मंदिर खोलने को लेकर भाजपा का महाराष्ट्र में प्रदर्शन, राज्यपाल की चिट्ठी पर उद्धव का जवाब-मुझे हिन्दुत्व पर आपसे सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं

Spread the love

महाराष्ट्र में भाजपा कार्यकर्ता सिद्धिविनायक मंदिर के बाहर राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। भाजपा ने मांग की है कि महाराष्ट्र में सभी मंदिरों को श्रद्धालुओं के लिए खोला जाए। इसे देखते हुए भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है। वहीं, राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखकर उनके हिंदुत्व वाले मुद्दे पर सवाल किया है। इस पर सीएम ने जवाब देते हुए कहा है कि राज्यपाल हमें हिंदुत्व का पाठ न पढ़ाएं।

 

कार्यकर्ताओं का कहना था का महाराष्ट्र सरकार श्रद्धालुओं के लिए मंदिर नहीं खोल रही है जबकि सारी सेवाएं और अन्य प्रतिष्ठान सभी खोल दिए गए हैं।

 

वहीं राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी ने सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखकर राज्‍य में कोरोना की वजह से बंद पड़े धर्मस्‍थलों को खुलवाने का अनुरोध किया है। उद्धव को लिखे खत में कोश्‍यारी ने कहा है, ‘आपने 1 जून को अपने टीवी संदेश में कहा था कि राज्‍य में जून के पहले सप्‍ताह से ‘पुनश्‍च हरिओम मिशन’ शुरू हो जाएगा। आपने यह भी कहा था कि उस दिन से ‘लॉकडाउन’ शब्‍द डस्‍टबिन में चला जाएगा। आपके शब्‍दों से लंबे लॉकडाउन से परेशान जनता के मन में आशा जगी।’

 

 

पत्र में आगे लिखा है कि दुर्भाग्‍य है कि उस मशहूर ऐलान के चार महीने बाद भी आपने एक बार फिर पूजा स्‍थलों पर लगा बैन बढ़ा दिया है। यह विडंबना है कि एक तरफ सरकार ने बार, रेस्टोरेंट ओर समुद्री बीच खोल दिए हैं वहीं दूसरी तरफ देवी-देवता लॉकडाउन में रहने को अभिशप्‍त हैं।

 

कोश्‍यारी ने कहा है, ‘आप हिंदुत्‍व के सशक्‍त पैरोकार रहे हैं। मुख्‍यमंत्री बनने के बाद अयोध्‍या जाकर आपने श्रीराम के प्रति अपने समर्पण को सार्वजनिक किया। आप अषाढ़ी एकादशी को पंढरपुर के विट्ठल रुक्मिणी मंदिर गए और पूजा की। पर मुझे हैरानी है कि क्‍या धर्मस्‍थलों का खोलना टालते जाना है… क्‍या कोई ऐसा देव आदेश आपको मिला है, या फिर आप अचानक ‘सेक्‍युलर’ हो गए हैं, जिस शब्‍द से आपको नफरत थी?

 

इसके बाद कोश्यारी ने याद दिलाया कि दिल्‍ली समेत देश के दूसरे हिस्‍सों में जून के आखिर तक धर्मस्‍थल फिर से खोल दिए गए। इन जगहों से कोरोना केस बढ़ने के मामले भी नहीं आए। अंत में कोश्‍यारी ने अपील की है कि सभी जरूरी सावधानियां बरतते हुए सभी पूजास्‍थलों को खोल दिया जाए।

 

सीएम उद्धव ठाकरे ने राज्‍यपाल की चिठ्ठी का जवाब देते हुए कहा कि जैसा कि अचानक से लॉकडाउन को लागू करना सही नहीं था, एक बार में इसे पूरी तरह से रद्द करना भी अच्छी बात नहीं होगी। और हां, मैं ऐसा व्यक्ति हूं जो हिंदुत्व का अनुसरण करता है, मेरे हिंदुत्व को आपसे सत्यापन की आवश्यकता नहीं है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *