसमें सेंसेक्स करीब 1800 अंक से भी ऊपर चला गया है। निर्माला सीतारमण ने कहा कि सरकार द्वारा “मेक इन इंडिया” में निवेश करने की कोशिश की जा रही है।

वित्त मंत्री निर्माला सीतारमण द्वारा कई बड़े एलान किए गए है, जिनमें FPI पर राजधानी गेन्स टैक्स नहीं लगेगा, बिना किसी छूट के कॉर्पोरेट टैक्स 22% होगा, 5 जुलाई से पहले के बायबैक पर 20% टैक्स नहीं लगेगा तथा STT देने वाले निवेशकों पर बढ़ा सरचार्ज नहीं लगेगा।

आपको बता दें कि इससे पहले वित्त मंत्री ने सरकारी बैंकों के लोगों के साथ क्रेडिट ग्रोथ को बढ़ाने के लिए बैठक भी की थी।

जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय जगत में मुंह की खाने के बाद पाकिस्तान नेअब UNHRC में भी अपनी फजीहत करवा लिया है। आपको बता दें कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में कश्मीर पर प्रस्ताव पेश करने का आज आखिरी दिन था, लेकिन पाकिस्तान आवश्यक समर्थन हासिल करने में असफल रहा। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ज्यादातर सदस्यों ने कश्मीर पर प्रस्ताव रखने के लिए पाकिस्तान का समर्थन करने से इनकार कर दिया।

भारत के लिहाज से यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ी कूटनीतिक जीत है। सभी प्रमुख अतंरराष्ट्रीय मंचों पर भारत मजबूती से जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 को समाप्त किए जाने को आंतरिक मामला बता चुका है।

जम्मू कश्मीर में केंद्र की बहुत सी योजनओं से अनजान लोगो को अनुच्छेद 370 हटने के बाद से भारी मात्रा में लाभ मिल रहा है। अनुच्छेद 370 हटने से पहले राज्य का हेल्थ सेक्टर इन योजनाओं को लोगों तक पहुँचाने में बहुत ही सुस्त रफ्तार से चल रहा था। 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश घोषित करने के बाद से ही इसमें कई बड़े बदलाव देखने को मिले हैं। प्रधानमंत्री जन दवाई केंद्र के उपाय जो बंद होने की कगार पर आ गए थे अब बहुत ही रफ्तार से आगे बढ़ रहे हैं।

जम्मू कश्मीर के कई अस्पतालों में लागू इस परियोजना के चलते लोगों को बहुत ही सस्तें दामों में दवाईयां उपलब्ध करवाने के केंद्र खुल गए है। साथ ही साथ लद्दाख के कारगिल और लेह राज्य के 22 जिलों के कई अस्पतालों में प्रधानमंत्री जन दवाई केंद्र खोले जा रहे है। इन सभी केंद्रो में लोगों को कई तरह की दवाईयां सस्ते दामों पर मिलेगी।

प्रधानमंत्री जन दवाई केंद्रों की बढ़ती लोकप्रियता तथा इससे मिल रही राहत के चलते निर्माता कंपनियां सस्ती दवाईयों के लिए लोगों को मरिजों का भ्रामक प्रचार भी कर रही है। इतना ही नहीं स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार जल्द ही जम्मू कश्मीर के कई बड़े अस्पतालों में कैंसर तथा अन्य बड़ी बिमारियों के लिए उपचार तथा दवाईयां उपलब्ध होंगी।

PM मोदी के अमेरिका दौरे के साथ ही एक शब्द बहुत ज्यादा चर्चा में हैं जिसका नाम है "हाउडी मोदी"। 22 सितंबर को अमेरिका के हूस्टन में PM मोदी के लिए होने वाले कार्यक्रम को हाउडी मोदी के नाम से प्रचारित किया जा रहा है। आइए आपको बताते है कि क्या है हाउडी मोदी?

दरअसल, 22 सितंबर को PM मोदी का यह कार्यक्रम जिस हूस्टन में होने जा रहा है वो दक्षिण अमेरिका के टेक्सास में स्थित है और इस शहर में हाउडी का मतलब How do you do? अर्थात कैसे है आप? होता है जिसका मतलब यह है कि मोदी जी कैसे है आप? इस कार्यक्रम में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी मौजूद रहेंगे और साथ ही साथ लोगों को संबोधित भी करेंगे।

आपको बता दें कि हूस्टन के इस कार्यक्रम में लगभग 50 हजार से ज्यादा भारतीय लोग शिरकत करेंगे। इस कार्यक्रम का उद्देश्य आने वाले भविष्य को और बेहतर बनाने पर होगा।

इस साल लोकसभा में फिर से जीतने के बाद PM मोदी का अमेरिका यह पहला अधिकारिक दौरा होगा। इससे पहले ऐसे ही दो बड़े कार्यक्रमों को मोदी 2014 और 2017 में अमेरिका मे संबोधित कर चुके हैं।

मंगलवार को पीएम मोदी का जहां जन्मदिन के तौर पर कई बड़े नेताओं ने उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी । तो वहीं उनके जन्मदिन के अगले दिन यानी बुधवार को लोकसभा चुनाव 2019 में हुई तमाम चुनावी जंग को भूल कर बंगाल की मुख्यमंत्री ने ममता बनर्जी ने उनसे मुलाकात की । इतना ही नहीं उन्होंने पीएम मोदी से मुलाकात कर उन्हें मिठाई और कुर्ता दिया साथ ही उन्होंने कई बड़े मुद्दों पर भी चर्चा की ।

पीएम मोदी से मुलाकात कर ममता बनर्जी ने उन्हें बंगाल आने का भी न्यौता दिया । ममता बनर्जी ने कहा कि पीएम के साथ चर्चा अच्छी रही है। दूसरे कार्यकाल में पीएम के रूप में कार्यभार संभालने के बाद मैं उनसे नहीं मिली थी। ममता बनर्जी ने कहा कि मैंने राज्य के लिए 13500 करोड़ रुपये की मांग की है। साथ ही राज्य का नाम परिवर्तन करना भी लंबित है। ममता बनर्जी ने अपनी इस मुलाकात को चेयर टू चेयर मीटिंग बताया ।

उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह से भी मुलाकात करने की इच्छा जाहिर की । उन्होंने कहा कि अगर अमित शाह समय दें तो मैं कल उनसे भी मुलाकात करूंगी. ममता बनर्जी ने कहा कि मैंने पीएम से आग्रह किया है कि वे दुनिया के दूसरे सबसे बड़े कोल ब्लॉक का उद्घाटन पश्चिम बंगाल में आकर करें। बता दें कि, पहले दोनों नेताओं की ये मुलाकात मंगलवार को होने वाली थी। लेकिन जन्मदिन पर पीएम मोदी के पहले से तय कार्यक्रम के कारण ये मुलाकात संभव नहीं हो पाई ।

कश्मीर के मुद्दे पर लगातार तीसरे पक्ष की मध्यस्थता करवाने वाले पाकिस्तान को एक और बड़ा झटका लगा है। यूरोपियन यूनियन(UN) के आगे भी हाथ फैलाने वाले पाकिस्तान को एक बार फिर से निराशा हाथ लगी है। यूरोपियन यूनियन ने भारत और पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर सीधे एक दूसरे से बात करने की सलाह दी है ताकि मुद्दे का हल शांतिपूर्ण तरीके से किया जा सके और किसी तरह की कोई बुरी स्थिति पैदा न हो।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर तथा मंचों पर पाकिस्तान लगातार कश्मीर मुद्दे में किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की मांग कर रहा है लेकिन विश्वभर में अधिकतर देश पाकिस्तान को अनसुना कर रहे हैं और वहीं सीधे भारत से बात करने के लिए कह रहे है।

इतना ही नहीं इससे पहले पाकिस्तान चीन के साथ मिलकर UNSC की बैठक, संयुक्त राष्ट्र तथा अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सामने कश्मीर मुद्द को लेकर हाथ फैला चुका है और इससे उसे कुछ भी हासिल नहीं हुआ है।

BJP अध्यक्ष अमित शाह ने दिल्ली में हुए एक समारोह में UPA पर निशाना साधते हुए कहा कि मुझे आज भी याद है कि 2013 तक जनता प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री नहीं मानती थी, इसके बाद जनता द्वारा 2014 में BJP की सरकार बनी जिसके बाद लोगों को प्रधानमंत्री का सही मतलब समझ में आया।

शाह ने आगे कहा कि 2013 तक देश की हालत बहुत खराब थी, शुरक्षा की किसी को नहीं पड़ी थी, महिलाओं की शुरक्षा की किसी को कोई चिंता नहीं थी, देश किस दिशा में जा रहा था किसी को इससे कोई लेना देना नहीं था। शाह ने यह भी कहा कि उस समय भ्रष्टाचार हर जगह ऐसे फैला हुआ था मानो किसी प्रकार की कोई प्रतियोगिता चल रही हो।

अमित शाह ने आगे कहा कि 2014 में आई BJP की सरकार को अब 5 साल हो चुके है और इन 5 सालों में हमने कई ऐसे फैसले लिए जिसमें जनता ने हमारा पूरा साथ दिया। हमने कोई भी फैसला जनता से वोट बटोरने के लिए नहीं किया बल्कि हमने जो भी फैसला किया वह जनता के हित में किया है।

बता दें कि मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 69वां जन्मदिन है, इसी पर अमित शाह ने PM मोदी को ट्वीट कर बधाई देते हुए लिखा….

राजधानी दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के चलते सीएम अरविंद केजरीवाल ने ऑड-ईवन स्कीम को एक बार फिर लागू करने का ऐलान किया है । बता दें कि, दिल्ली में यह नियम 4 नवंबर से 15 नवंबर के बीच लागू कर दिया जाएगा । इस बात की जानकारी सीएम अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दी । साथ ही उन्होंने जनता को यह भी संदेश दिया कि, इस दिवाली पटाखे ना जलाए ताकि आने वाले समय में प्रदूषण जैसी समस्या से बचा जा सके ।

प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, ''उड़ती धूल के लिए जगह-जगह पानी का छिड़काव करेंगे और MCD के साथ मिलकर मैकेनाइज्ड स्वीपिंग (मशीन से झाड़ू लगाना) करेंगे। दिल्ली में 12 स्पॉट पर प्रदूषण ज़्यादा है, इसके लिए कई तरह की योजनाएं तैयार की गई है जिससे प्रदुषण कम हो सके। कोई कूड़ा या पत्ती न जलाएं इसके लिए हर वार्ड में दो मार्शल नियुक्त करेंगे'' । साथ ही उन्होंने बताया कि, दिल्ली में लोगों को पेड़ लगाने के लिए प्रोतसाहित किया जाएगा, जिसे ट्री चैलेंज नाम दिया जाएगा ।

अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, ''दिल्ली में अगले 8-10 महीने में 4,000 बसें आ जाएंगी. बस एग्रीगेटर पालिसी जल्द अनाउंस करेंगे, जिससे लोग अपनी गाड़ी छोड़कर लक्ज़री बस में सफर करेंगे. बसों का रूट रैश्लाइजेशन करेंगे, जो अगले 2-3 साल में लागू होगा। लास्ट माइल कनेक्टिविटी के लिए इलेक्ट्रिक वाहन होंगे। बस की आवाजाही के लिए ऐप होंगी। एलेक्ट्रिक व्हीकल पालिसी जल्द नोटिफाई होने वाली हैं'' ।  वहीं अरविंद केजरीवाल के इस फैसले पर नितिन गडकरी ने आपत्ति जताई है । नितिन गडकरी का कहना है कि अब दिल्ली में इसकी जरूरत नहीं है । अब दिल्ली में पहले के मुताबिक काफी कम प्रदुषण हो गया है । अब देखना यह होगा कि सीएम केजरीवाल की यह योजना प्रदूषण कम करने में कितनी कारगार साबित होती है ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बार-बार सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग ना करने को अपील करना यह बताता है कि इसकी वजह से प्रर्यावरण को बहुत ही ज्यादा मात्रा में नुकशान हो रहा है। 15 अगस्त और संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में भी पीएम मोदी ने इसको प्रयोग ना करने की करी थी अपील।

क्यों ख़तरनाक है सिंगल यूज प्लास्टिक ?

इसको SUP के नाम से भी जाना जाता है। यह प्रर्यावरण के लिए एक बहुत ही ख़तरनाक चीज है। SUP प्लास्टिक का मात्र एक ही बार प्रयोग किया जा सकता है। बाकी प्लास्टिक की तुलना में यह प्रर्यावरण के लिए बहुत ही ख़तरनाक होती है क्योंकि इसको रिसाइकल नहीं किया जा सकता है। इसको कबाड़ में भी नहीं लिया जाता।

क्या है सिंगल यूज प्लास्टिक ?

प्लास्टिक की छोटी-छोटी पन्नियाँ, चाय के छोटे कप, प्लास्टिक के चम्मच, प्लास्टिक के छोटे-छोटे डिब्बें और ज्यादातर पानी की बोतलों में लगे ढक्कनों को कहा जाता है SUP. एक बार उपयोग के बाद यह किसी काम की नहीं होती। यह वही प्लास्टिक है जो प्रयोग लायक ना बच कर समुद्र, नदियों और नालों में जमा होकर इसको भारी मात्रा में गंदा कर प्रर्यावरण को नुकशान पहुँचाती है।

मोदी सरकार 2.0 के दूसरे कार्यलय में सबसे बड़े और ऐतिहासिक फैसले में से एक जम्मू कश्मीर से अनुछेद 370 हटाना है। घाटी से अनुछेद 370 खत्म करने के बाद केन्द्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि हमारा अगला एजेंडा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को भारत का अभिन्न हिस्सा बनाना है। सिंह ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुद्दे पर कहा, ‘‘यह केवल मेरी या मेरी पार्टी की प्रतिबद्धता नहीं है बल्कि यह 1994 में पी वी नरसिंह राव के नेतृत्व वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा सर्वसम्मति से पारित संकल्प है। यह एक स्वीकार्य रुख है।’’

केन्द्रीय मंत्री ने आगे कश्मीर के हलातों पर कहा, कश्मीर न तो बंद है और ना ही कर्फ्यू के साए में है, बल्कि वहां केवल कुछ पाबंदियां लगी हुई हैं। सिंह ने आगे देश विरोधी लोगों को सचेत करते हुए कहा कि उन्हें अपनी उस मानसिकता को बदलना पड़ेगा कि वे कुछ भी करके आसानी से बच निकलेंगे। आतंकियों द्वारा आम लोगों की हत्या किए जाने के बारे में उन्होंने कहा कि इसमें पाकिस्तान का हाथ है।

अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त करने पर पाकिस्तान की ओर से शुरू किये गए दुष्प्रचार अभियान पर सिंह ने कहा कि विश्व का रुख भारत के अनुकूल है। उन्होंने कहा, ‘‘कुछ देश जो भारत के रुख से सहमत नहीं थे, अब वे हमारे रुख से सहमत हैं।’’ सिंह ने कहा कि कश्मीर में आम आदमी मिलने वाले लाभों को लेकर खुश है।

जितेन्द्र सिंह ने बयान दिया कि “हमें, कश्मीर कर्फ्यू के साए में है और पूरी तरह से बंद है, जैसे बयानों की निंदा करने की जरूरत है। कश्मीर बंद नहीं है। वहां कर्फ्यू नहीं है। अगर कर्फ्यू होता तो लोगों को बाहर निकलने के लिए ‘कर्फ्यू पास’ की जरूरत होती।” उन्होंने आगे कहा कि कश्मीर में धीरे-धीरे हालात सामान्य हो रहे हैं।

 

 

कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच हमेशा से ही गरमा-गरमी का माहौल रहा है, लेकिन जम्मू-कश्मीर से अनुछेद 370 हटने के बाद से ही दोनो देशों के बीच तनाव और बढ़ गया है। इसी बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को एक बार फिर से मध्यस्थता कि बात कही है। ट्रंप ने कहा कि पिछले दो हफ्तों में दोनो देशों के बीच तनाव कम हुआ है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह बयान तब दिया जब अभी दो ही हफ्ते पहले 26 अगस्त को हुए G7 सम्मेलन के दौरान उन्होंने ट्रंप ने मध्यस्थता से इंकार कर दिया था। मोदी ने भी इस सम्मेलन की बैठक में साफ लफ्ज़ों में कहा था कि ये दिव्पक्षीय मामला है और हम किसी और देश को इस मामलें मे कष्ट नहीं देना चाहते हैं।
बता दें कि यह तीसरी बार है जब ट्रंप ने भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता कि बात कही है। 22 जुलाई को इमरान खान के अमेरिका दौरे के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने पहली बार मध्यस्थता की बात कही थी। फिर उन्होंने कश्मीर मुद्दे को लेकर यही प्रस्ताव 2 अगस्त और 23 अगस्त को भी दोहराया था।
राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा, ‘‘जैसा कि आप जानते हैं कि भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर को लेकर टकराव जारी है। मेरे दोनों देशों से अच्छे संबंध हैं। मैं उनकी मदद करना चाहता हूं और वे यह जानते हैं।’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को दो दिवसीय दौरे पर रुस के व्लादिवोस्तोक पहुंचे हैं। पीएम मोदी का ये दौरा काफी अहम रहने वाला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का व्लादिवोस्तोक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर जोरदार स्वागत किया गया। यहां उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।
इसके बाद मोदी व्लादिवोस्तोक के सुदूर पूर्वी संघीय विश्वविद्यालय (FEFU) पहुंचे, जहां भारतीय प्रवासियों ने उनका शानदार स्वागत किया। उसके बाद रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की। पीएम मोदी की ये यात्रा 4 और 5 सितंबर तक है। इस यात्रा में प्रधानमंत्री मोदी रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मसलों पर बातचीत करेंगे। मोदी भारत-रूस के 20वें सालाना शिखर सम्मेलन में भी हिस्सा लेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी अपने दो दिवसीय दौरे के लिए गुरुवार को पेरिस पहुंचें हैं, जहाँ उन्होंने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से द्विपक्षीय बातचीत की। इसी दौरान भारत के पक्ष में बोलते हुए मैक्रों ने दो टूक कहा की कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच का मामला है किसी और देश को इसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। बता दें कि अमेरिका ने कई बार कश्मीर मामले में मध्यस्थता करने की बात कही है और कई बार अपना बयान भी बदला है।

फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा कि कश्मीर में स्थिरता और शांती बने रहना भी बहुत ज़रुरी है। आगे उन्होंने बोला कि हमें उम्मीद है कि इस मुद्दे पर कोई भी तीसरा देश अपना हस्तक्षेप ना करते हुए हिंसा को बढ़ावा ना दे। मैं कुछ दिनों बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से मुलाकात करके आतंकवाद कि घटना को खत्म करने कि बात करुंगा।

इमैनुएल मैक्रों भारत और फ्रांस के मज़बूत रिश्तों के लिए कहा कि हम दोनों के बीच बहुत भरोसा है और ये भरोसा असानी से नहीं बनता। हम दोनों की साझेदारी अंतराष्ट्रीय मुद्दे पर बड़ी भूमीका निभाती है। प्रधानमंत्री मोदी ने मुझसे कश्मीर के हालात के बारे में बातचीत की और मैंने उन्हें कहा कि भारत और पाकिस्तान को आपस में मिलकर इस पर सोच-विचार कर नतीजा निकालना होगा।

भारत को लेकर उन्होंने कहा कि भारत का G-7 में उपस्थित होना जरूरी था। इसलिए हमने भारत को आमंत्रित किया था। भारत और फ्रांस ने कई मुद्दों पर साथ काम भी किया है। इसमें से पेरिस एग्रीमेंट के साथ-साथ डिजिटल तकनीक और साइबर सिक्योरिटी भी शामिल है। आगे कहा की हमारे लिए जलवायु परिवर्तन बहुत अहम मुद्दा है। हमें सभी देशों को एक साथ लेना होगा,ताकि हम पर्यावरण की सुरक्षा कर सकें।

फ्रांस के एक विशेष विमान से उड़ान भरने से पहले  प्रधानमंत्री ने कहा, 'मेरी फ्रांस यात्रा मजबूत रणनीतिक साझेदारी को दर्शाती है, जोकि दोनों देशों के लिए काफी महत्वपूर्ण है।' फ्रांस में G-7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के अलावा मोदी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और बहरीन की यात्रा भी करेंगे। मोदी की तीन देशों के लिए होने वाली पांच दिवसीय यात्रा 22 से 26 अगस्त के बीच होनी है। 

प्रधानमंत्री मोदी अपने दो दिवसीय दौरे के लिए गुरुवार को पेरिस पहुँचें हैं। जहाँ उन्होंने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से द्विपक्षीय बातचीत कि। इसी दौरान भारत के पक्ष में बोलते हुए मैक्रों ने दो टूक कहा कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच का मामला है किसी और देश को हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। बता दें की अमेरिका ने कई बार कश्मीर मामले में मध्यस्थता का काम करा है और कई बार अपना बयान भी बदला है।

फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा कि कश्मीर में स्थिरता और शांती बने रहना भी बहुत ज़रुरी है। आगे उन्होंने बोला की हमें उम्मीद है कि इस मुद्दे पर कोई भी तीसरा देश अपना हस्तक्षेप ना करते हुए हिंसा को बढ़ावा ना दे। मैं कुछ दिनों बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से मुलाकात करके आतंकवाद कि घतना को खतम करने कि बात करुँगा।

इमैनुएल मैक्रों भारत और फ्रांस के मज़बूत रिश्तों के लिए कहा कि हम दोनो के बीच बहुत भरोसा है और ये भरोसा असानी से नहीं बनता। हम दोनो की साझेदारी अंतराष्ट्रीय मुद्दे पर बड़ी भूमीका निभाती है। प्रधानमंत्री मोदी ने मुझसे कश्मीर के हालात के बारे में बातचीत कि और मैंने उन्हें कहा कि भारत और पाकिस्तान को आपस में मिलकर इस पर सोच-विचार कर नतीजा निकालना होगा।

भारत को लेकर उन्होंने कहा कि भारत का G-7 में उपस्थित होना जरूरी था। इसलिए हमने भारत को आमंत्रित किया था। भारत और फ्रांस ने कई मुद्दों पर साथ काम भी किया है। इसमें से पेरिस एग्रीमेंट के साथ-साथ डिजिटल तकनीक और साइबर सिक्योरिटी भी शामिल है। आगे कहा की हमारे लिए जलवायु परिवर्तन बहुत अहम मुद्दा है। हमें सभी देशों को एक साथ लेना होगा,ताकि हम पर्यावरण की सुरक्षा कर सकें।

फ्रांस के एक विशेष विमान से उड़ान भरने से पहले  प्रधानमंत्री ने कहा, 'मेरी फ्रांस यात्रा मजबूत रणनीतिक साझेदारी को दर्शाती है, जोकि दोनों देशों के लिए काफी महत्वपूर्ण है।' फ्रांस में G-7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के अलावा मोदी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और बहरीन की यात्रा भी करेंगे। मोदी की तीन देशों के लिए होने वाली पांच दिवसीय यात्रा 22 से 26 अगस्त के बीच होनी है।

 

कर्नाटक के सियासी नाटक को खत्म हुए अभी हफ्ते भी नहीं बीते थे कि मध्यप्रदेश में सियासी हलचल तेज हो गई। बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि कर्नाटक में कैबिनेट गठन के बाद एक 'नया मिशन' लॉन्च किया जाएगा। हाल ही कर्नाटक में कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) सरकार बहुमत साबित करने में नाकाम रही और सत्ता से बाहर हो गई।

इसके बाद बीएस येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और सोमवार को विधानसभा में बहुमत भी हासिल कर लिया। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक विजयवर्गीय से जब मध्य प्रदेश में सत्ताधारी कांग्रेस के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बयान में कहा, 'कर्नाटक में कैबिनेट गठन के बाद एक नया मिशन शुरू किया जाएगा। यह हमारी ख्वाहिश नहीं है कि सरकार गिरे, लेकिन कांग्रेस के विधायकों के भीतर अनिश्चितता का माहौल है।'

 उन्होंने कहा, कांग्रेस विधायकों का अपने नेतृत्व में बिल्कुल भरोसा नहीं है. उन्हें लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नेतृत्व बहुत अच्छा था। बीजेपी नेता ने आगे कहा कि कांग्रेस और उसकी सरकारें 'अपने ही अच्छे कामों की वजह' से गिर रही हैं। इस दौरान उन्होंने बीजेपी दफ्तर का दौरा किया और पार्टी नेताओं के साथ बैठक करने के साथ-साथ पीएम नरेंद्र मोदी का मन की बात कार्यक्रम भी सुना।

पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के बीच हुई पहली मुलाकात आजकल सुर्खियों में है। इसके सुर्खियों में आने की वजह कुछ और नहीं बल्कि कश्‍मीर मुद्दे पर ट्रंप द्वारा बोला गया झूठ है। ट्रंप ने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनकी मुलाकात के दौरान भारत-पाक की वार्ता में मध्‍यस्‍थ बनने के लिए पूछा था। जिसके जवाब उन्‍होंने हां में उत्तर दिया था। इस वार्ता का ब्‍योरा सार्वजनिक किए जाने के तुरंत बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने इसका खंडन करते हुए अपनी नाराजगी भी जाहिर कर दी। इसके बाद व्‍हाइट हाउस भी बैकफुट पर आता दिखाई दिया। भारत ने साफ कर दिया कि इस मसले में वह किसी भी तीसरे देश की मध्‍यस्‍थता मंजूर नहीं करेगा। यह द्विपक्षीय मसला है जिसको दोनों ही देशों को निपटाना होगा।

इस वार्ता के बाद अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के झूठ बोलने की सच्‍चाई एक बार फिर से उजागर हो चुकी है। यह रिपोर्ट वाशिंगटन पोस्‍ट ने फैक्‍ट चेकर (Fact Checker) नाम से जारी की थी। इसमें कहा गया कि पिछले वर्ष ट्रंप ने हर रोज करीब 17 झूठ बोले थे। यह रिपोर्ट अपने आप में बेहद चौंकाने वाली है। इस रिपोर्ट की मानें तो पहले वर्ष की तुलना में ट्रंप ने दूसरे वर्ष में कहीं अधिक झूठे बयान दिए थे। जहां तक फैक्‍ट चैकर की बात है तो आपको बता दें कि यह राष्‍ट्रपति द्वारा दिए गए बयानों का विश्‍लेषण और तथ्‍यों की पड़ताल के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचता है और रिपोर्ट जारी करता है।


राष्‍ट्रपति ट्रंप ने अपने कार्यकाल के दौरान सबसे अधिक झूठ आव्रजन के मुद्दे पर बोला है। इसके बाद विदेश नीति, व्‍यापार, अर्थव्‍यवस्‍था, नौकरियां और दूसरे मामले हैं।
ट्रंप के ताजा बयान पर भी सच्‍चाई ज्‍यादा देर तक छिपी नहीं रह सकी। डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद ब्रैड शेरमैन ने राष्‍ट्रपति के बयान पर सवाल उठाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ऐसी बात कभी नहीं कर सकते हैं।

 जानिए ट्रंप द्वारा बोले गए कुछ बड़े झूठ

  • ट्रंप ने कहा था कि पूर्व अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा अमेरिका में पैदा नहीं हुए। इसके बाद खुद व्‍हाइट हाउस द्वारा ओबामा का बर्थ सर्टिफिकेट जारी करने का भी श्रेय ट्रंप ने ही ले लिया। 2016 में उन्‍होंने माना कि पूर्व राष्‍ट्रपति अमेरिकी नागरिक हैं और उनका जन्‍म अमेरिका में ही हुआ है। इसके बाद ट्रंप ने मिशेल ओाबामा पर ये कहते हुए सवाल उठाया था कि उन्‍होंने ही ओबामा के जन्‍म को लेकर अफवाह फैलाई थी।
  • राष्‍ट्रपति चुनाव में प्रतिद्वंदी बने टेड क्रुज को लेकर ट्रंप ने कहा था कि उनके पिता पूर्व अमेरिकी राष्‍ट्रपति जॉन एफ केनेडी की हत्‍या में शामिल थे।
  • ट्रंप ने कहा कि गैर कानूनी मतदाताओं की वजह से उन्‍हें पॉपुलर वोट पाने में नाकामी हासिल हुई थी।
  • अपने बयानों में उन्‍होंने अमेरिका में बेरोजगारी की दर 5 फीसद तो कभी 24 फीसद, कभी 42 फीसद तक बताई।
  • अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में जीत के बाद ट्रंप ने कहा था कि उन्‍होंने भारी जीत हासिल की है। लेकिन हकीकत में तीन राज्‍यों में उन्‍हें हार मिली थी।
  • उन्‍होंने एफबीआई कर्मी पीटर पर अन्‍य के साथ मिलकर सरकार गिराने के लिए षड़यंत्र रचने का आरोप लगाया था। लेकिन इस बारे में कोई सुबूत हासिल नहीं हो सका।
  • एफबीआई डायरेक्‍टर जेम्‍स कॉमे को हटाए जाने को लेकर भी उनका झूठ अधिक समय तक नहीं चल सका था। उनका कहना था कि अमेरिकी अटॉर्नी जनरल और उनके डिप्‍टी की सलाह पर यह फैसला लिया गया था।
  • अपने निजी वकील माइकल कोहेन को 2018 की शुरुआत में उन्‍होंने इमानदार और शानदार इंसान बताया था लेकिन अंत तक उनके प्रति ट्रंप की राय बदल चुकी थी। एक बयान में उन्‍होंने कोहेन को कमजोर इंसान, नॉट स्‍मार्ट पर्सन तक कहा।
  • ट्रंप ने कहा कि राष्‍ट्रपति चुनाव के दौरान तत्‍कालीन राष्‍ट्रपबत ओबामा ने उनके पीछे जासूस लगाए जिससे हिलेरी क्लिंटन को जीत में मदद मिल सके।

 

 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक बयान ने भारत में सड़क से संसद तक बवाल मचा दिया है। दरअसल ट्रंप ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ बातचीत के दौरान कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कश्मीर मसले पर मध्यस्थता करने को कहा था और वह इसके लिए तैयार है। उनके इस बयान को भारतीय विदेश मंत्रालय ने सिरे से खारिज कर दिया है। भारत का साफ कहना है कि कश्मीर द्विपक्षीय मसला है और भारत इसमें किसी तीसरे पक्ष का हस्तक्षेप नहीं चाहता।

संसद में भी मंगलवार को इस मसले पर काफी हंगामा हुआ। विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री जवाब दो के नारे लगाए। विदेश मंत्री लोकसभा और राज्यसभा में सफाई दे चुके हैं इसके बावजूद विपक्ष का हंगामा जारी है। अब इसमें राहुल गांधी भी शामिल हो गए हैं। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री से पूरे मसले पर जवाब देने को कहा है। उनका कहना है कि प्रधानमंत्री को राष्ट्र को बताना चाहिए कि उनके और ट्रंप के बीच क्या बात हुई थी ?

राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा, 'राष्ट्रपति ट्रंप का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी ने उनसे कश्मीर मसले पर भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता करने को कहा। यदि यह सत्य है तो प्रधानमंत्री ने भारत के हितों और 1972 शिमला समझौते के साथ धोखा किया है। एक कमजोर विदेश मंत्रालय के इनकार से कुछ नहीं होगा। प्रधानमंत्री को देश को बताना होगा कि उनके और ट्रंप के बीच क्या बात हुई।'

 

 

इस मुद्दे पर वहाईट हाउस में भी बवाल मच गया, अमेरिकी कांग्रेस के सदस्य ब्रैड शेरमैन ने ट्रंप के बयान की निंदा करते हुए इसे अपरिपक्व और भ्रमित करने वाला बताया। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कभी ट्रंप से मध्यस्थता को लेकर आग्रह नहीं किया है। ब्रैड शेयरमैन ने ट्वीट करते हुए कहा, 'दक्षिण एशिया की राजनीति की थोड़ी सी जानकारी रखने वाले लोग भी ये बात जानते हैं कि भारत कश्मीर मामले में तीसरे पक्ष की मध्यस्थता का हमेशा से ही विरोधी रहा है। सभी जानते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी कभी कश्मीर पर मध्यस्थता का आग्रह नहीं करेंगे। ट्रंप का इस मामले में बयान अपरिपक्व, भ्रामक और शर्मिंदा करने वाला है।'

कुलभूषण जाधव मामले में अन्तर्राष्ट्रीय न्यायलय (ICJ) से फैसला आने के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के तरफ से पहली प्रतिक्रिया आई है। पाक PM  इमरान खान ने ट्वीट करके बताया कि कुलभूषण जाधव पाकिस्तान का दोषी है और अन्तर्राष्ट्रीय न्यायलय ने उसकी रिहाई पर रोक लगाकर पाकिस्तान के हक में फैसला सुनाया है। इमरान खान ने कहा ICJ के फैसले का हम स्वागत करते हैं।

 

आपको बता दें कि भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में सुनवाई के बाद जासूसी और आतंकवाद के आरोपों पर फांसी की सजा सुनाई थी। इस पर भारत में काफी गुस्सा देखने को मिला था।

वहीं दूसरी ओर, भारत ने कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) के फैसले का स्वागत किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं देश के विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने इसे ‘सच्चाई एवं न्याय' की जीत करार दिया।

इस मामले में विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह ‘ऐतिहासिक निर्णय' इस मामले में भारत के रुख को ‘पूरी तरह' मान्य ठहराता है। मंत्रालय ने कहा कि भारत कुलभूषण जाधव की जल्द रिहाई और भारत वापसी के लिए जोर-शोर से काम करना जारी रखेगा।  

उत्तर प्रदेश के बलिया जिला के बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह आए दिन हमेशा विवादित बयान देते रहते हैं। रविवार को बीजेपी विधायक ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। सुरेंद्र सिंह ने कहा है कि मुस्लिम धर्म में 50 पत्नियां रखने और 1050 बच्चे पैदा करने का चलन है। मीडिया से बात करते हुए सुरेंद्र सिंह ने कहा, "सवाल ये है कि मुस्लिम धर्म में 50 औरत रखिए और 1050 बच्चे पैदा करिए। ये कोई परंपरा नहीं है। ये जानवरी प्रवृति है।"

हाल ही में विधायक सुरेंद्र सिंह ने दावा किया था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 100 वर्ष पूर्ण होने पर 2024 में भारत हिंदू राष्ट्र घोषित हो जायेगा। विवादास्पद बयानों के कारण अकसर सुर्खियों में रहने वाले बलिया जिले के बैरिया क्षेत्र के भाजपा विधायक सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि साल 2024 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 100 वर्ष पूरे होने जा रहे हैं। पूरी संभावना है कि वर्ष 2024 में भारत हिन्दू राष्ट्र घोषित हो जाए।

 

 

आगरा के एत्मादपुर थाना सीमा के अंतर्गत चौहान गांव के पास सुबह करीब 4:30 बजे यमुना एक्सप्रेस वे पर अचानक उस समय चीख-पुकार मच गई जब सवारियों से खचा-खच बस हाईवे के बीच में बनी नाले में जा गिरी। इस दुर्घटना में 29 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि बाकि अन्य लोग घायल हो गए।

 इस घटना के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस दुर्घटना पर दुख जताया है और आगरा के डीएम एसएससी को मौके पर पहुंचने का आदेश दिया है। वहीं रोडवेज ने इस दुर्घटना के बाद रोडवेज ने मृतकों के परिजनों के लिए 5 लाख रुपए का मुआवजा भी देने का ऐलान किया है।

 

 

 



भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा आज शुरू होने जा रही है। यात्रा से जुड़ी सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं और सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। ये रथ यात्रा धार्मिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण है।

 

 

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी श्रद्धालुओं को रथ यात्रा के विशेष अवसर पर सभी को शुभकामनाएँ दी है।
PM मोदी ने कहा “हम भगवान जगन्नाथ से प्रार्थना करते हैं और सभी के अच्छे स्वास्थ्य, सुख और समृद्धि के लिए उनका आशीर्वाद चाहते हैं। जय जगन्नाथ।“

 

 

 


आपको बता दें कि इस यात्रा से जुड़ी सभी तैयारियों को समय से पूरा कर लिया गया है। किसी भी भक्त को रथ यात्रा के दैरान कोई परेशानी न हो इसके लिए सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किए गए हैं। भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा हिंदूओं के लिए धार्मिक रूप से बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है। भगवान जगन्नाथ विष्णु के 8वें अवतार श्रीकृष्ण को समर्पित है।

रथ यात्रा से पहले पुरी बीच पर रथ यात्रा की थीम पर सैंड आर्ट भी बनाई गई।

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी को जल्द ही भारत वापस लाया जा सकता है। एंटिगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने इस संदर्भ में बयान दिया है कि वह जल्द ही मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द करने वाले हैं। ब्राउन के मुताबिक, भारत की ओर से लगातार इसको लेकर दबाव बनाया जा रहा था। 

आपको बता दें कि चोकसी एंटिगुआ में रह रहा था। एंटिगुआ के प्रधानमंत्री ने कहा है कि, मेहुल चोकसी को पहले यहां की नागरिकता मिली हुई थी, लेकिन अब इसे रद्द कर, उसे भारत प्रत्यर्पित किया जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हम किसी भी ऐसे व्यक्ति को अपने देश में नहीं रखेंगे, जिसपर किसी तरह के आरोप लगे हों। 

अब एंटिगुआ में मेहुल चोकसी पर किसी तरह का कानूनी रास्ता नहीं बचा है, जिससे वह बच सके इसलिए उसका भारत लौटना लगभग तय है। 

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भारत दौरे पर आ रहे हैं। मंगलवार रात वह दिल्ली पहुंचेंगे। वह बुधवार को प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस. जयशंकर से मुलाकात करेंगे। जयशंकर पोम्पियो के लिए लंच भी होस्ट करेंगे। ईरान तेल निर्यात, पाकिस्तान में आतंकवाद और रूस के साथ एस-400 समझौते समेत कई मुद्दों पर इस दौरान बातचीत की जाएगी।  

पाकिस्तान आतंकवाद को खत्म करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा है। वह बार-बार भारत को निशाना बना रहा है। जिससे भारत की चिंता बढ़ती जा रही है। साथ ही पाकिस्तान मुंबई, पठानकोट, उरी और पुलवामा आतंकी हमलों की जांच में ना तो सहयोग कर रहा है और ना ही जांच को आगे बढ़ा रहा है। इसलिए इस मुद्दे पर भी भारत पोम्पियो से बात कर सकता है। फरवरी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी कहा था कि वह पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत द्वारा की गई जा रही कार्रवाई को समझते हैं। 

अमेरिका और तालीबान की फिलहाल बातचीत चल रही है। ताकि लंबे समय से अफगानिस्तान में चल रही अमेरिकी लड़ाई को खत्म किया जा सके। ऐसे में अफगानिस्तान को युद्धक्षेत्र बदलने के पीछे पाकिस्तान के प्रभाव पर भी बातचीत हो सकती है।


भारत अमेरिका से सेना के लिए कई उपकरण खरीद रहा है, जिसमें 24 एमएच60 सीहॉक हेलीकॉप्टर, लंबी दूरी वाला 10 पी8एलविमान, 6 अधिक अपाचे-64 हेलीकॉप्टर आदि शामिल हैं। रक्षा खरीद को आगे और बढ़ाने पर भी चर्चा हो सकती है।

हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ती सैन्य ताकत भारत और अमेरिका दोनों के लिए चिंता का विषय है। ऐसे में पोम्पियो भारत-अमेरिका की रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाने पर बातचीत कर सकते हैं।

कुछ मुद्दे ऐसे भी हैं जो भारत और अमेरिका के बीच विवाद का विषय बने हुए हैं। इन मुद्दों का हल निकालने के लिए भी इस दौरान विचार विमर्श हो सकता है। 

पोम्पियो से भारत-अमेरिकी व्यापार में चल रहे तनाव को खत्म करने की लिए बातचीत हो सकती है। हाल ही में अमेरिका ने भारत को विषेश तरजीह वाले देशों (जीएसपी सूची) की सूची से बाहर किया है। जिसके बाद भारत ने भी जवाब देते हुए अमेरिका से आयातित 28 उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ा दिया था।

अमेरिका और ईरान के बीच चल रहे टकराव के कारण ईरान का तेल निर्यात प्रभावित हो रहा है। भारत भी ईरान से तेल लेता है। लेकिन अमेरिका ने भारत सहित कई देशों को चेतावनी दी है कि अगर वह ईरान से तेल खरीदते हैं तो उनके खिलाफ भी कड़े प्रतिबंध लगा दिए जाएंगे। हालांकि अमेरिका भारत को वैकल्पिक स्त्रोत को लेकर भी विकल्प दे सकता है।  

-एच-1बी वीजा: अमेरिका द्वारा एच-1 बी वर्क वीजा पर प्रतिबंध की संभावना से भारत भी चिंतित है। इसी हफ्ते अमेरिका ने कहा है कि वह एच-1बी कार्यक्रम की समीक्षा करेगा लेकिन इससे भारत को नुकसान नहीं होगा। इसपर लिए गए किसी भी फैसले का नकारात्मक प्रभाव भारतीयों पर ना पड़े, इसके लिए भी बातचीत हो सकती है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी बार सरकार बनने के बाद ये अमेरिका के ट्रंप प्रशासन की ओर से पहला दौरा है। पोम्पियो भारत के अलावा श्रीलंका की यात्रा पर भी जाएंगे। इसके बाद वह दक्षिण कोरिया की यात्रा पर जाएंगे। फिर वह ओसाका में जी 20 सम्मेलन में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ शिरकत करेंगे।

 

आपातकाल को देश के लोकतंत्र में काले अध्याय के तौर पर याद किया जाता है। आज आपातकाल को 44 साल पूरे हो गए। 25 जून 1975 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल की घोषणा की थी। भाजपा के तमाम वरिष्ठ नेता आपाताकाल को लेकर प्रतिक्रिया दे रहे हैं। वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर ही लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आपातकाल की एक वीडियो जारी करके इसे याद किया तो वहीं गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट करते हुए कहा कि राजनीतिक हितों के लिए देश के लोकतंत्र की हत्या की गई थी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके कहा कि आपातकाल भारत के इतिहास के काला अध्याय में से एक है।

प्रधानमंत्री मोदी ने एक आपातकाल के दौरान की एक वीडियो ट्वीट करके इसे याद किया। वीडियो में संसद के अंदर प्रधानमंत्री के भाषण का एक हिस्सा भी दिखाया गया है। उन्होंने लिखा, 'भारत उन सभी महानुभावों को सलाम करता है जिन्होंने आपातकाल का जमकर विरोध किया। भारत का लोकतांत्रिक स्वभाव एक सत्तावादी मानसिकता पर सफलतापूर्वक हावी रहा।'

गृह मंत्री ने ट्वीट करते हुए लिखा, '1975 में आज ही के दिन मात्र अपने राजनीतिक हितों के लिए देश के लोकतंत्र की हत्या की गई। देशवासियों से उनके मूलभूत अधिकार छीन लिए गए, अखबारों पर ताले लगा दिए गए। लाखों राष्ट्रभक्तों ने लोकतंत्र को पुनर्स्थापित करने के लिए अनेकों यातनाएं सहीं। मैं उन सभी सेनानियों को नमन करता हूं।'

रक्षा मंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा, '25 जून, 1975 को आपातकाल की घोषणा और इसके बाद की घटनाएं, भारत के इतिहास के सबसे काले अध्यायों में से एक के रूप में चिह्नित हैं। इस दिन हम भारत के लोगों को हमेशा अपने संस्थानों और संविधान की अखंडता को बनाए रखने के महत्व को याद रखना चाहिए।'

मोदी सरकार में मंत्री किरण रिजीजू ने कहा, 'आज आधी रात को मैं अपना समय स्वतंत्रता के लिए समर्पित करूंगा क्योंकि 25 जून 1975 आधी रात को भारत में आपातकाल लगाया गया था तथा लोकतंत्र की हत्या उस क्षण हुई थी। 25 जून को भारत का काला दिन के तौर पर याद किया जाता है। इस दिन लोकतंत्र का गला घोंट दिया गया। इंदिया गांधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने संविधान को ताक पर रखकर राजनीतिक विरोधियों को जेस में डाल दिया गया। प्रेस को दबाया गया और जजों पर जुल्म किए गए।'

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, 'आज 1975 में घोषित हुए आपातकाल की बरसी है। पिछले पांच सालों से देश 'सुपर इमरजेंसी' के दौर से गुजर रहा है। हमें अतीत से सबक लेना चाहिए और देश में लोकतांत्रिक संस्थाओं की सुरक्षा के लिए लड़ाई लड़नी चाहिए।'

लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही शुक्रवार से विधिवत रूप से शुरू हो गई। नवनिर्वाचित सांसदों के शपथ और राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद शुक्रवार से दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू हुई।

लोकसभा में तीन तलाक बिल पेश किया गया। बिल पेश करते ही विरोधियों ने हंगामा करना शुरू कर दिया।

मुख्य बातें

  • लोकसभा में तीन तलाक विधेयक पर बोलते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा- संसद को अदालत न बनाएं। उन्होंने कहा किसंविधान की प्रक्रिया के तहत बिल लाया गया। एआईएमआईएम के मुखिया और हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बिल का विरोध किया है।
  • कानून मंत्री ने विधेयक को लोकसभा में पेश करने की मांग की है। वहीं तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा कि बिल में कहीं बातें संविधान के खिलाफ हैं। उन्होंने इसका विरोध किया है।
  • लोकसभा में तीसरी बार तीन तलाक विधेयक सदन के पटल पर रखा गया है।जिसपर की हंगामा जारी है। इस विधेयक को कानून एवं विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पेश किया। कांग्रेस ने बिल के ड्राफ्ट का विरोध किया है। इस विधेयक में तीन बदलाव किए गए हैं।
  • राज्यसभा में एआईएडीएमके सांसद विजिला सत्यनाथ ने कहा, 'तमिलनाडु पानी की कमी से जूझने वाला राज्य है। राज्य में एकमात्र प्रमुख नदी प्रणाली कावेरी नदी प्रणाली है। इसका समाधान केवल यह है कि केंद्र को कावेरी जल प्रबंधन का पूरा अधिकार ले लेना चाहिए। तत्काल पानी छोड़ा जाना चाहिए।'
  • लोकसभा और राज्यसभा में दिमागी बुखार का मुद्दा शुक्रवार को गूंजा। राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होते हीउपसभापति ने श्रीलंका की चर्च में हुए आतंकी हमले में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति श्रद्धांजलि दी। इस पर विपक्ष के सांसदों ने बिहार में चमकी बुखार से मारे गए बच्चों के प्रति भी श्रद्धांजलि देने की मांग की। इसके बाद पूरे सदन में चमकी बिहार से जान गंवाने वाले बच्चों से मौन रखकर सदन के भीतर श्रद्धांजलि दी।
  • वहीं लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने दिमागी बुखार का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि बिहार में भाजपा की सरकार है। इसकेजवाब में बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि कुषोषण से कहीं भी कोई भी मौत दुखद है और एक मां होने के नाते मैं बच्चों की मौत का दर्द समझ सकती हूं।
  • राज्यसभा में सभापति वेंकैया नायडू ने सभी सांसदों का स्वागत किया और सदस्यों से सदन चलाने की अपील की है।
  • राजद सांसद मनोज झा ने राज्यसभा में 24 जून को दिमागी बुखार पर चर्चा के लिए ध्यानाकर्षण प्रस्ताव का नोटिस दिया है।
  • आज अकाली दल के सांसद नरेश गुजराल सदन में गतिरोध रोकने के प्रावधान करने वाले प्राइवेट मेंबर बिल पर चर्चा कर इसे पास कराने की मांग करेंगे। यह बिल चुनाव से पहले ही पेश हो चुका था लेकिन अब तक इस पर गतिरोध के चलते चर्चा नहीं हो पाई है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को संसद के दोनों सदनों को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में मोदी सरकार 2.0 के एजेंडे को देश के सामने रखा और सरकार किस तरह न्यू इंडिया की नींव रख रही है इसे भी बताया. इस दौरान सदन में लोकसभा, राज्यसभा के सभी सांसद मौजूद रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने राष्ट्रपति का स्वागत किया। राष्ट्रपति ने अपने भाषण में विकास, नीति समेत कई बड़े मुद्दों का जिक्र किया। इसी के साथ उन्होंने नई सरकार को भी बधाई दी।

 

अपने अभिभाषण में राष्ट्रपति ने इन मुद्दों का जिक्र किया..

  1. 61 करोड़ से अधिक मतदाताओं ने लोकतंत्र का सम्मान किया है, गर्मी में भी वोट दिया और महिलाओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। लोकसभा के नए स्पीकर को उनके चयन, चुनाव आयोग को सफलतापूर्वक चुनाव कराने के लिए बधाई।

 

  1. इस लोकसभा में लगभग आधे सांसद पहली बार निर्वाचित हुए हैं। लोकसभा के इतिहास में सबसे बड़ी संख्या में 78 महिला सांसदों का चुना जाना नए भारत की तस्वीर प्रस्तुत करता है। सदन में इस बार हर प्रोफेशन के लोग आए हैं।

 

  1. मेरी सरकार बिना किसी भेदभाव के विकास कार्यों को आगे बढ़ा रही है। देश के लोगों ने लंबे समय तक मूलभूत सुविधाओं के लिए इंतजार किया, लेकिन अब स्थिति बदली है। 2014 से पहले देश में निराशा का माहौल था, लेकिन अब हमारी सरकार ने राष्ट्रनिर्माण के लिए कदम बढ़ाएं हैं। मेरी सरकार सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास की नीति के साथ आगे बढ़ रही है।

 

  1. मेरी सरकार 30 मई को शपथ लेने के तुरंत बाद नए भारत के निर्माण में जुट गई है। ऐसे भारत में युवाओं के सपने पूरे होंगे, उद्योग को ऊंचाईयां मिलेंगी, 21वीं सदी के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। 21 दिन के कार्यकाल में ही मेरी सरकार ने किसान, जवान के लिए बड़े फैसले किए हैं।

 

  1. किसान हमारे देश का अन्नदाता है, पीएम किसान योजना के तहत अब देश के हर किसान को मदद की जाएगी। साथ ही किसानों के लिए पेंशन योजना भी लागू की जा रही है। पहली बार किसी सरकार ने छोटे दुकानदारों के लिए पेंशन की योजना शुरू की गई है। इससे 3 करोड़ दुकानदारों को लाभ मिलेगा।

 

  1. देश की सुरक्षा में जुटे जवानों के लिए भी मेरी सरकार लगातार फैसले ले रही है। मेरी सरकार ने जवानों के बच्चों को मिलने वाली स्कॉलरशिप में बढ़ोतरी की गई है। पहली बार राज्य पुलिस के जवानों के बेटे-बेटियों को भी शामिल किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान और विदेश मंत्री एफएम कुरैशी के बधाई संदेश का जवाब दिया है। पीएम मोदी ने इमरान को लिखी अपनी चिट्ठी में आतंक के माहौल का जिक्र किया। उन्होंने लिखा, 'दोनों के बीच एक अनुकूल वातारण बनाने पर पुनर्विचार करना चाहिए, जो आतंक का रास्ता छोड़ने के बाद ही संभव है।'

हालांकि इमरान खान को भेजे गए पत्र में आतंक मुक्त माहौल का जिक्र है, लेकिन दोनों मुल्कों के बीच बातचीत कब शुरू होगी, इस पर कोई फैसला नहीं लिया गया है। पत्र में कहा गया कि भारत अपने सभी पड़ोसी देशों के साथ बेहतर संबंध चाहता है। क्षेत्र में विकास के लिए शांति और स्थिरता जरूरी है। भारत के लिए प्राथमिकता हमेशा जनता का विकास रहा है। पाकिस्तान लगातार भारत से बातचीत की पेशकश कर रहा है, लेकिन भारत का स्टैंड साफ है। भारत का कहना है कि जब तक पाकिस्तान की ओर से आतंकवाद पर कार्रवाई नहीं की जाती, तब तक बातचीत नहीं हो सकती। 

पिछले दिनों किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में 13-14 जून को आयोजित शंघाई कॉरपोरेशन ऑर्गनाइजेशन समिट में पीएम मोदी और इमरान खान की मुलाकात हुई थी। दोनों नेताओं ने SCO समिट से इतर एक-दूसरे का अभिवादन किया। यह अभिवादन सामान्य प्रकृति का था और यह उस वक्त हुआ, जब दोनों लीडर्स लाउंज में थे। फरवरी में पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के संबंधों में कड़वाहट पैदा हो गई थी। इस घटना के बाद दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच यह पहला अभिवादन था।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर चौंकाने वाला फैसला लिया और एक ऐसे सांसद को लोकसभा स्पीकर के लिए चुना जिसका नाम रेस में भी नहीं था। राजस्थान के कोटा से सांसद ओम बिड़ला को आज निर्विरोध रूप से लोकसभा का अध्यक्ष चुना गया। आपको बका दें कि उनके खिलाफ किसी ने भी पर्चा नहीं भरा था, ऐसे में उनका चुना जाना तय था। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, एनडीए के सभी दल और अन्य विपक्षी पार्टियों ने भी ओम बिड़ला के नाम का समर्थन किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओम बिड़ला के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसका राजनाथ सिंह ने समर्थन किया। इसके बाद अमित शाह, अरविंद सावंत समेत अन्य कई सांसदों ने ओम बिड़ला का प्रस्ताव रखा और अन्य सांसदों ने उसका समर्थन किया। चुनाव की प्रक्रिया के बाद ओम बिड़ला ने स्पीकर पद की कुर्सी संभाली और सदन की कार्यवाही आगे बढ़ी। कांग्रेस पार्टी की तरफ से भी इस प्रस्ताव का समर्थन किया गया।

BJP MP from Kota, Om Birla elected as the Speaker of the 17th Lok Sabha. pic.twitter.com/Cuwe3zbRSA

June 19, 2019

भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा स्पीकर के लिए एनडीए में अपने साथी शिवसेना, जेडीयू, अकाली दल के साथ मिलकर ओम बिड़ला का नाम आगे बढ़ाया। एनडीए के साथियों के अलावा ओडिशा की बीजू जनता दल ने भी ओम बिड़ला का समर्थन किया। वहीं कांग्रेस की बैठक में भी तय हुआ कि उनकी ओर से किसी को खड़ा नहीं किया जाएगा, इसी के साथ उनके निर्विरोध चुने जाने का रास्ता साफ हो गया था।

गौर करने वाली बात ये है कि ओम बिड़ला के प्रस्तावकों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के अलावा एनडीए के अन्य नेता शामिल थे।

देश में पिछले काफी समय से एक साथ विधानसभा और लोकसभा चुनाव कराने को लेकर चर्चा छिड़ी है। इसी बहस को आगे बढ़ाने के लिए आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राजनीतिक दलों के प्रमुखों की बैठक बुलाई है। इस बैठक में राष्ट्रीय पार्टियों, क्षेत्रीय पार्टियों के अध्यक्ष को शामिल होना है। ये बैठक बुधवार दोपहर 3 बजे संसद भवन की लाइब्रेरी में होगी।

तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, बसपा प्रमुख मायावती, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस बैठक में आने से इनकार कर दिया है।

कांग्रेस करेगी विरोध!

