23 साल पहले जेलर की हत्या के मामले में मुख्तार अंसारी को 5 साल की जेल

Mukhtar Ansari
Mukhtar Ansari

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मऊ के पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को 23 साल पुराने हत्या के एक मामले में दोषी पाए जाने के बाद पांच साल जेल की सजा सुनाई गई है। इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ (Lucknow) बेंच ने एक जेलर की हत्या के आरोप में अंसारी को सजा सुनाई।

44 साल के आपराधिक इतिहास वाले गैंगस्टर से राजनेता बने मुख्तार अंसारी पर अदालत ने 50,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया।

हजरतगंज थाने में मुखर के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज होने के बाद सजा सुनाई गई।

यह भी पढ़ें: पंजाब पुलिस ने ISI समर्थित आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया; 2 ऑपरेटिव पकड़े गए

मामला 1999 का है जब मुख्तार अंसारी पर लखनऊ के पूर्व जेलर आरके तिवारी की हज़रतगंज में राजभवन के पास हत्या करने का मामला दर्ज किया गया था। हत्या के बाद मुख्तार के खिलाफ हजरतगंज में मामला दर्ज किया गया था। बाद में निचली अदालत ने उन्हें को इसी मामले में बरी कर दिया था।

Mukhtar Ansari को 5 साल की सजा

हालांकि, राज्य सरकार ने एक समीक्षा याचिका दायर की, जिसके बाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने मुख्तार को पांच साल की सजा सुनाई।

एक जेलर को जान से मारने की धमकी देने और उस पर पिस्तौल तानने के आरोप में अंसारी को पहले सात साल जेल की सजा सुनाई गई थी।

यह भी पढ़ें: मोहन भागवत ‘राष्ट्रपिता’ हैं, आरएसएस प्रमुख के मस्जिद जाने के बाद शीर्ष मुस्लिम मौलवी का बयान