Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाने के बाद से लगातार आतंकी अपनी कायराना हरकत से बाज नहीं आ रहे हैं । दूसरी तरफ बात अगर उत्तर प्रदेश की करें तो जैसा कि, सभी को पता है अयोध्या रामजन्मभूमि का फैसला नजदीक है । ऐसे में अयोध्या में आतंकी हमले की आशंका जताई जा रही है ।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, 7 आतंकियों के एक बड़े ग्रुप की नेपाल के रास्ते उत्तर प्रदेश में घुसने का खुफिया विभाग को इनपुट मिला है । कहा जा रहा है कि, जब तक सुप्रीम कोर्ट अयोध्या मामले पर फैसला नहीं लेती तब तक अयोध्या की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है।

सात आतंकियों के इस ग्रुप में से में से पांच आतंकियों की पहचान कर ली गई है। मोहम्मद याकूब, अबू हमजा, मोहम्मद शाहबाज, निसार अहमद और मोहम्मद कौमी चौधरी नाम के आतंकियों के अयोध्या और गोरखपुर में होने की मिली जानकारी है । उत्तर प्रदेश में आतंकी हमले का अलर्ट जारी होने के बाद प्रदेश के जिलों को सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम और ऐतियात बरतने के निर्देश दिए गए हैं। इनमें खास तौर पर काशी, मथुरा, अयोध्या और पुलिस ट्रेनिंग सेंटर्स की सुरक्षा बढ़ाने को कहा गया है ।

दिवाली के मौके पर आतंकवादी किसी बड़ी आतंकी साजिश रचने की फिराक में हैं । हाल ही में दशहरा के मौके ये खबर सामने आई थी कि, जैश के 4 आतंकी राजधानी दिल्ली में घूस आए हैं। वहीं अब खबर सामने आ रही है दिवाली से पहले आतंकी गोरखपुर में किसी बड़ी साजिश रचने की फिराक में है । दरअसल NIA के मुताबिक, गोरखपुर में 5 संदिग्ध आतंकी घूस आए हैं।

इन आतंकियों को सफ़ेद रंग की मारुति डिजायर कार में देखा गया है। जनकारी के बाद NIA ने देश अलर्ट जारी कर दिया है। जानकारी मिलने के बाद NIA ने देश में अलर्ट जारी कर दिया है। आपको बता दें कि, पूरे भारत में फिलहाल त्योहारों को लेकर जगह-जगह बाजार सज चुके हैं और दिवाली जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है, वैसे-वैसे ये आतंकी भी किसी बड़ी साजिश रचने की बड़ी प्लानिंग बना रहे हैं ।

NIA के मुताबिक, नेपाल के रास्ते देश में 5 आतंकी घुस आए हैं। इन सभी आतंकियों को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में 5 संदिग्ध आतंकी सफ़ेद रंग की डिजायर कार में देखे गए हैं। NIA को मुखबिर से मिली सूचना है कि, ये सभी आतंकी आज यही 17 अक्टूबर को दिल्ली में अपने साथियों से मिलेंगे। दिल्ली में जम्मू-कश्मीर से भी कुछ आतंकी पहुंचेंगे जहां, इन्हें आगे के प्लान दिए जाएंगे। मुखबिर ने NIA को बताया कि, आतंकियों ने आपस कि बातचीत में कहा “इस बार की दिवाली काफी धमाकेदार होगी”।

कहते है ना कि लाख समस्याएं और बाधाएं क्यों न हो असली काबिलियत एक ना एक दिन निखर कर सामने आती ही है। यही बात सच साबित की है गोरखपुर के दृष्टिबाधित दिव्यांग अरुण कुमार ने, जिन्होंने बीएड प्रवेश परीक्षा 2019 में प्रदेश स्तर पर द्वितीय स्थान तथा वर्ग रेंक मे प्रथम स्थान प्राप्त कर जिले और क्षेत्र का नाम रोशन किया है।

अरुण कुमार चौरसिया पुत्र शारदा प्रसाद चौरसिया ग्राम पोस्ट बकेनिया हरैया पीपर सोहट महाराजगंज के निवासी हैं। इन्होंने अपनी हाई स्कूल राजकीय स्पर्श इंटर कॉलेज लाल दिग्गी गोरखपुर से और स्नातक बीएचयू वाराणसी से किया है। यह गोरखपुर डायट के प्रशिक्षु रहे हैं। दृष्टिबाधित दिव्यांगकता को भी कठिन मेहनत और लगन के दम पर पीछे धकेलते‌ हुए अरुण ने बीएड प्रवेश परीक्षा 2019 में प्रदेश स्तर पर द्वितीय स्थान तथा वर्ग रेंक मे प्रथम स्थान प्राप्त किया है।

बता दें कि अरुण कुमार ने डायट गोरखपुर 2015 बैच में बीटीसी भी किया है। वर्तमान में अरुण बीएचयू वाराणसी से परास्नातक की शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। अरुण ने अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवारजनों और मित्रों को दिया है।

अरुण के परिवालों ने कहा कि अरुण शुरू से ही प्रतिभाशाली रहा है और हर कार्य में सफलता पाने कि लिए कड़ी मेहनत करते हैं। थोड़ी देर खेलते भी है परंतु उसके बाद सारा ध्यान केवल पढ़ाई पर देते हैं। अरुण ने अपनी पूरी सफलता का श्रेय अपने माता पिता को दिया और कहा अभी और मेहनत करूंगा ताकि अच्छा मुकाम हासिल कर सकूं।

गोरखपुर से भाजपा प्रत्याशी रवि किशन की उम्मीदवारी पर संशय बना हुआ है। मामला उनकी शैक्षिक योग्यता का है। सूत्रों से पता चला है कि कुशीनगर के रहने वाले एक युवक ने जिला निर्वाचन अधिकारी गोरखपुर से रवि किशन की शैक्षिक योग्यता को लेकर सवाल उठाया है। मामले को संज्ञान में लेकर इसकी सत्यता की जांच की जा रही है।

बताते चले कि 2014 में जौनपुर से कांग्रेस प्रत्याशी के रुप में लोकसभा चुनाव लड़ने वाले रवि किशन ने इस बार भाजपा का हाथ थाम लिया है। भाजपा ने उन्हें गोरखपुर से अपना प्रत्याशी बनाया है। जब 2014 में जौनपुर से लड़े थे, तब नामांकन में उन्होंने अपनी शैक्षणिक योग्यता स्नातक दिखाई थी। जबकि इस बार के लोकसभा चुनाव के नामांकन में शैक्षणिक योग्यता इंटर लिखी है।

कुशीनगर के रहने वाले संतोष कुमार ने अभिनेता से नेता बने रवि किशन के शिक्षा को लेकर जिला निर्वाचन अधिकारी गोरखपुर से अपनी आपत्ति दर्ज कराई है। जिसकी सत्यता की पड़ताल की जा रही है। अगर दर्ज कराई गई आपत्ति सही पाई जाती है तो रवि किशन का नामांकन पत्र निरस्त किया जा सकता है।

संतोष कुमार ने जिला निर्वाचन अधिकारी से आपत्ति जताई है कि रवि किशन ने गोरखपुर से जो हलफनामा दिया है, उसमें उन्होंने अपनी शैक्षिक योग्यता इंटरमीडिएट दिखाई है। 
आपत्तिकर्ता ने बताया है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में जौनपुर से पर्चा भरते समय अभिनेता रवि किशन ने खुद को 1992-93 में रिजवी कॉलेज ऑफ साइंस एंड कॉमर्स, मुंबई से बीकॉम पास दिखाया था। अब गोरखपुर से अपनी शैक्षणिक योग्यता स्नातक दिखा रहे हैं ।
 

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए उत्तर प्रदेश की दो बहुचर्चित सीट गोरखपुर और वारणसी से कांग्रेस ने आखिरकार पर्दा उठा ही दिया और इन दोनों सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा भी कर दी। काशी से कांग्रेस ने एक बार फिर अजय राय को प्रधानमंत्री मोदी के सामने खड़ा किया है तो वहीं दूसरी तरफ गोरखपुर से कांग्रेस ने मधुसूदन तिवारी पर दांव खेला है। आपको बता दें कि ये दोनों सीटें चुनावी लिहाज से सभी पार्टियों के लिए बहुत मायने रखती हैं। एक ओर वाराणसी जिससे पीएम मोदी खुद चुनाव लड़ रहे हैं और दूसरी गोरखपुर जो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गढ़ माना जाता है।

पहले ये कयास लगाए जा रहे थे कि प्रियंका गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ सकती हैं, लेकिन कांग्रेस ने इन सभी अफवाहों पर विराम लगा दिया और वाराणसी के साथ-साथ गोरखपुर की सीट से प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर दिया। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 अप्रेल को वाराणसी लोकसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल करेंगे।

पीएम के पर्चा दाखिला में जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे सहित राजग के कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहेंगे। भाजपा ने बताया कि शरोमणि अकाली दल (शिअद) के प्रकाश सिंह बादल और लोक जनशक्ति पार्टी प्रमुख रामविलास पासवान भी प्रधानमंत्री के नामांकन के दौरान मौजूद रहेंगे। नामांकन से एक दिन पहले मोदी वाराणसी में एक ‘बड़ा रोड शो' करेंगे। यह रोड शो पंडित मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा स्थल से शुरू होगी और दशाश्वमेध घाट पर खत्म होगी।

बुधवार सुबह 09:30 बजे निरंकारी सत्संग भवन सूरजकुंड में निरंकारी महात्माऔं द्वारा एक विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। इस रक्तदान शिविर का उदघाटन ज़ोनल इंचार्ज महात्मा बद्री विशाल के द्वारा फीता काट कर किया गया।

सत्संग कार्यक्रम में मानव एकता दिवस पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि “24 अप्रैल 1980 में त्तकालीन निरंकारी सतगुरूबाबा गुरवचन सिंह जी महाराज ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया था”।

इस कार्यक्रम में मानव एकता व अखंडता पर बल दिया गया। जाति धर्म संप्रदाय से उपर उठ कर इस कार्यक्रम को इंसानियत की रौशनी से सजाया गया था।

इस रक्तदान अभियान की शुरूआत 1986 में हुआ था। वर्तमान में भिन्न-2 स्थानों पर रक्तदान शिविर चल रहा है। इस मानव एकता दिवस के मौके पर बी.आर.डी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर और जिला अस्पताल के रक्तरोष अधिकारी अपने पूरे स्टाफ के साथ आयोजित रक्तदान शिविर में 140 युनिट रक्त संग्रहित किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर परिसर में 'जनता दरबार' लगाया। जहां दूर-दूर से लोग अपनी समस्या लेकर सीएम से मुलाकात करने पहुंचे। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी दो दिवसीय दौरे गोरखपुर पहुंचे थे। और गोरखपुर पहुंचते ही उन्होंने लोगों की परेशानियां सुनना शुरु कर दिया। इसके लिए सीएम ने जनता दरबार लगाया। जनता दरबार में लोग दूर दूर से अपनी समस्या लेकर पहुंचे और सीएम ने भी जल्द उनकी परेशानी को दूर करने का आश्वासन दिया।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में भारतीय जनता पार्टी के किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अधिवेशन के अंतिम दिन शामिल होंगे और एक रैली करेंगे। जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सीएम योगी आदित्यनाथ की कर्मभूमि गोरखपुर से देश के किसानों को बड़ा तोहफा देंगे। जहां पीएम के इस दौरे के चुनावी योजना से जोड़कर बताया जा रहा है बतादें की प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज किसानों के खाते में दो-दो हजार रुपया ट्रांसफर करेंगे। प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत दो हेक्टेयर से कम भूमि वाले किसानों को पहली किश्त के दो हजार रुपये दिए जाएंगे। किसानों को एक वर्ष में तीन किश्त से छह हजार रुपये दिया जाएगा। यह धनराशि बैंकों से सीधे उनके खातों में पहुंचाई जाएगी।

पुलवामा आतंकी हमले मे शहीद हुए जवानो के परिजनो कि मदद के लिए स्वास्थ्य कर्मियों ने शनिवार को रकम जुटाना ने का अभियान शुरु किया गया । इस अभियान कि अगुआई डॉ.अश्वनी चौरसिया कर रहे थे। डॉ. अश्वनी चौरसिया के नेतृत्व में यह अभियान चलाया गया। इसकी शुरुआत चरगांवा प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र पर हुई। इस बैठक में अनील त्रीपाठी, आई डी सिंह, परमानंद त्रिपीठी, मनीष त्रिपाठी, दयाराम और नवीन कुमार मौजूद रहेँ।आपको बता दें कि 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले मे 40 जवान शहीद हो गए थे और बहुत से जवान घायल हो गए थे घायल हुए जवान मे एक जवान गोरखपुर के भी हैं।