सूत्रों की मानें तो कांग्रेस एक देश एक चुनाव का पुरजोर विरोध कर सकती है। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि आज आप एक देश एक चुनाव की बात करेंगे, कल एक देश एक धर्म की बात होगी, फिर एक देश एक पहनावे की बात होगी।

UPA चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने करीब 10 विपक्षी नेताओं के साथ मुलाकात की। इस मुलाकात में सोनिया गांधी ने सभी लोगों से हालचाल जाना और यह तय किया कि कल एक बार फिर बैठक होगी और उसमें तय होगा कि वन नेशन वन इलेक्शन पर जो प्रधानमंत्री ने बैठक बुलाई है उसमें पार्टी के अध्यक्ष या उनके प्रतिनिधि जाएंगे या नहीं जाएंगे। सभी पार्टियां इस बात पर सहमत हैं कि वन नेशन वन इलेक्शन संभव नहीं है और यह ठीक भी नहीं है।

PM मोदी ने बुलाया है...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान ‘एक देश-एक चुनाव’ का मुद्दा जोरशोर से उठाया था। अब प्रधानमंत्री ने इसी पर एक कदम आगे बढ़ाते हुए, सभी राजनीतिक दलों के प्रमुख और राज्यों के मुख्यमंत्री को आमंत्रित किया है. हालांकि, विपक्ष इस बैठक में शामिल होने के एकमत नहीं है। ममता बनर्जी ने आने से इनकार कर दिया है, चंद्रबाबू नायडू भी नहीं आएंगे। इसके अलावा राहुल गांधी के आने पर सस्पेंस बना हुआ है।

विरोध कर सकती हैं विपक्षी पार्टियां...

वन नेशन, वन पोल को लेकर विपक्षी दल अभी राय साफ नहीं कर पाए हैं। सूत्रों की मानें तो कई विपक्षी दल इस प्रस्ताव का विरोध कर सकते हैं। जिस भी पार्टी का राज्यसभा या लोकसभा में सदस्य है, उसे आमंत्रण भेजा गया है। कांग्रेस आज सुबह इस बैठक को लेकर एक मीटिंग करेगी, जिसमें इसमें शामिल होने पर फैसला होगा तो वहीं एजेंडे पर बात होगी।

खास बात है कि आज ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का जन्मदिन भी है। ऐसे में उनके आने या ना आने पर भी हर किसी की नजर होगी. वहीं अगर ममता बनर्जी की बात करें तो उन्होंने ये कहकर बैठक में आने से इनकार कर दिया था कि इसको लेकर पहले सरकार को श्वेतपत्र लाना चाहिए, कानूनी जानकारों से बात करनी चाहिए और किसी तरह की जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए।

अगर गैर एनडीए दल की बात करें तो जगनमोहन रेड्डी, नवीन पटनायक, केसीआर की तरफ से उनके बेटे केटीआर और समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव भी बैठक में शामिल होंगे। अरविंद केजरीवाल की जगह इस बैठक में राघव चड्डा शामिल होंगे।

एजेंडे में और क्या होगा

इस बैठक में वन नेशन वन पोल के अलावा भी कई मुद्दों पर बात होगी. 2022 में भारत अपनी आजादी के 75 साल पूरा कर लेगा, इसे मोदी सरकार बड़े रूप में मनाना चाहती है, जिस पर सभी दलों से बात हो सकती है। साथ ही महात्मा गांधी की 150वीं जयंती का जश्न और सदन में कामकाज के सुचारू रूप से चलने को लेकर बैठक में प्रधानमंत्री बात करेंगे।

 

अमित शाह के केंद्रीय गृह मंत्री बनने के बाद भारतीय जनता पार्टी के नए अध्यक्ष को लेकर चर्चा शुरू हो गई थी और इस पर सोमवार को उस समय विराम लग गया जब पूर्व केंद्रीय मंत्री जगत प्रकाश नड्डा को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने का ऐलान कर दिया गया। दिल्ली में बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक में लिए फैसले के बारे में बताते हुए रक्षा मंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह ने कहा कि नड्डा बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष होंगे. इस बीच अमित शाह पार्टी अध्यक्ष बने रहेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में अमित शाह के शामिल होने के बाद जेपी नड्डा को पार्टी की कमान सौंपी गई है। माना जा रहा है कि अमित शाह अगले 6 महीने तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने रहेंगे. अमित शाह के साथ मिलकर ही जेपी नड्डा बतौर कार्यकारी अध्यक्ष पार्टी का कामकाज संभालेंगे। गृह मंत्रालय जैसे अहम विभाग संभालने के कारण अमित शाह की पार्टी पर ज्यादा ध्यान देने की संभावना कम ही है। ऐसे में नड्डा ही पार्टी के मुख्य कर्ताधर्ता रहेंगे, हालांकि अमित शाह अभी अध्यक्ष पद पर काबिज हैं और हर फैसले पर उनकी नजर रहेगी।

हिमाचल प्रदेश जैसे राजनीतिक लिहाज से कमतर राज्य से आने वाले जय प्रकाश नड्डा के लिए कार्यकारी अध्यक्ष पद पर काम करना बेहद चुनौतीपूर्ण रहेगा, अगर वह अगले 6 महीने के लिए भी पार्टी के प्रमुख के तौर पर काम करते हैं तो भी उनके सामने चुनौतियां कम नहीं होंगी।

अमित शाह की विशालकाय छवि

अमित शाह ने अपने कार्यकाल में बीजेपी को जिस मुकाम पर पहुंचाया उसे बनाए रखना अगले अध्यक्ष के लिए चुनौती भरा रहेगा। जेपी नड्डा अभी कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए हैं, लेकिन उनके सामने पार्टी को शीर्ष पर बनाए रखने के साथ-साथ खुद को एक सशक्त और दमदार अध्यक्ष के रूप में पेश करना होगा। सभी की नजर इस पर रहेगी कि वह इस मकसद में कितना कामयाब हो पाते हैं।

4 राज्यों में विधानसभा चुनाव

बतौर अध्यक्ष अमित शाह के दौर में बीजेपी को जिस तरह की बंपर कामयाबी मिली उसे बनाए रखना नड्डा के लिए चुनौतीपूर्ण है। उनके कार्यकारी अध्यक्ष के कार्यकाल (अगले 6-7 महीने) में कम से कम 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इनमें से दिल्ली को छोड़ 3 राज्य ऐसे हैं जहां पर बीजेपी खुद सत्ता में है और उसे सत्ताविरोधी माहौल के बीच चुनाव में जीत हासिल करने की चुनौती होगी। ये 3 राज्य हैं महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड. हरियाणा में अक्टूबर में विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है, तो महाराष्ट्र में नवंबर में. जबकि झारखंड में 5 जनवरी को कार्यकाल समाप्त हो रहा है। नड्डा के सामने इन तीनों राज्यों में बीजेपी की सत्ता पर पकड़ बनाए रखने की है. इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा चुनाव होने हैं। अभी वहां राष्ट्रपति शासन है और अगले कुछ महीनों में वहां पर चुनाव होना है और पार्टी को बड़ी जीत दिलाने की जिम्मेदारी भी रहेगी।

दिल्ली में अरविंद केजरीवाल से चुनौती

दिल्ली विधानसभा का चुनाव भी अगले साल की शुरुआत में होने वाला है। विधानसभा का कार्यकाल 22 फरवरी, 2020 को खत्म हो रहा है। दिल्ली में इस समय आम आदमी पार्टी सत्ता में है और उसने पिछले विधानसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत हासिल करते हुए दूसरी बार सत्ता पर काबिज हुई थी। बीजेपी की कोशिश पिछली बार ही सत्ता में लौटने की थी, लेकिन अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी ने बीजेपी के सपने को तोड़ दिया। हालांकि पिछले महीने खत्म हुए लोकसभा चुनाव में आप पार्टी का जो प्रदर्शन रहा उससे बीजेपी बेहद उत्साहित होगी क्योंकि उसने सभी सातों की सातों सीट पर कब्जा जमा लिया।

हालांकि 2014 के लोकसभा चुनाव में भी ऐसा ही हुआ था, लेकिन कुछ महीने बाद जब विधानसभा चुनाव आया तो बीजेपी को 70 में से सिर्फ 3 सीटें मिल सकीं. शेष 67 सीटों पर आम आदमी पार्टी विजयी रही थी. इस बार भी सातों सीटें जीतकर बीजेपी पूरे जोश में है, लेकिन नए कार्यकारी अध्यक्ष के सामने यह सुनिश्चित करना होगा कि 2015 के विधानसभा चुनाव जैसे हालात 2020 में न बनें। यह भी तय है कि विधानसभा चुनाव में केजरीवाल को चुनौती देना आसान नहीं होगा और इसके लिए कवायद अभी से शुरू कर देनी होगी।

शिवसेना को साथ रखने की चुनौती

लोकसभा चुनाव से पहले तक बागी तेवर बनाए रखने वाली शिवसेना ने बीजेपी के साथ चुनाव लड़ने का फैसला लिया और उसका यह निर्णय अन्य विपक्षी दलों के परिणाम देखने के बाद सही लगता है, लेकिन ऐसे में शिवसेना के वजूद पर ही खतरा मंडराने लगता है। नरेंद्र मोदी के दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपक्ष लेने के कुछ ही दिन में पार्टी सुप्रीमो उद्धव ठाकरे का अयोध्या जाना दिखाता है कि शिवसेना अपने अस्तित्व के लिए जद्दोजहद जारी रखेगी। हालांकि यह भी सही है कि बीजेपी इस बार भी अपने दम पर सत्ता में है, लेकिन नड्डा के सामने एनडीए को भी बनाए रखना बड़ी चुनौती होगी क्योंकि बीजेपी के बाद शिवसेना ही दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है।

बिहार में जेडीयू से दोस्ती

महाराष्ट्र की तरह बिहार में जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के साथ सत्ता पर काबिज बीजेपी के सामने गठबंधन को बनाए रखने की चुनौती है। बिहार में एनडीए को लोकसभा चुनाव में जोरदार जीत मिली है। अब कई मोर्चों पर नीतीश कुमार की सरकार को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। 2015 के विधानसभा चुनाव में जेडीयू के नीतीश कुमार ने आरजेडी और कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था और महागठबंधन के तहत जीत हासिल की थी, लेकिन बाद में नीतीश ने लालू प्रसाद यादव की आरजेडी के नाता तोड़ लिया और बीजेपी के साथ फिर से नई सरकार बना ली। राज्य में अगले डेढ़ साल में विधानसभा चुनाव होने हैं और यहां पर भी नड्डा के सामने एनडीए घटक दलों को साथ बनाए रखने की चुनौती रहेगी।

दक्षिण भारत के लिए नई रणनीति

बीजेपी को उम्मीद थी कि इस बार लोकसभा चुनाव में कर्नाटक के अलावा दक्षिण भारत के अन्य राज्यों से उसके खाते में कुछ सीटें आएंगी, लेकिन तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और केरल में बीजेपी की स्थिति काफी खराब रही। आंध्र और केरल समेत तमिलनाडु में बीजेपी को एक भी सीट नहीं मिली. बीजेपी ने इन राज्यों में जीत के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाया था, लेकिन निराशा हाथ लगी। अब नड्डा के सामने दक्षिण में सीट जीतने के लिए नए सिरे से रणनीति बनानी होगी।

बड़बोले नेताओं पर लगाम लगाने की जिम्मेदारी

अमित शाह के गृह मंत्री बनने के बाद कार्यकारी अध्यक्ष बने जेपी नड्डा के पास एक बड़ी चुनौती यह भी रहेगी कि वह अपने कई बड़बोले नेताओं पर किस तरह से लगाम लगा पाते हैं। गिरिराज सिंह, साध्वी प्रज्ञा और साक्षी महाराज जैसे नेता अक्सर अपने बयानों को लेकर पार्टी को संकट में डालते रहे हैं। पिछले दिनों इफ्तार को लेकर गिरिराज की टिप्पणी के बाद अमित शाह ने उनको फटकार लगाई और नियंत्रण रखने की सलाह भी दे डाली थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि संसदीय लोकतंत्र में सक्रिय विपक्ष महत्वपूर्ण होता है, लेकिन उसे अपने संख्याबल के बारे में परेशान होने की जरूरत नहीं है, बल्कि उन्हें सक्रियता से बोलने और सदन की कार्यवाही में भागीदारी करने की आवश्यकता होती है। 17वीं लोकसभा के सत्र की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री ने मीडिया से कहा, मुझे उम्मीद है कि यह सत्र एक सार्थक सत्र होगा।' 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि संसद में हमें ‘पक्ष’ और ‘विपक्ष’ भूल जाना चाहिए और ‘निष्पक्ष भाव’ से मुद्दों के बारे में सोचना चाहिए। देश के व्यापक हित में काम करना चाहिए। उन्होंने कहा, 'आज नए संविधान से परिचय का समय है। हम नए उत्साह, नई उमंग के साथ काम करेंगे। जनता ने हमें काम करने का अवसर दिया है। जनता की आशा-आकाक्षांओं को पूरा करेंगे। जनता ने सबका साथ-सबका विश्वास में बहुत आत्मविश्वास भरा। हमारे लिए विपक्ष की हर बात और हर भावना मूल्यवान है। आने वाले पांच सालों में इस सदन की गरिमा को और बढ़ाएंगे।'

मोदी ने सभी सांसदों से आग्रह किया कि वे जब सदन में हों तो देश के बारे में सोचें और राष्ट्र के व्यापक हित से जुड़े मुद्दों का समाधान करें। प्रधानमंत्री ने कहा कि जब हम संसद आते हैं तो हमें पक्ष और विपक्ष को भूल जाना चाहिए। हमें निष्पक्ष भावना के साथ मुद्दों के बारे में सोचना चाहिए और राष्ट्र के व्यापक हित में काम करना चाहिए। मोदी ने यह भी कहा कि नए सदन में महिला सांसदों की संख्या काफी है।

उन्होंने कहा कि मेरा अनुभव कहता है कि जब संसद निर्बाध रूप से चलती है तो हम भारत के लोगों की अनगिनत आकांक्षाओं को पूरा कर पाते हैं।

लद्दाख में शुक्रवार को ITBP के जवानों ने आने वाले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को लेकर 18000 फीट की ऊंचाई पर योग किया। केंद्रीय मंत्री श्रीपद यसो नाइक ने गुरुवार को बताया था कि इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की थीम ‘योग फॉर हार्ट’ है। नाइक ने बताया कि पांचवे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य कार्यक्रम रांची में होगा जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं उपस्थित होंगे।

 


अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का कार्यक्रम कई बार जम्मू में आयोजित किए गया है, लेकिन हर साल बारिश हो जाने के कारण कार्यक्रम रद्द हो जाता था। इस बार 21 जून को ऐसा नहीं होगा। बारिश हुई तो भी लोग योग क्रियाओं को आराम से कर पाएंगे।
भाजपा की तरफ से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन समिति के संयोजक चंद्र मोहन शर्मा के अनुसार मौसम योग दिवस का रंग न बिगाड़े इस लिए इस बार के के हक्कू एस्ट्रो टर्फ हाकी स्टेडियम में आयोजन की तैयारी की गई है। मुख्य योग दिवस का कार्यक्रम भाजपा के अलावा विभिन्न सरकारी विभागों के सहयोग से होगा।
केंद्रीय राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉ. जितेंद्र सिंह को मुख्य अतिथि के तौर पर कार्यक्रम में बुलाया जाएगा। करीब चार हजार लोग, जिसमें स्कूली बच्चे भी शामिल होंगे, योग आसन कर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शोभा बढ़ाएंगे।

दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले में बुधवार को आतंकियों के हमले में CRPF के पांच जवान शहीद हो गए। आतंकियों ने CRPF की पेट्रोलिंग पार्टी पर पहले अंधाधुंध गोलियां बरसाईं फिर ग्रेनेड हमला किया। हमले में अनंतनाग के SHO भी गंभीर रूप से घायल हो गए। मौके पर मौजूद एक महिला को भी चोट पहुंची है। जवाबी कार्रवाई में एक पाकिस्तानी हमलावर आतंकी मारा गया। घटना की जिम्मेदारी आतंकी संगठन अल उमर मुजाहिदीन ने ली है। हालांकि, कहा जा रहा है कि इसमें जैश-ए-मोहम्मद का हाथ है।

घटना व्यस्ततम खन्नाबल-पहलगाम रोड पर अनंतनाग बस स्टेशन से एक किलोमीटर दूर महिला कालेज के पास की है। बताते हैं कि मोटरसाइकिल सवार दो आतंकियों ने वहां पेट्रोलिंग पार्टी को निशाना बनाकर अंधाधुंध फायरिंग की। इससे मौके पर ही एक जवान की मौत हो गई जबकि कुछ अन्य घायल हो गए। CRPF 116 बटालियन तथा पुलिस की संयुक्त पिकेट भी वहां तैनात रहती है। 

गोलियों की आवाज सुनकर SHO तथा डिवीजनल अफसर रक्षक वाहन से वहां पहुंचे तो आतंकियों ने दोनों गाड़ियों को निशाना बनाकर ग्रेनेड दागे। SHO की गाड़ी से टकराकर ग्रेनेड फट गया, जिसमें SHO अरशद खान घायल हो गए। डिवीजनल अफसर की गाड़ी को निशाना बनाकर दागा गया ग्रेनेड नहीं फटा। घटना के बाद एक आतंकी मौके से भाग निकला। 

सूत्रों के अनुसार, हमले में घायल जवानों को तत्काल अस्पताल ले जाया गया जहां पांच ने दम तोड़ दिया। सूत्रों के अनुसार, हमले में एएसआई रमेश कुमार ( झज्जर, हरियाणा), निरोद शर्मा (नलबारी, असम), कांस्टेबल सत्येंद्र कुमार (मुजफ्फर नगर, उत्तर प्रदेश), महेश कुमार कुशवाहा (गाजीपुर, उत्तर प्रदेश) व संदीप यादव (देवास, मध्य प्रदेश) शहीद हो गए। घायलों में SRPF के हेड कांस्टेबल राजेंदर, कांस्टेबल प्रेमचंद्र कौशिक, कांस्टेबल केदार नाथ ओझा शामिल हैं। हालांकि, पुलिस की ओर से इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। SHO को गंभीर अवस्था में सेना के श्रीनगर स्थित 92 बेस अस्पताल में ले जाया गया है। सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है। इलाके में व्यापक पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।

एक जुलाई से शुरू हो रही अमरनाथ यात्रा के पहले अनंतनाग में हुए हमले को लेकर सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं। इसी रास्ते से होकर अमरनाथ यात्री पहलगाम जाते हैं। इस वजह से सुरक्षा एजेंसियों की चिंता अधिक है। घटना के बाद पूरे इलाके में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। नाके लगाकर जगह-जगह चेकिंग की जा रही है। सूत्रों का कहना है कि खुफिया एजेंसियों की ओर से बस स्टैंड के आस-पास सुरक्षा बलों पर हमले का इनपुट पहले ही दिया गया था। 

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला तथा महबूबा मुफ्ती ने हमले की कड़ी निंदा की है। दोनों ने शहीदों के परिवार के प्रति सहानुभूति जताते हुए कहा कि इस प्रकार के बर्बरतापूर्ण हमले की जितनी भी निंदा की जाए कम है। उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। 
 

14 फरवरी 2019 : दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा में CRPF की कानवाय पर फिदायीन हमला, 40 जवान शहीद।


30 मार्च 2019 : जम्मू संभाग के बनिहाल के पास जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर CPRF की कानवाय पर फिदायीन हमले की कोशिश, नुकसान नहीं।

 

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भाजपा के चुनावी नारे- 'मोदी है तो मुमकिन है' का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर की तारीफ की है। पोम्पियो 24 जून को भारत दौरे पर आने वाले हैं।

पोम्पियो ने बुधवार को भारत-अमेरिका व्यापार परिषद की बैठक में कहा कि वह ये देखना चाहते हैं कि मोदी दोनों देशों के रिश्ते को कैसे मजबूत बनाते हैं। उन्होंने एस जयशंकर को मजबूत साथी बताते हुए कहा कि वह अपने समकक्ष से मिलने के लिए उत्साहित हैं।

उन्होंने कहा, "जैसा कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने हाल ही के चुनावी अभियान में कहा था, 'मोदी है तो मुमकिन है', मैं यह जानने के लिए उत्सुक हूं कि अमेरिका और भारत के बीच क्या मुमकिन है।

अब देखना है कि वह दुनिया के साथ रिश्तों और भारत की जनता से किए वादों को कैसे संभव बनाते हैं। उम्मीद है कि वे अमेरिका के साथ रिश्तों को और मजबूत करेंगे। भारत यात्रा के दौरान ट्रंप प्रशासन के महत्वाकांक्षी एजेंडे पर बातचीत होगी।"

उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच व्यापार के मुद्दों में कुछ अंतर हैं। लेकिन हम बातचीत के लिए हमेशा तैयार हैं। अपनी भारत यात्रा को लेकर उन्होंने कहा कि वह वास्तव में मानते हैं कि दोनों देशों के पास अपने लोगों, हिंद-प्रशांत क्षेत्र और दुनिया की भलाई के लिए एक साथ आगे बढ़ने का अवसर है।

पोम्पियो भारत के अलावा श्रीलंका, जापान और दक्षिण कोरिया भी जाएंगे। संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन में चल रहे तनाव के बीच पोम्पियो की इस यात्रा को बेहद अहम माना जा रहा है। पीएम मोदी ने भी अमेरिका के साथ बढ़ते सहयोग का समर्थन किया है, खासतौर पर रक्षा क्षेत्र में।

लेकिन जब से ट्रंप प्रशासन ने भारत पर वेनेजुएला और ईरान से तेल ना खरीदने का दबाव बनाया है, तब से दोनों देशों के बीच व्यापार को लेकर चिंता थोड़ी बढ़ गई है। भारत पर मानदंडों को ठीक से ना मानने का आरोप लगाते हुए ट्रंप प्रशासन ने भारत को विशेष तरजीह वाले राष्ट्रों यानी जीएसपी की सूची से भी बाहर कर दिया है।

इससे पहले विदेश विभाग की प्रवक्ता मोर्गन ओर्टागस ने संवाददाताओं को बताया कि पोम्पिओ हिंद-प्रशांत क्षेत्र में 24 जून से 30 जून तक यात्रा करेंगे। इस यात्रा का मकसद मुक्त हिंद प्रशांत के साझा लक्ष्य को आगे बढ़ाने के लिए प्रमुख देशों के साथ अमेरिका के संबंध गहरे करना है।

अरब सागर में हवा के कम दबाव की स्थिति गहराने के कारण उत्पन्न चक्रवाती तूफान 'वायु' के 13 जून को गुजरात पहुंचने की आशंका हैं। मौसम विभाग के मुताबिक, अगले 24 घंटे में तूफान गंभीर रूप ले सकता है।

गुजरात एस.डी.एमए ने ट्वीट कर कहा कि अब तक 10 प्रभावित इलाकों से 1,64,090 लोगों को बाहर निकाला गया। 

 

पीएम मोदी ने भी ट्वीट में कहा कि केंद्र सरकार गुजरात और दूसरे राज्यों में हालात पर नजर बनाए हुए है।

 

तेज़ 'वायु' को मद्देनजर रखते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने तैयारियों का मुआएना कर लिया हैं। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को लोगों की सुरक्षा के लिए सभी संभावित कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही स्वास्थ्य, पेयजल, बिजली और संचार जैसी जरूरी सेवाओं की मरम्मत और नुकसान की स्थिति में इनकी फौरन पुनर्बहाली सुनिश्चित करने को भी कहा हैं। 

वायु चक्रवाती तूफाने के खतरे को देखते हुए गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने गुजरात द्वारका, सोमनाथ, सासन, कच्छ आए हुए पर्यटकों को 12 जून की दोपहर के बाद सुरक्षित स्थानों पर लौटने की अपील की है। सीएम ने लोगों से कहा कि किसी तरह का नुकसान न हो इसलिए पर्यटक समय रहते वापस लौंट जाऐं। 

मौसम विभाग ने इसको मद्देनजर रखते हुए सौराष्ट्र और कच्छ तटीय इलाकों में 13 और 14 जून को भारी बारिश होने और 110 किमी प्रति घंटे की गति से तूफानी हवाएं चलने की चेतावनी जारी की है।

गुजरात सरकार ने 'हाई अलर्ट' जारी करते हुए सौराष्ट्र और कच्छ के इलाकों में भी राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एन.डी.आर.एफ) के जवानों को तैनात किया है। यह टीम किसी भी खतरे की दशा में सहायता और आपदा राहत मिशन चलाएगी।

 

 

लोकसभा चुनाव खत्म  हो गए। नतीजे भी आ गए, लेकिन प.बंगाल में टीएमसी और भाजपा के बीच हो रही हिंसा खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। बिगड़ती कानून व्यवस्था को देखते हुए केंद्र सरकार ने राज्य सरकार को आगाह किया है।

इधर, राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। वह रविवार को ही कोलकाता से दिल्ली पहुंचे।

इधर, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस और भाजपा में अक्सर तनाव और झड़प की खबरें सामने आ रही है, जिसके बाद गृह मंत्रालय ने बंगाल सरकार को एडवाइजरी जारी करते हुए आगाह किया है। वहीं, बंगाल पुलिस से टकराव के बाद भाजपा आज बंगाल में काला दिवस मनाने जा रही है।

हालांकि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी से उनकी शिष्टाचार मुलाकात है। इसे अन्य विषय से जोड़कर न देखा जाए। वहीं, दूसरी ओर पीएम मोदी से राज्यपाल की इस मुलाकात के बारे में तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं। 

मालूम हो कि उत्तर 24 परगना में शनिवार को हुई झड़प के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं के अंतिम संस्कार को लेकर बंगाल पुलिस और नेताओं के बीच तनातनी हो गई थी। रविवार को बशीरहाट में अंतिम दर्शन के लिए भाजपा कार्यालय ले जाए जा रहे शवों को पुलिस ने रोका था, जिसके बाद पुलिस पर मनमानी करने का आरोप लगाते हुए भाजपा ने सोमवार को बशीरहाट में 12 घंटे का बंद और पूरे बंगाल में काला दिवस मनाने का एलान किया। 

बंगाल में जारी सियासी संघर्ष और हत्याओं पर केंद्र सरकार ने गहरी चिंता जताई है। ममता सरकार को जारी एडवाइजरी में गृह मंत्रालय ने कहा कि चुनाव के बाद भी जारी हिंसाएं राज्य सरकार की नाकामी दिखाती है। टीएमसी सरकार को राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने और हिंसा में नाकाम पदाधिकारियों पर कार्रवाई करने को कहा गया है। 

गृह मंत्रालय की एडवाइजरी के जवाब में पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव मलय कुमार डे ने गृह मंत्रालय को पत्र लिख कर जवाब दिया है। इसमें उन्होंने राज्य में हालात काबू में होने का दावा किया है। पत्र में लिखा है कि चुनाव के बाद कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा हिंसा की गई थी। इस प्रकार के मामलों को रोकने के लिए अधिकारियों द्वारा बिना किसी देरी के कार्रवाई की गई। मलय ने आगे लिखा कि राज्य में स्थिति नियंत्रण में है और इस प्रकार की घटनाओं के आधार पर राज्य में कानून व्यवस्था को असफल नहीं माना जा सकता। 

 

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में हुई रेप और मर्डर की घटना पर आज फैसला सुनाया गया। 8 साल की बच्ची के साथ रेप करने वाले कुल सात में से 6 आरोपियों को दोषी करार दिया है। पठानकोट की अदालत ने मुख्य आरोपी सांजी राम समेत अन्य 6 आरोपियों को दोषी करार दिया है। इसके अलावा सातवें आरोपी विशाल को बरी कर दिया गया है। इन सभी आरोपियों की सजा का ऐलान भी आज दोपहर दो बजे किया जाएगा।

ग्राम प्रधान सांजी राम (मुख्य आरोपी)

स्पेशल पुलिस ऑफिसर दीपक खजुरिया,

रसाना गांव परवेश दोषी,

असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर तिलक राज,

असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर आनंद दत्ता,

पुलिस ऑफिसर सुरेंद्र कुमार

जबकि सांजी राम का बेटे विशाल को बरी कर दिया है। कठुआ मामला जब सामने आया था तो देश ही नहीं दुनिया में इसने सुर्खियां बटोरी थीं। आम आदमी से लेकर बॉलीवुड के सेलेब्रिटी भी इंसाफ की गुहार लगा रहे थे।

इस मामले में पुलिस ने कुल 8 लोगों को गिरफ्तार किया, जिनमें से एक को नाबालिग बताया गया। हालांकि, मेडिकल परीक्षण से यह भी सामने आया कि नाबालिग आरोपी 19 साल का है। पूरी वारदात के मुख्य आरोपी ने खुद ही सरेंडर कर दिया था।

बता दें कि शुरुआत में इस मसले को जम्मू कोर्ट में सुना गया लेकिन बाद में पठानकोट कोर्ट में इसकी सुनवाई हुई जहां पर आज इसका फैसला सुनाया गया।

इस फैसले को देखते हुए पठानकोट कोर्ट परिसर को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। यहां पर एक हज़ार से अधिक पुलिसकर्मियों को मुस्तैद किया गया, साथ ही बम निरोधक दस्ता, दंगा नियंत्रक दस्ता भी यहां पर तैनात रहे।

जिन 8 लोगों को गिरफ्तार किया गया था उनमें स्पेशल पुलिस ऑफिसर दीपक खजुरिया, पुलिस ऑफिसर सुरेंद्र कुमार, रसाना गांव का परवेश कुमार, असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर आनंद दत्ता, हेड कांस्टेबल तिलक राज, पूर्व राजस्व अधिकारी का बेटा विशाल और उसका चचेरा भाई (जिसे नाबालिग बताया गया) शामिल था। इसके अलावा मुख्य आरोपी ग्राम प्रधान सांजी राम भी पुलिस की गिरफ्त में है।

कठुआ गैंगरेप मामले में SC के पास इसका ट्रायल चंडीगढ़ शिफ्ट करने और मामले को CBI को देने संबंधी याचिकाएं मिली थीं। पीड़िता के पिता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर केस को जम्मू-कश्मीर से बाहर ट्रांसफर करने की मांग की थी, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने फैसला लेते हुए मामले की सुनवाई पंजाब में पठानकोट कोर्ट को ट्रांसफर किया था। SC ने इस मामले की CBI जांच की मांग को खारिज कर दिया था।

कठुआ रेप की घटना 10 जनवरी, 2018 को हुई थी। परिवार के मुताबिक, बच्ची 10 जनवरी को दोपहर में घर से घोड़ों को चराने के लिए निकली थी और उसके बाद वो घर वापस नहीं लौटी थी. करीब एक हफ्ते बाद 17 जनवरी को जंगल में उस बच्ची की लाश मिली थी।

मेडिकल रिपोर्ट में पता चला था कि बच्ची के साथ कई बार कई दिनों तक सामूहिक बलात्कार हुआ है और पत्थरों से मारकर उसकी हत्या की गई है। उसके बाद बच्ची के साथ गैंगरेप कर उसकी हत्या पर देशभर में काफी बवाल मचा था।

 

लोकसभा चुनाव समाप्त होने के बाद भी पश्चिम बंगाल में हिंसा जारी है। शनिवार की शाम 24 परगना जिले के नजत इलाके में भाजपा और टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़प में चार लोगों की मौत हो गई, जबकि तीन लोग घायल हो गए हैं। दोनों ही पार्टी के सूत्रों ने इस बात का दावा किया है।

हालांकि पुलिस ने इन मौतों पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है। पुलिस का कहना है कि स्थिति को नियंत्रित करने के लिए बड़ी संख्या पुलिस दल को घटनास्थल पर भेजा गया था। भाजपा के सूत्रों ने दावा किया है कि संबंधित इलाके से पार्टी के झंडे हटाने पर हिंसा की शुरुआत हुई। 

भाजपा नेता सायंतन बसु ने बताया कि उनकी पार्टी के तीन कार्यकर्ता (सुकांता मंडल, प्रदीप मंडल और शंकर मंडल) की उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गई, जब वह टीएमसी कार्यकर्ताओं को भाजपा के झंडे हटाने से रोक रहे थे।

बसु ने बताया, "हमें अपने तीन कार्यकर्ताओं का शव मिला है। हमने सुना है कि दो और कार्यकर्ताओं की भी मौत हो गई है लेकिन अभी उनके शव नहीं मिले हैं। वो हमारी पार्टी के झंडे और पोस्टर हटाने की कोशिश कर रहे थे, जब हमने विरोध किया तो हमारे कार्यकर्ताओं को गोली मार दी गई।"

भाजपा के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय का कहना है कि पार्टी इस घटना के बारे में केंद्रीय मंत्री अमित शाह को बताएगी। वहीं टीएमसी भी दावा कर रही है कि उसके एक समर्थक की मौत हो गई है।

24 परगना जिले के अध्यक्ष और मंत्री ज्योतिप्रियो मुल्लिक का कहना है कि उनकी "पार्टी के कार्यकर्ता कायुम मोल्लाह को भी भाजपा कार्यकर्ताओं ने गोली मार दी है।"

इस मामले पर भाजपा के नेशनल सेक्रेटरी कैलाश विजयवर्गीय का कहना है, "केंद्र सरकार ने राज्य सरकार से स्थिति पर रिपोर्ट मांगी है और मुझे यकीन है कि केंद्र इसे गंभीरता से लेगी। घटना को लेकर लोगों में काफी गुस्सा है।"

मोदी सरकार-2 कैबिनेट में जदयू को जगह न मिलने पर नाराज जदयू ने बड़ा फैसला लिया है। नीतीश कुमार ने तय किया है कि बिहार के बाहर जदयू भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए का हिस्सा नहीं रहेगी। जम्मू कश्मीर, झारखंड, हरियाणा और दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनावों में जदयू अकेले लड़ेगी। वहीं राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के अनुसार, बिहार में वह एनडीए का हिस्सा रहेगी और भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। 

नीतीश कुमार की अध्यक्षता में पटना में मुख्यमंत्री आवास पर हो रही जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में एनडीए की विरोधी ममता बनर्जी के लिए चुनावी रणनीति बनाने का फैसला कर फिर से चर्चा में आए जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर भी मौजूद रहे। वहीं, पार्टी के वरिष्ठ नेता वशिष्ठ नारायण सिंह, प्रवक्ता केसी त्यागी, प्रदेश अध्यक्ष, जिलाध्यक्ष और अन्य कई नेताओं की भी उपस्थिति रही। 

मोदी सरकार-2 कैबिनेट में जदयू के शामिल नहीं होने के बाद से ही सियासी गलियारों में भाजपा-जदयू के बीच दूरी की हवा उड़ने लगी थी, जब जदयू को एक मंत्री पद का प्रस्ताव दिए जाने से नाराज नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार में भागीदारी से मना कर दिया था। जदयू प्रवक्ता केसी त्यागी का कहना था कि जो प्रस्ताव दिया गया था, वह स्वीकार्य नहीं था। इसलिए हम लोगों ने यह निर्णय लिया कि जदयू भविष्य में भी एनडीए केंद्रीय कैबिनेट का हिस्सा नहीं होगी। यह हमारा अंतिम निर्णय है।

 

BJP के पूर्व सांसद राम विलास वेदांती ने राम मंदिर पर एक बार फिर बड़ा बयान दिया है। वेदांती ने कहा है कि गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी के सभी मंत्री और सांसदों को राम लला के दर्शन करने का समय अब आ चुका है।

 वेदांती के इस बयान के बाद उत्तर प्रदेश के सियासत में एक बार फिर सरगर्मियां बढ़ गई है। राम विलास के इस बयान बाद अयोध्या में राम मंदिर बनने को लेकर अटकलें एक बार फिर से बढ़ गई हैं। हालांकि 2019 लोकसभा चुनाव के समय बीजेपी इस मुद्दे से बचती नज़र आ रही थी, लेकिन चुनाव जीतने के बाद बीजेपी समर्थक कई लोगों के जुबां से मंदिर निर्माण को लेकर आवाज उठनी शुरु हो गई है।

मन्दिर निर्माण पर राम विलास वेदांती से पहले राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने भी कानपुर में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि अब मंदिर निर्माण में अब ज्यादा समय नहीं लगना चाहिए।   

आपसी भाईचारे का प्रतीक ईद (Eid ul Fitr 2019) देश भर में बड़े ही धूम-धाम से मनाया जा रहा है। मंगलवार रात को ईद का चांद के दीदार के साथ ईद की घोषणा कर दी गई है। चांद के दिखने के बाद ही एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद देने का सिलसिला शुरू हो गया।

ईद के इस पाक मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी देश के सभी मुस्लिम भाइयों को ईद पर बधाई दी है और उनके शांति और खुशहाली की कामना की है।  

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सभी देशवासियों को ईद की मुकाबरकबाद दी है। राष्ट्रपति ने लिखा है कि सभी देशवासियों, खास तौर से देश और विदेश के हमारे मुस्लिम भाइयों और बहनों, को ईद मुबारक। रमज़ान के महीने के समापन का यह त्योहार परोपकार और भाईचारे की भावना में हमारे विश्वास को मजबूत बनाता है। यह शुभ दिन हम सब के परिवारों में खुशियां, शांति और समृद्धि लाए”।

 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा, 'ईद मुबारक और ईदुलफितर के शुभ अवसर पर सभी को मेरी शुभकामनाएं।

 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ईद की बधाई देते हुए लिखा,  'धर्म व्यक्तिगत आस्था का विषय है लेकिन त्योहार सार्वभौमिक हैं. आइए हम एकता की इस भावना को बनाए रखें और शांति और सद्भाव में एक साथ रहें. ईद मुबारक.'

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कैबिनेट में JDU को जगह नहीं मिलने के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज पहली बार अपने मंत्रीमंडल का विस्तार करने जा रहे है। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि नीतीश कैबिनेट में 8 नए मंत्री शामिल हो सकते हैं। फिलहाल नीतीश मंत्रिमंडल में कुल 25 मंत्री हैं, जबकि इनकी संख्या 36 तक हो सकती है। जहां 2017 में भाजपा के साथ सरकार बनाने के समय अनुपातिक आधार पर भाजपा (BJP) को 14 मंत्री बनाने का कोटा मिला था, जिसमें उनके 13 लोग फिलहाल मंत्री हैं, लेकिन उनके कोटे के सारे विभाग भाजपा मंत्रियों के पास ही हैं. बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी के पास वित्त के अलावा चार और विभाग हैं।

कैबिनेट में अभी 11 लोग और शामिल हो सकते हैं, लेकिन आज के कैबिनेट विस्तार में शायद ही भाजपा और लोक जनशक्ति पार्टी से किसी को शामिल किया जाए। लोक जनशक्ति पार्टी से एक मंत्री पशुपति कुमार पारस ने भी हाजीपुर से सांसद चुने जाने के बाद इस्तीफा दे दिया है। आज जिन लोगों को शपथ दिलायी जा सकती है, उनमें पूर्व मंत्री श्याम रजक, अशोक चौधरी, संजय झा, नीरज कुमार और नरेंद्र नारायण यादव का नाम प्रमुख हैं।

शपथ लेने के तुरंद बाद ही मोदी सरकार ने एक्शन लेना शुरू कर दिया है। 30 मई को शपथ के दौरान कुछ नए चेहरे सामने आए थे जिन्होंने पीएम मोदी के साथ शपथ ली। बीजेपी की नई सरकार में अमित शाह को गृह मंत्री और राजनाथ को रक्षा मंत्री का पद मिला है।

नए गृह मंत्री बने अमित शाह आज गृह मंत्रालय पहुंचे और कार्यभार संभाला। इसी के साथ राजनाथ सिंह सुबह करीब 8 बजे इंडिया गेट स्थित नेशनल वॉर मेमोरियल गए जहां उन्होंने पहले जवानों को नमन किया और फिर रक्षा मंत्रालय पहुंचे। शाह के पद संभालने के बाद ही राजनाथ सिंह ने भी रक्षा मंत्रालय का कार्यभार संभाल लिया है।

 रक्षा मंत्री का पद संभालते ही राजनाथ एक्शन मोड़ में दिखाई दिए और उन्होंने पहली मीटिंग शुरु कर दी। बताया जा रहा है कि इस बैठक में सेना की तीनों प्रमुख मौजूद है।

       

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने आज सोनिया गांधी को संसदीय दल का नेता चुन लिया गया है। इसके अलावा बहुजन समाजवादी पार्टी की अध्यक्ष मायावती एक बैठक करने जा रही है, जिसमें लोकसभा चुनावों में उत्तर प्रदेश में महागठबंधन के फेल होने पर मंथन होगा।

लोकसभा चुनाव के बाद शपथ समारोह में मोदी के साथ 57 मंत्रियों ने अपने पद और गोपनीयता की शपथ ली। शपथ समारोह के बाद मोदी कैबिनेट की पहली बैठक शुक्रवार शाम 5 बजे होने जा रही है लेकिन उससे पहले ही मंत्रियों के विभागों का फैसला मोदी सरकार ने ले लिया है।

शपथ समारोह से पहले ही अरुण जेटली के खराब स्वास्थ के चलते नई सरकार में मंत्री न बनने के फैसले के बाद सबसे बड़ा सवाल था कि वित्त मंत्री किसे बनाया जाएगा? कयास लगाए जा रहे थे कि अमित शाह को वित्त मंत्री बनाया जाए, लेकिन जैसे ही मोदी सरकार ने मंत्री के विभागों का फैसला लिया वैसे ही सारे विभागों की सूरत साफ हो गई। मोदी सरकार ने निर्मला सीतारमण को वित्त मंत्री का पद दिया है जबकि गृह मंत्रालय का भार संभालने  के लिए अमित शाह को चुना गया है। अमित शाह को गृह मंत्री बनाया गया है। इसके साथ ही राजनाथ सिंह को रक्षा मंत्रालय सौंपा गया है।

मोदी सरकार में बने मंत्री और उनके पद की सूची

              मंत्री                                                    पद

1.     राजनाथ सिंह(कैबिनेट मंत्री)                          रक्षा मंत्रालय

2.     अमित शाह (कैबिनेट मंत्री)                           गृह मंत्रालय

3.     नितिन गडकरी (कैबिनेट मंत्री)                   सड़क एंव परिवहन मंत्रालय

4.     सदानंद गौड़ा (कैबिनेट मंत्री)                      रसायन एंव उर्वरक मंत्रालय

5.     निर्मला सीतारमण (कैबिनेट मंत्री)                      वित्त मंत्रालय

6.     राम विलास पासवान (कैबिनेट मंत्री)                  उपभोक्ता मंत्रालय

7.     नरेंद्र सिंह तोमर (कैबिनेट मंत्री)                         कृषि मंत्रालय

8.     रविशंकर प्रसाद (कैबिनेट मंत्री)                       न्याय मंत्रालय

9.     हरसिमरत कौर बादल (कैबिनेट मंत्री)          खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय

10. एस. जयशंकर (कैबिनेट मंत्री)                         विदेश मंत्रालय

11. रमेश पोखरियाल निशंक (कैबिनेट मंत्री)             मानव संसाधन मंत्रालय

12. थावर चंद गहलोत (कैबिनेट मंत्री)        सामाजिक न्याय एंव सशक्तिकरण मंत्री

13. अर्जुन मुंडा (कैबिनेट मंत्री)                      जनजातीय कार्य़ मंत्रालय

14. स्मृति ईरानी (कैबिनेट मंत्री)                  महिला एंव बाल विकास मंत्रालय

15. हर्षवर्धन (कैबिनेट मंत्री)                स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण मंत्रालय

16. प्रकाश जावड़ेकर (कैबिनेट मंत्री)         पर्य़ावरण एंव जलवायु परिवर्तन मंत्रालय

17. पीयूष गोयल (कैबिनेट मंत्री)                         रेल मंत्रालय

18. धर्मेंद्र प्रधान (कैबिनेट मंत्री)                       पेट्रोलियम मंत्रालय

19. मुख्तार अब्बास नकवी (कैबिनेट मंत्री)        अल्पसंख्यक मामलों का मंत्रालय

20. प्रह्लाद जोशी (कैबिनेट मंत्री)                      संसदीय कार्य मंत्रालय

21. महेंद्र नाथ पांडेय (कैबिनेट मंत्री)           कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय

22. अरविंद सावंत (कैबिनेट मंत्री)           भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय

23. गिरिराज सिंह (कैबिनेट मंत्री)             पशुपालन डेयरी मत्स्य पालन मंत्रालय

24. गजेंद्र सिंह शेखावत (कैबिनेट मंत्री)                 जल शक्ति मंत्रालय

25. संतोष गंगवार (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)          श्रम और रोजगार मंत्रालय

26. राव इंद्रजीत सिंह (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)  सांख्यिकी,कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय

27. श्रीपद नाईक (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)            आयुष और योग मंत्रालय

28. जितेंद्र सिंह (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)           उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय

29. किरण रिजिजू (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)                खेल मंत्रालय

30. प्रह्लाद सिंह पटेल (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)       संस्कृति एवं पर्यटन मंत्रालय

31. आरके सिंह (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)                    ऊर्जा मंत्रालय

32. हरदीप सिंह पुरी (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)      आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय

33. मनसुख मंडावतिया (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)      रसायन और उर्वरक मंत्रालय

34. फग्गन सिंह कुलस्ते (राज्य मंत्री)                इस्पात(स्टील) मंत्रालय

35. अश्विनी चौबे (राज्य मंत्री)                स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय

36. जनरल (रिटायर) वीके सिंह (राज्य मंत्री)    सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय

37. कृष्ण पाल गुज्जर (राज्य मंत्री)                   सामाजिक न्याय मंत्रालय

38. दानवे रावसाहेब दादाराव (राज्य मंत्री)            उपभोक्ता मामले मंत्रालय

39. जी. किशन रेड्डी (राज्य मंत्री)            राज्य में गृह विभाग के कार्य मंत्रालय

40. पुरुषोत्तम रुपाला (राज्य मंत्री)               कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय

41. रामदास आठवले (राज्य मंत्री)                  सामाजिक एंव न्याय मंत्रालय

42. साध्वी निरंजन ज्योति (राज्य मंत्री)        ग्रामीण राज्य मंत्री विकास मंत्रालय

43. बाबुल सुप्रियो (राज्य मंत्री)           पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय

44. संजीव कुमार बालियान (राज्य मंत्री)              पशु मंत्रालय में राज्य मंत्री

45. धोत्रे संजय शमराव (राज्य मंत्री)              मानव एंव संसाधन विकास मंत्रालय                                                                  

46. अनुराग सिंह ठाकुर (राज्य मंत्री)                वित्त मंत्रालय में राज्य मंत्री

47. सुरेश अंगादि (राज्य मंत्री)                     रेल मंत्रालय में राज्य मंत्री

48. नित्यानंद राय (राज्य मंत्री)                  गृह मंत्रालय में राज्य मंत्री मामले

49. वी मुरलीधरन (राज्य मंत्री                     विदेश मंत्रालय राज्य मंत्री मामले

50. रेणुका सिंह (राज्य मंत्री)                          जनजातीय मंत्रालय

51. सोम प्रकाश (राज्य मंत्री)                     वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय

52. रामेश्वर तेली (राज्य मंत्री)                          खाद्य मंत्रालय

53. प्रताप चंद्र सारंगी (राज्य मंत्री)          सूक्ष्म और छोटे एंव मध्यम उद्यम मंत्रालय

54. कैलाश चौधरी (राज्य मंत्री)                 कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय

55. देबाश्री चौधरी (राज्य मंत्री)                  महिला और बाल विकास मंत्रालय

56. अर्जुन राम मेघवाल (राज्य मंत्री)                  संसदीय कार्य मंत्रालय

57. रतन लाल कटारिया(राज्य मंत्री)                      जल मंत्रालय

 

लोकसभा चुनाव की प्रचंड़ जीत के बाद नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ले ली है। गुरुवार शाम 7 बजे पीएम नरेंद्र मोदी के साथ मंत्रिमंडल के 57 सहयोगियों ने पद और गोपनीयता की शपथ ली। शपथ समारोह के बाद शुक्रवार को शाम 5 बजे मोदी कैबिनेट की पहली बैठक होनी है।

बता दें कि मोदी के नए मंत्रिमंडल में फिलहाल मंत्रालयों का बंटवारा नहीं हुआ है, लेकिन माना जा रहा है कि थोड़ी देर में विभागों का एलान कर दिया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण, नितिन गडकरी, राम विलास पासवान, नरेंद्र सिंह तोमर और रविशंकर प्रसाद के विभागों में बदलाव नहीं होगा।


फिलहाल कयास लगाए जा रहे है कि अमित शाह को वित्त मंत्री और एस. जयशंकर को विदेश मंत्री बनाया जा सकता है। इस बार स्वास्थ्य कारणों से वित्त मंत्री रहे अरुण जेटली और विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज ने मोदी कैबिनेट का हिस्सा नहीं हैं। इतनी अटकलों के बीच अंतिम फैसला पीएम मोदी को लेना है कि किसके जिम्मे कौन-सा मंत्रालय होगा।

शपथ समारोह में शपथ लेने वाले मंत्री:

  1. नरेंद्र मोदी (प्रधानमंत्री)
  2. राजनाथ सिंह (कैबिनेट मंत्री)
  3. अमित शाह (कैबिनेट मंत्री)
  4. नितिन गडकरी (कैबिनेट मंत्री)
  5. सदानंद गौड़ा (कैबिनेट मंत्री)
  6. निर्मला सीतारमण (कैबिनेट मंत्री)
  7. राम विलास पासवान (कैबिनेट मंत्री)
  8. नरेंद्र सिंह तोमर (कैबिनेट मंत्री)
  9. रविशंकर प्रसाद (कैबिनेट मंत्री)
  10. हरसिमरत कौर बादल (कैबिनेट मंत्री)
  11. एस. जयशंकर (कैबिनेट मंत्री)
  12. रमेश पोखरियाल निशंक (कैबिनेट मंत्री)
  13. थावर चंद गहलोत (कैबिनेट मंत्री)
  14. अर्जुन मुंडा (कैबिनेट मंत्री)
  15. स्मृति ईरानी (कैबिनेट मंत्री)
  16. हर्षवर्धन (कैबिनेट मंत्री)
  17. प्रकाश जावड़ेकर (कैबिनेट मंत्री)
  18. पीयूष गोयल (कैबिनेट मंत्री)
  19. धर्मेंद्र प्रधान (कैबिनेट मंत्री)
  20. मुख्तार अब्बास नकवी (कैबिनेट मंत्री)
  21. प्रह्लाद जोशी (कैबिनेट मंत्री)
  22. महेंद्र नाथ पांडेय (कैबिनेट मंत्री)
  23. अरविंद सावंत (कैबिनेट मंत्री)
  24. गिरिराज सिंह (कैबिनेट मंत्री)
  25. गजेंद्र सिंह शेखावत (कैबिनेट मंत्री)
  26. संतोष गंगवार (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  27. राव इंद्रजीत सिंह (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  28. श्रीपद नाईक (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  29. जितेंद्र सिंह (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  30. किरण रिजिजू (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  31. प्रह्लाद सिंह पटेल (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  32. आरके सिंह (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  33. हरदीप सिंह पुरी (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  34. मनसुख मंडावतिया (राज्य मंत्री-स्वतंत्र प्रभार)
  35. फग्गन सिंह कुलस्ते (राज्य मंत्री)
  36. अश्विनी चौबे (राज्य मंत्री)
  37. जनरल (रिटायर) वीके सिंह (राज्य मंत्री)
  38. कृष्ण पाल गुज्जर (राज्य मंत्री)
  39. दानवे रावसाहेब दादाराव (राज्य मंत्री)
  40. जी. किशन रेड्डी (राज्य मंत्री)
  41. पुरुषोत्तम रुपाला (राज्य मंत्री)
  42. रामदास आठवले (राज्य मंत्री)
  43. साध्वी निरंजन ज्योति (राज्य मंत्री)
  44. बाबुल सुप्रियो (राज्य मंत्री)
  45. संजीव कुमार बालियान (राज्य मंत्री)
  46. धोत्रे संजय शमराव (राज्य मंत्री)
  47. अनुराग सिंह ठाकुर (राज्य मंत्री)
  48. सुरेश अंगादि (राज्य मंत्री)
  49. नित्यानंद राय (राज्य मंत्री)
  50. वी मुरलीधरन (राज्य मंत्री)
  51. रेणुका सिंह (राज्य मंत्री)
  52. सोम प्रकाश (राज्य मंत्री)
  53. रामेश्वर तेली (राज्य मंत्री)
  54. प्रताप चंद्र सारंगी (राज्य मंत्री)
  55. कैलाश चौधरी (राज्य मंत्री)
  56. देबाश्री चौधरी (राज्य मंत्री)
  57. अर्जुन राम मेघवाल (राज्य मंत्री)
  58. रतन लाल कटारिया(राज्य मंत्री)

मोदी के पीएम पद की शपथ को लेकर सियासत इतनी गर्म थी कि उसका असर शेयर बाजार पर भी पड़ा। मोदी के शपथ लेते ही शेयर बाजार में भी ऐतिहासिक उझाल आया है। सेंसेक्स में 40,000 से ज्यादा का जबरदस्त उझाल देखने को मिला है। बता दें कि मोदी के शपथ लेते ही शेयर बाजार में यह उझाल आया है। शेयर बाजार में पहली बार इतना बड़ा उझाल देखने को मिला है।

बतातें चलें कि 23 मई को मतगणना के दौरान जब BJP पूर्ण बहुमत की तरफ बढ़ रही थी तब भी सेंसेक्स में उझाल देखने को मिला था। कल 30 मई को मोदी के शपथ लेते ही शेयर बाजार ने इतिहास रचते हुए सेंसेक्स ने 200 अंकों के उझाल के साथ 40044 का आंकड़ा छु लिया। सेंसेक्स में आए इतने बड़े उझाल को देखते हुए कहा जा सकता है कि निवेशकों के अच्छे दिन आ गए है।

सेंसेक्स के साथ निफ्टी में भी भारी उझाल देखने को मिला है। निफ्टी जहां 10,000 और 11000 के बीच रहता था वह इस उझाल से 12000 के पार पहुंच गया है। बताया जा रहा है कि आने वाले 6 जून को RBi क्रैडिट पॉलिसी का ऐलान होने वाला है। जानकारों का कहना है कि मोदी सरकार के आते ही यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि आने वाले 2 साल में सेंसेक्स का यह आंकड़ा 50 हजार के पार जाने की उम्मीद है।

लोकसभा चुनाव की प्रचंड़ जीत के बाद आखिर वो समय आ ही गया जब नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति के नेत्रत्व में 2 मिनट के समय में यह शपथ पूरी की। बता दें कि नरेंद्र मोदी ने शपथ लेने से पहले ट्वीट कर देश की सेवा करने पर गौरव करने की बात कही। बता दें कि शपथ ग्रहण समारोह में 6 दर्जन देशों के राजदूत शामिल रहे।

 

प्रधानमंत्री के साथ अमित शाह ,राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी ने मंत्री पद की शपथ ग्रहण की।

 

नरेंद्र मोदी सरकार का शपथ ग्रहण समारोह कल यानि 30 मई को होगा। इससे पहले ही सियासी हलचल गर्माने लगी है। कुछ घण्टे पहले समारोह में शामिल होने की बात कहने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अचानक यू-टर्न ले लिया है। उन्होंने शपथ ग्रहण सामरोह में आने से इनकार कर दिया है।

ममता ने एक चिट्ठी जारी कर लिखा है कि भाजपा ने इस कार्यक्रम में मृत बीजेपी कार्यकर्ताओं के परिवार वालों को बुलाया है और इसे राजनीतिक हत्या करार दिया है। ममता ने कहा है कि ये राजनीतिक हत्या नहीं है, बल्कि आपसी रंजिशों के मसले हैं।

ममता बनर्जी ने चिट्ठी में लिखा है, ‘बधाई, नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी। आपके संवैधानिक आमंत्रण को मैंने स्वीकार कर लिया था और आपके शपथ ग्रहण समारोह में मैं आने को तैयार थी। लेकिन पिछले कुछ समय में मैंने रिपोर्ट्स देखी हैं कि भारतीय जनता पार्टी कह रही है कि उन्होंने भाजपा के उन 54 कार्यकर्ताओं के परिवार को भी न्योता दिया है जिनकी बंगाल में राजनीतिक हत्या कर दी गई है।’

ममता ने लिखा कि ये बिल्कुल झूठ है, बंगाल में कोई राजनीतिक हत्या नहीं हुई है। ये हत्याएं आपसी रंजिश, पारिवारिक लड़ाई और अन्य मसलों की वजह से हुई है। इनका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है, ऐसा कोई रिकॉर्ड भी नहीं है।

उन्होंने लिखा कि सॉरी नरेंद्र मोदी जी, इसी वजह से मैं आपके शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाउंगी। ये समारोह लोकतंत्र का जश्न मनाने वाला था, लेकिन किसी एक राजनीतिक दल को नीचा दिखाने वाला नहीं है। कृप्या मुझे क्षमा करें।

बता दें कि बंगाल में लोकसभा चुनाव के दौरान जमकर हिंसा हुई थी। जिसमें भारतीय जनता पार्टी के कई कार्यकर्ता मारे गए थे। भाजपा ने नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में इन सभी 54 भाजपा कार्यकर्ता के परिवारों को बुलाया था। जिसे भाजपा की मिशन 2020 की रणनीति का हिस्सा माना जा रहा था।

गौरतलब है कि इस बार बंगाल में भारतीय जनता पार्टी ने ऐतिहासिक जीत हासिल की है। बंगाल की कुल 42 लोकसभा सीटों में से भाजपा ने 18 सीटों पर जीत हासिल की है तो वहीं टीएमसी 22 सीटें जीत पाई है। BJP को करीब 40 फीसदी वोट बंगाल में मिला है।

लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत के बाद 30 मई को पीएम मोदी और उनका मंत्रिमंडल शपथ लेगा। ऐसे में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पीएम मोदी को अपनी खराब सेहत का हवाला देते हुए चिठ्ठी लिखी है जिसमें उन्होंने मंत्री बनने से इंकार की बात की है।

बीमारी से जूझ रहे वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। ट्विटर पर चिट्ठी को शेयर करते हुए जेटली ने लिखा, 'पिछले 18 महीने से मैं बीमार हूं। मेरी तबीयत खराब है, इसलिए मुझे मंत्री न बनाने पर विचार करें।'

जेटली ने लिखा, 'पीएम मोदी की अगुवाई में 5 साल काम करने का अनुभव बहुत ही अच्छा रहा। इससे पहले भी एनडीए सरकार में मुझे जिम्मेदारियां दी गईं। सरकार के अलावा संगठन और विपक्ष के नेता के रूप में मुझे अहम जिम्मेदारियों से नवाजा गया। अब मुझे कुछ नहीं चाहिए।' पिछले 18 महीनों से मैं गंभीर बीमारी से पीड़ित हूं। चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद जब आप केदारनाथ जा रहे थे, तब मैंने आपको औपचारिक तौर पर कहा था कि स्वास्थ्य कारणों से मैं भविष्य में कोई भी जिम्मेदारी उठाने में असमर्थ रहूंगा। मुझे अपने इलाज और स्वास्थ्य पर ध्यान देना है। बीजेपी और एनडीए ने आपके नेतृत्व में शानदार जीत दर्ज की है। कल नई सरकार का शपथ ग्रहण होने वाला है।'

जेटली ने लिखा, 'मैं आपसे औपचारिक रूप से अनुरोध करने के लिए लिख रहा हूं कि मुझे अपने इलाज और स्वास्थ्य के लिए उचित समय चाहिए और इसलिए मैं नई सरकार में किसी भी जिम्मेदारी का हिस्सा नहीं बनना चाहता हूं। इसके बाद निश्चित तौर पर मेरे पास काफी समय होगा, जिसमें मैं अनौपचारिक रूप से सरकार या पार्टी में कोई भी सहयोग कर सकता हूं।'

बता दें कि पिछले साल मई में अरुण जेटली का किडनी प्रत्यारोपण हुआ था। इसके बाद जेटली के बायें पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर हो गया है, जिसकी सर्जरी के लिए वह जनवरी में अमेरिका भी गए थे।

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की बात सामने आई थी। हालांकि यह इस्तीफा खारिज कर दिया गया। अब इस मामले में राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने बड़ा बयान दिया है।

लालू प्रसाद यादव ने कहा कि राहुल गांधी का इस्तीफा देना आत्मघाती कदम होगा। उन्होंने कहा कि राहुल का कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना ने केवल उनकी पार्टी के लिए बल्कि उन दलों के लिए आत्मघाती होगा जो संघ परिवार के खिलाफ लड़ रहे हैं।

लालू ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि ऐसा करना बीजेपी के जाल में फंसने जैसा होगा। गांधी-नेहरू परिवार से हटकर जैसे ही कोई शख्स कांग्रेस अध्यक्ष पद पर काबिज होगा, वैसे ही नरेंद्र मोदी और अमित शाह की ब्रिगेड के लोग उसे कठपुतली करार देना शुरू कर देंगे। ये लोग ऐसा कहना अगले लोकसभा चुनाव तक जारी रखेंगे। राहुल को अपने राजनीतिक विरोधियों को ऐसा मौका नहीं देना चाहिए।

उन्होंने कहा, “भाजपा के खिलाफ इस चुनावी लड़ाई में पूरा विपक्ष पूरी तरह से विफल हो गया है। सांप्रदायिक और फासिस्ट ताकतों को सत्ता से हटाने में लगे सभी विपक्षी दलों को अपनी संयुक्त हार स्वीकारनी होगी। उन्हें इस बात पर विचार करना होगा कि चूक कहां हो गई।”
लालू ने कहा कि सभी विपक्षी पार्टियां भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए एकजुट हुई थीं लेकिन वो इस पर पूरे देश का नैरेटिव नहीं सेट कर पाईं। विपक्षी पार्टियों ने यह लड़ाई विधानसभा चुनाव की तरह लड़ी। वो खुद को भाजपा के विकल्प के रूप में नहीं पेश कर पाईं।

लालू ने कहा, “हर चुनाव की अपनी अलग कहानी होती है। भाजपा के पास नरेंद्र मोदी के रूप में एक सर्वमान्य नेता थे। लेकिन विपक्षी पार्टियां किसी एक चेहरे पर सहमति नहीं बना पाईं जो उनके खिलाफ गई।”

राजद अध्यक्ष ने कहा कि लोगों को याद होगा कि साल 2015 में मैं यह नहीं चाहता था कि नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री बनें। लेकिन जब जनता परिवार के सबसे वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव ने नीतीश को बिहार महागठबंधन का सीएम प्रत्याशी घोषित किया तो मैं मान गया। मैंने बीजेपी से पूछा कि आपकी बारात का दुल्हा कौन है। कुछ ही इस बार विपक्ष को करना चाहिए था।
 
उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से जहरीली शराब का कहर देखने को मिला है। बाराबंकी में जहरीली शराब पीने से छह लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है। जबकि 15 की हालत गंभीर है।
रामनगर के रानीगंज इलाके में कई गांव के लोग चपेट में आगए। पुलिस और आबकारी विभाग के अधिकारी मौके पर मौजूद हैं। पूरे इलाके में कोहराम मचा हुआ है।

आपको बता दें कि जिस दुकान से इन लोगों ने शराब खरीदी थी, वो दुकान दानवीर सिंह के नाम पर आवंटित की गई है। शराब पीने के बाद से ही सभी की तबीयत बिगड़ गई, आनन फानन में अस्पताल ले जाया गया। सीएचसी से जिला अस्पताल रेफर किया गया। 

इनमें से तीन सगे भाइयों की शराब पीने से मौत हुई है। रमेश पुत्र छोटे लाल (35), सोनू पुत्र छोटे लाल (25) ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। जबकि मुकेश पुत्र छोटे लाल (28) घर पर मौत हो गई। 
वहीं छोटे लाल पुत्र घुरू वाल्मीकि को जिला अस्पताल रेफर किया गया है। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस और आबकारी विभाग के अधिकारी पहुंचे है। फिलहाल जांच की जा रही है। 

गौरतलब है कि यूपी और उत्तराखंड में इससे पहले इस साल फरवरी में भी जहरीली शराब का कहर देखने को मिल चुका है। 
 
गोरखपुर लोकसभा सीट से रिकॉर्ड वोटों से जीतने वाले रवि किशन का आज बीजेपी कार्यालय पर भव्य स्वागत किया गया। भारतीय जनता पार्टी गोरखपुर के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने ढोल नगाड़ों और फूल मालाओं के साथ रवि किशन का पार्टी कार्यालय पर स्वागत किया और कार्यालय में उनका अभिनंदन किया गया। 7 लाख वोटों से जीत दर्ज करने वाले रवि किशन ने योगी आदित्यनाथ के भी सबसे ज्यादा मत पाने के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है।

इस बार गोरखपुर की जनता और कार्यकर्ताओं का पूरा समर्थन उनको मिला और उसी समर्थन का धन्यवाद ज्ञापित करने के लिए रवि किशन ने आज कार्यकर्ताओं की एक बैठक की। इस बैठक में इस चुनाव में पूरी जी जान से लगे हुए कार्यकर्ताओं को उन्होंने इस सहयोग के लिए धन्यवाद दिया और उनका हर कदम पर साथ देने का वादा किया।
वहीं भारतीय जनता पार्टी के क्षेत्रीय संगठन मंत्री प्रदीप शुक्ला ने कहा कि उपचुनाव हार के बाद पार्टी पूरा मंथन की और अपने हर कमजोर विंदू को मजबूत किया और उसी का परिणाम आज सब  जीत के रूप में दिखाई दे रहा।

वही गोरखपुर विश्वविद्यालय के पूर्व महामंत्री नीरज शाही ने कहा जिस दिन हमारी हार हुई थी उसी दिन हमने अपनी कमियां ढूंढना शुरू कर दिया था और अपने हर कमजोर बिंदु को पूरी तरह से मजबूत किया और उसके बाद जनता के बीच गए तब ऐसा परिणाम सामने आया।
 
आवाज और शरीर से तो मासूम है, लेकिन जो सुर इस बच्चे की जुबान से लिकले हैं वो असरदार है। कल का भविष्य और आने वाले वक्त का मोदी या युं कहें कि नन्हा मोदी। इस बच्चे का नाम का तो नहीं पता, लेकिन जिस बुलंदी के साथ सुर फूंक रहा है इससे साफ है कि मोदी एक सोच बन गए हैं। जिसको खत्म कर पाना विपक्ष के लिए नामुमकिन है।

इस बच्चे ने पीएम मोदी की नकल करते हुए कहा, भाइयों और बहनों मेरे साथ दो हाथ मुठ्ठी बंद करके तीन बार नारा लगाओ भारत माता की, वीर भारत की, वीर जवानों की, भइयों और बहनों मुझे कसम इस मिट्टी की ये देश नहीं रुकने दूंगा मुझे कसम इस मिट्टी की ये देश नहीं झूकने दूंगा मुझे कसम इस मिट्टी की ये देश नहीं झूकने दूंगा।

कांग्रेस के संबंध में सवाल पूछ जाने पर  नन्हें मोदी ने कहा, राहुल गांधी तो नहीं जीत पाएंगे।  
 

06:45 PM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अध्यक्ष पद से दे सकते हैं इस्तीफाः सूत्र

06:20 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर हैंडल से चौकीदार नाम हटाया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर हैंडल से चौकीदार नाम हटाया। उन्‍होंने लिखा कि भारत की जनता चौकीदार बन गई और उन्‍होंने देश की सेवा की। जातिवाद, साम्‍प्रदायिकता, भ्रष्‍टाचार और भाई भतीजावाद से भारत को बचाने के लिए चौकीदार ताकतवर प्रतीक बन गया। अब चौकीदार की भावना को अलग लेवल पर ले जाने का समय आ गया है। इस भावना को हर पल जिंदा रखें. मेरे टि्वटर नाम से चौकीदार जा रहा है लेकिन यह मेरा अभिन्‍न अंग रहेगा।
 
05:59 PM
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी बधाई
 

05:49 PM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी को दी जीत की बधाई
 
05:25 PM
जापान, रूस, चीन, इजरायल, वियतनाम के राष्‍ट्र प्रमुखों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लोकसभा चुनाव जीत दर्ज करने की बधाई दी है।
 
05:15 PM
कुछ ही छणों में BJP अध्यक्ष अमित शाह करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस 
बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह जल्‍द ही लोकसभा चुनावों को लेकर मीडिया से मुखातिब होंगे। बता दें उनके अध्‍यक्ष रहते बीजेपी ने दूसरी बार लोकसभा चुनाव जीता है.

05:11 PM
केंद्रीय मंत्री और आसनसोल से बीजेपी प्रत्याशी बाबुल सुप्रीयो जीते
केंद्रीय मंत्री और बीजेपी उम्‍मीदवार बाबुल सुप्रियो पश्चिम बंगाल की आसनसोल सीट से जीत गए हैं। उन्‍होंने तृणमूल कांग्रेस की मून मून सेन को हराया. वे दूसरी बार सांसद चुने गए हैं।


05:00 PM
कैप्टन अमिरंदर ने सिद्धू पर फोड़ा हार का ठीकरा, बोले- बाजवा को गले लगाने से हुआ नुकसान


04:56 PM
बिहार में बीजेपी दफ्तर के बाहर कार्यकर्ताओं ने बीजेपी की प्रचंड जीत का मनाया जश्न
   
04:45 PM
कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी केरल की वायानाड लोकसभा सीट पर करीब आठ लाख से ज्‍यादा मतों से बढ़त बनाए हुए हैं। एक तरह से उनकी जीत हो चुकी है बस चुनाव आयोग के आधिकारिक ऐलान का इंतजार है।

04:30 PM
ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में एनडीए की जीत का जश्न मनाते समर्थक
 
04:22 PM
बॉलीवुड अभिनेता अजय देवगन ने प्रधानमंत्री मोदी को दी बधाई

बॉलीवुड अभिनेता अजय देवगन ने भी लोकसभा चुनाव में भारी जीत की ओर बढ़ रहे नरेंद्र मोदी को शुभकामनाएं दी हैं। नरेंद्र मोदी को टैग करते हुए अजय देवगन ने लिखा, देश को पता था कि उसके लिए क्या सही है और उन्होंने अपनी पसंद पा ली है।

04:18 PM
इन अभिनेताओं को मिली जीत
 
यूपी के गोरखपुर से बीजेपी के रवि किशन जीते, पंजाब के गुरुदासपुर से सनी देओल को मिली जीत.

04:15 PM
किरण खेर अपने निकटम प्रतिद्वंदी से आगे
चंडीगढ़ लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रही बॉलीवुड एक्ट्रेस और बीजेपी सांसद अपने प्रतिद्वंद्वी से आगे चल रही है। रुझानों में किरण निकटतम कांग्रेस उम्मीदवार पवन कुमार बंसल से करीब 7 हजार मतों से आगे हैं. चंडीगढ़ सीट से ये किरण खेर का दूसरा चुनाव है.

04:05 PM
NDA की प्रचंड जीत पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- 'यह मोदी जी के नेतृ्त्व की जीत।'

 
04:00 PM
बंपर जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 28 मई को काशी पहुंचेंगे। मोदी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन कर उनका आशीर्वाद लेंगे.

03:55 PM
BJP की बंपर जीत पर L. K. आडवाणी ने दी बधाई

BJP की शानदार जीत पर भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण ने PM नरेंद्र मोदी और अमित शाह को बधाई दी है।
 

03:47 PM
BJP अध्यक्ष अमित शाह पहुंचे पार्टी हेडक्वार्टर

BJP अध्यक्ष अमित शाह पार्टी हेडक्वार्टर पहुंच गए हैं, कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया।
 

03:42 PM
नरेंद्र मोदी के सत्ता में दोबारा वापसी पर सोशल मीडिया में कई फिल्मी कलाकार उन्हें बधाई दे रहे हैं। 


03:40 PM 
साढ़े तीन लाख से ज्यादा वोटों से विजयी हुए नरेंद्र मोदी

03:18 PM

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने भी प्रधानमंत्री मोदी को आम चुनाव में प्रचंड जीत की बधाई दी है।
 

02:53 PM
लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचंड जीत मिलने पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने प्रधानमंत्री मोदी को जीत की शुभकामनाएं दी हैं।

 
02:51 PM 

NDA की प्रचंड जीत पर जापान के पीएम शिंजो आबे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया और जीत की दी बधाई 
 
02:50 PM
मध्य प्रदेश में बीजेपी 28 सीटों पर आगे, कांग्रेस के ज्‍योतिरादित्‍य, भूरिया और दिग्विजय सिंह पीछे।

02:49 PM
देश में दोबारा बीजेपी सरकार को प्रचंड जीत के मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया है, उन्होंने लिखा- 'सबका साथ+सबका विकास+सबका विश्वास= विजयी भारत'

02:43 PM
पश्चिम बंगाल में बीजेपी का अभूतपूर्व प्रदर्शन. टीएमसी 22, बीजेपी 19 और कांग्रेस 1 सीट पर आगे।

02:42 PM
अमित शाह ने दोबरा मोदी सरकार बनने पर दी बधाई
 
लोकसभा चुनाव में NDA की बंपर जीत को लेकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का ट्वीट कर मोदी सरकार बनाने के लिए देशवासियों को बधाई

02:41 PM
रिकॉर्डतोड़ जीत की ओर बढ़ रही एनडीए, BJP को अकेले 301 सीटें

02:40PM
यूपी की गोरखपुर लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी रवि किशन शुक्ला 205000 से आगे चल रहे हैं।

02:35 PM
राहुल गांधी के 'हाथ' से अमेठी फिसलती जा रही है अमेठी

ताजा रुझानों में बीजेपी की स्मृति ईरानी 11226 वोटों से बढ़त बनाए हुए हैं और उनकी जीत पक्की मानी जा रही है। 

02:30 PM
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट कर चुनाव जीतने वाले सभी प्रत्याशियों को बधाई दी है। इसके साथ ही ममता ने कहा कि सभी हारने वाले लूजर नहीं हैं। ममता ने कहा कि हम इसकी समीक्षा करेंगे, तब अपने विचार रखेंगे. ममता ने कहा कि मतगणना पूरी होने दीजिए और वीवीपैट से मिलान होने दीजिए।


02:25 PM
महाराष्ट्र: औरंगाबाद सीट से ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के नेता इम्तियाज़ ज़लील 35000 वोटों से आगे चल रहे हैं।

02:08 PM
ताजा रुझानों में बंपर जीत के बाद बीजेपी में जश्न का दौर शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शाम 5:30 बजे बीजेपी हेडक्वार्टर पहुंचकर पदाधिकारियों से मुलाकात करेंगे और 6 बजे देश के नाम संदेश देंगे।

02:03 PM
यूपी के चंदौली से डॉ. महेंद्र नाथ पांडे करीब 29 हजार वोटों से आगे हैं। देवरिया से रमापति राम त्रिपाठी 1.17 लाख वोटों से आगे चल रहे हैं।

02:00PM
राहुल गांधी ने वायानाड सीट तो भारी मतों से जीत ली है, लेकिन उनकी अमेठी सीट फंस गई है। यहां बीजेपी की स्मृति ईरानी पांचवें राउंड की काउंटिंग में भी बढ़त बनाए हुए हैं। इस बीच सोनिया गांधी राहुल गांधी से मिलने पहुंचीं।

01:55 PM
पहाड़ों जैसी दुखों के बीच राहुल को मिली चींटी जैसी खुशी

राहुल गांधी ने वायानाड सीट तो भारी मतों से जीत ली है, लेकिन उनकी अमेठी सीट फंस गई है। यहां बीजेपी की स्मृति ईरानी पांचवें राउंड की काउंटिंग में भी बढ़त बनाए हुए हैं। इस बीच सोनिया गांधी राहुल गांधी से मिलने पहुंचीं।

01:49 PM
यूपी के उन्नाव से साक्षी महाराज 3.21 लाख वोटों से आगे चल रहे हैं। देवरिया से बीजेपी के रमापति राम त्रिपाठी 1.12 लाख वोटों से आगे चल रहे हैं। फतेहपुर से साध्वी निरंजन ज्योति 1.15 लाख वोटों से आगे चल रही हैं।

01:48 PM
जम्मू-कश्मीर में अबतक की मतगणना में रुझानों में पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती अनंतनाग सीट से पिछड़ गई हैं। वो तीसरे नंबर पर हैं. नेशनल कॉन्फ्रेंस के हसनैन मसूदी बड़े अंतर से सबसे आगे चल रहे हैं, जबकि दूसरे नंबर पर कांग्रेस के गुलाम अहमद मीर हैं।

01:47 PM
राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ का विधानसभा चुनाव जीतने वाली कांग्रेस इन तीनों राज्यों में पीछे चल रही है​

01:45 PM
बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने एनडीए को जीत की दी बधाई

01:40 PM
मध्य प्रदेश की भोपाल सीट पर बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर एक लाख से ज्यादा वोटों से आगे चल रही हैं।

01:37 PM
इज़राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने प्रधानमंत्री मोदी को बंपर जीत की बधाई दी है।

01:30PM 
राहुल गांधी ने केरल की वायानाड सीट जीत ली है, लेकिन अमेठी सीट खतरे में हैं। यहां शुरुआत से ही बीजेपी की स्मृति ईरानी बढ़त बनाए हुए हैं।

01:20 PM
गोरखपुर सदर सपा प्रत्याशी राम भुवाल निषाद गिनती छोड़ बाहर निकले कहा- जनता नहीं ईवीएम के कारण हो रही है भाजपा की जीत।

01:10 PM
आंध्र प्रदेश विधानसभा रिजल्ट: YSRCP की जीत पक्की। टीडीपी के खराब प्रदर्शन को देखते हुए मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू शाम 5 बजे इस्तीफा दे सकते हैं। वहीं, वाईएस जगनमोहन रेड्डी 30 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं।

 
12:57 PM
आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनाव में टीडीपी चीफ चंद्रबाबू नायडू को करारा झटका लगा है। अभी तक के रुझानों में YSRCP को 175 में से 149 सीट पर बढ़त मिल गई है। सत्तारुढ़ TDP को 25 सीटों पर बढ़त है जबकि एक सीट पर जनसेना पार्टी आगे चल रही है. ऐसे में YSRCP की जीत तय है।

12:45 PM
तेलंगाना के सीएम के. चंद्रशेखर राव ने ताजा रुझानों में एनडीए की भारी जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जीत की बधाई दी है।

12:40 PM
ताजा रुझानों में राज्यवार बीजेपी का वोट शेयर

हिमाचल प्रदेश: 68.8%
गुजरात: 61.7%
उत्तराखंड: 60.1%
उत्तर प्रदेश: 59%
मध्य प्रदेश: 58.5%
राजस्थान: 58.4%
हरियाणा: 58%
दिल्ली: 56.7%
कर्नाटक: 51.7%
छत्तीसगढ़: 49.7%
झारखंड: 49.2%

12:32 PM
मतगणना के शुरुआती रुझान को लेकर उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया है. उन्होंने कहा, 'तो एग्जिट पोल के  अनुमान सटीक साबित हो रहे। अब बस बाकी पार्टियों का बीजेपी-एनडीए को जीत की बधाई देना रह गया है।

 
12:30 PM
श्रीनगर सीट से फारूख अबदुल्लाह ने नेशनल कांफ्रेंस का खोला खाता

12:26 PM
बीजेपी ने हिमाचल प्रदेश BJP ने किया क्लीन स्वीप 

12:25 PM
हैदराबाद लोकसभा सीट से AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी 85 हजार वोटों से आगे 

12:20 PM
बिहार में महागठबंधन का सूपड़ा साफ

12:15 PM
हमीरपुर से अनुराग ठाकुर ने बीजेपी का खोला खाता, 2 लाख 85 हजार वोटों से हुए विजयी

12:12 PM
पूर्वी दिल्ली से बीजेपी के गौतम गंभीर 105863 वोटों के साथ आगे, अरविंदर सिंह लवली 53342 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर और AAP की अतिशी 37231 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर। 

12:09 PM
पूर्वी दिल्ली से बीजेपी के गौतम गंभीर 105863 वोटों के साथ आगे, अरविंदर सिंह लवली 53342 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर और AAP की अतिशी 37231 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर।

12:05 PM
बिहार के बेगूसराय में बीजेपी उम्मीदवार गिरिराज सिंह सीपीआई उम्मीदवार कन्हैया कुमार से 127365 मतों से निकलें आगे

12:00 PM
भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक होगी आज, पीएम मोदी आज शाम 5.30 बजे पार्टी कार्यालय में भाजपा कार्यकर्ताओं से करेंगे मुलाकात

 
11:55 AM
आजमगढ़ में निरहुआ 25 हजार वोटों से चल रहे हैं पीछे

11:45 AM
ताजा रुझानों के अनुसार वाराणसी से PM मोदी 163299 वोटों से आगे

11:35 AM
ओडिशा के पुरी लोकसभा सीट से बीजेपी कैंडिडेट संबित पात्रा 700 वोटों से आगे।

 
11:25 AM
 यूपी में मोदी-शाह की जोड़ी के सामने 'बुआ-बबुआ' की जोड़ी हुई पस्त

11:15 AM
अमेठी से राहुल गांधी 4300 वोटों से पीछे

 
11:05 AM 
दिल्ली में भाजपा मुख्यालय के बाहर सुरक्षा बढ़ाई गई; आधिकारिक रुझानों के अनुसार, बीजेपी 295 सीटों पर आगे चल रही है। # LokSabhaElections2019

10:59 AM
गुजरात के गांधीनगर से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह 125000 वोटों से आगे।

 
10:55 AM
जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग से नेशनल कॉन्फ्रेंस की उम्मीदवार महबूबा मुफ्ती तीसरे नंबर पर खिसक गई हैं। यहां सभी 6 सीटों पर बीजेपी बढ़त बनाए हुए है।

10:50 AM
यूपी के फर्रुखाबाद से बीजेपी के मुकेश राजपूत आगे चल रहे हैं। वहीं कांग्रेस प्रत्याशी सलमान खुर्शीद तीसरे नंबर पर पिछड़ गए हैं।

10:40 AM
छत्तीसगढ़ में बीजेपी 9 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। कांग्रेस 2 सीटों पर आगे चल रही है। बता दें कि यहां कुल 11 लोकसभा सीटें हैं।

10:30 AM
ओडिशा विधानसभा रिजल्ट: ओडिशा में 38 सीटों पर आए ताजा रुझानों में 29 पर बीजेडी आगे, 7 पर बीजेपी को बढ़त।
 

10:24 AM
बंगाल में ताजा रुझानों के मुताबिक टीएमसी 18, बीजेपी 14 और कांग्रेस 2 सीटों पर आगे चल रही हैं।

10:22 AM
नॉर्थ ईस्ट दिल्ली लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी मनोज तिवारी अपनी और एनडीए की जीत को लेकर आश्वस्त हैं. उन्होंने कहा- 'अबकी बार, 300 पार'।
 
10:21 AM

यूपी के सुल्तानपुर लोकसभा सीट से बीजेपी की मेनका गांधी पीछे चल रही हैं, गठबंधन उम्मीदवार चंद्र भद्र सिंह आगे निकल गए हैं।

10:20 AM
दिल्ली की सभी 7 लोकसभा सीटों पर बीजेपी के उम्मीदवार आगे चल रहे हैं। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है। 

10:18 AM 

जया प्रदा रामपुर लोकसभा सीट से करीब 2400 मतों से आगे चल रही हैं। इससे पहले मतगणना के रुझान में जया, समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार आजम खान से 700 मतों से पीछे चल रही थीं।

10:17 AM
केंद्रीय मंत्री और बिहार की पटना साहिब लोकसभा सीट से लोकसभा उम्मीदवार रवि शंकर प्रसाद आगे चल रहे हैं। इस सीट पर रवि शंकर का मुकाबला कांग्रेस उम्मीदवार शत्रुघ्न सिन्हा से है। शत्रुघ्न सिन्हा ने पिछली पटना साहिब सीट से चुनाव जीतते आए हैं. लेकिन इस बार अभी रुझान में वो पीछे हैं।

10:16 AM
नॉर्थ ईस्ट दिल्ली से बीजेपी नेता मनोज तिवारी आगे चल रहे हैं। 17706 वोटों के साथ मनोज तिवारी लीड कर रहे हैं। इस सीट पर मनोज तिवारी कांग्रेस की शीला दीक्षित को कड़ी टक्कर दे रहे हैं। शीला दीक्षित 4645 वोट्स के साथ दूसरे नंबर पर हैं। वहीं AAP के दिलीप पांडे 4074 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर हैं।

10:15 AM
मथुरा से बीजेपी प्रत्याशी हेमा मालिनी 5 हजार वोटों से आगे चल रही हैं। वहीं मैनपुरी से मुलायम सिंह यादव ने भी बढ़त बना रखी है।

10:10 AM
गृहमंत्री राजनाथ सिंह 13048 वोटों से आगे

उत्तर प्रदेश में मतगणना का पहला चरण पूरा हो चुका है। ताजा रुझानों में लखनऊ से बीजेपी के राजनाथ सिंह 13048 वोटों से आगे चल रहे हैं। सपा की पूनम सिन्हा दूसरे नंबर पर हैं। कांग्रेस प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णम 6232 वोटों से तीसरे नंबर पर चल रहे हैं।

09:55 AM
उत्तराखंड में BJP  पांचों लोकसभा सीटों पर आगे

टिहरी लोकसभा बीजेपी 14651 से आगे, अल्मोड़ा में बीजेपी 20061 वोट से आगे, गढ़वाल लोकसभा में बीजेपी 32055 वोट से आगे,  हरिद्वार से बीजेपी 4658 वोट से आगे, नैनीताल से बीजेपी 17190 वोट से आगे

09:45 AM
रायबरेली से सोनिया गांधी 176 वोटों से पीछे 

09:30 AM
शुरुआती रुझान में पंजाब के गुरदासपुर से बीजेपी उम्मीदवार सनी देओल आगे चल रहे हैं, जयपुर से अशोक गहलोत के बेटे पीछे हो गए हैं।

09:18 AM
शुरुआती रुझान में यूपी की लखनऊ सीट से राजनाथ सिंह और बरेली से संतोष गंगवार आगे चल रहे हैं।

09:17 AM
शुरुआती रुझान में गुजरात के गांधी नगर से अमित शाह, साबरकांठा से दीपसिंह, खेड़ा से देवूसिंह और जामनगर से पूनम माडम आगे हैं। 

09:16 AM
पश्चिम बंगाल में 42 लोकसभा सीटों के साथ ही दार्जिलिंग, नोऊडा, कांदी, इस्लामपुर, हबीबपुर और भाटपाड़ा विधानसभा सीटों के उपचुनाव की मतगणना भी की जा रही है।

09:15 AM
शुरुआती रुझानों में BJP को बहुमत



08:55 AM

VIP सीटों के शुरुआती रुझान आने लगे सामने

वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेठी से स्मृति ईरानी आगे 

08:40 AM
26 सीटों के रुझान आए सामने, 22 सीटों पर NDA आगे 


08:15 AM
NDA की बल्ले –बल्ले
मतगणना शुरु होते ही एनडीए के लिए अच्छी खबर आई है। बता दें कि एनडीए पहले रुझान में 9 सीटों पर आगे चल रही है।

08:03 AM
लोकसभा चुनाव के 542 के लिए वोटिंग शुरु हो गई है। इस बार पोस्टल बैलेट और ईवीएम की गिनती साथ-साथ होगी।

07:35 AM
इंतजार की घड़ियां खत्म हुई आज सभी राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ-साथ देश की 130 करोड़ जनता को आज पता चल जाएगा कि आने वाले 5 सालों के लिए कौन दिल्ली की सलतनत पर राज करेगा। हालांकि एग्जिट पोल्स में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए की भारी जीत का अनुमान लगाया गया है, लेकिन मतगणना में ये देखना होगा कि अनुमान, नतीजों के कितने करीब हैं। इस चुनाव में सभी पार्टियों ने अपनी जीत को सुनिश्चत करने के लिए फिल्मी सितारों को चुनावी मैदान में उतार दिया है।

पहली बार ईवीएम गणना के साथ मतदाता सत्यापित पेपर ऑडिट पर्चियों (वीवीपैट) का मिलान किए जाने के कारण, देर शाम तक परिणाम आने की संभावना है।  इस बार 542 सीटों पर 8,000 से अधिक प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं। सात चरणों में हुए मतदान में 90.99 करोड़ मतदाताओं में से करीब 67.11 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। भारतीय संसदीय चुनाव में यह सबसे अधिक मतदान है। लोकसभा चुनाव में पहली बार इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के परिणामों का मिलान पेपर ट्रेल मशीनों से निकलने वाली पर्चियों से किया जाएगा. यह मिलान प्रति विधानसभा क्षेत्र में पांच मतदान केंद्रों में होगा​।
 

बुधवार को दोपहर तकरीबन 12:30 बजे जम्मू कश्मीर के पुंछ के मेंढर सेक्टर में IED बलास्ट हुआ है। इस बलास्ट में सेना का एक जवान शहीद हो गया और 7 जवान घायल हैं। मेंढर सेक्टर में हुए इस बलास्ट की जिम्मेदारी अभी तक किसी आतंकी संगठन ने नहीं लिया है। 

 

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर के कुलगाम गोपालपोरा गांव में मंगलवार की आधी रात को आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुआ था। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने 2 आतंकियों को ढेर कर दिया था। वहीं इलाके में और भी आतंकियों के छिपे होने की ख़बर है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मारे गए आतंकियों का संबध आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दिन से था। हालांकि आधिकारीक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं हुई है। ये कयास लगाया जा रहा है कि इस बलास्ट को अंजाम देने का काम आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दिन का है। 

17वीं लोकसभा चुनाव की मतदान प्रकिया पूरी तरह से संपन्न हो गया है। मतदान के बाद JK 24x7 News चैनल के साथ-साथ लगभग सभी न्यूज चैनलों के EXIT POLL के मुताबिक भारत में एक बार फिर मोदी सरकार बनने की संभावना है। जिसेक बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने कार्यकर्ताओं से अपील की है कि एग्जिट के पोल पर ध्यान न दें और स्ट्रॉन्ग रूम और मतगणना केंद्रों पर डटे रहें ।

प्रियंका गांधी ने ऑडियो मैसेज के जरिए कहा कि 'आप लोग अफवाहों और एक्जिट पोल से हिम्मत मत हारिए। यह अफवाहें आपका हौसला तोड़ने के लिए फैलाई जा रही है. इस बीच आपकी सावधानी और भी महत्वपूर्ण बन जाती है। स्ट्रांग रूम और मतगणना केंद्रों पर डटे रहिए और चौकन्ने रहिए।' कांग्रेस महासचिव ने कहा कि हमें पूरी उम्मीद है कि हमारी और आपकी मेहनत जरुर रंग लाएगी और इसका फल जरुर मिलेगा।

दरअसल, 19 मई को लगभग सभी न्यूज चैनलों के Exit Poll के मुताबिक एनडीए को बहुमत मिलने का अनुमान लगाया गया है। एनडीए को 252 से 289 सीटों के साथ एक बार फिर से केंद्र में सरकार बनाने के संकेत एग्जिट पोल में दिए गए हैं। Exit Poll पर नजर दौड़ाई जाए तो इस बार के लोकसभा चुनाव में Jk 24x7 News के मुताबिक देश में एक बार फिर मोदी लहर देखने को मिली है।

Page 1 of 2