कांग्रेस पार्टी के मजबूत पिलर कहे जाने वाले अहमद पटेल नहीं रहे….कोरोना के कारण हुआ निधन

रवि श्रीवास्तव

 

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और गांधी परिवार के सबसे करीबी माने जाने वाले अहमद पटेल अब इस दुनिया में नहीं रहे। 71 साल की उम्र में अहमद पटेल ने अंतिम सांस ली। अहमद पटेल 1 अक्टूबर को ही कोरोना संक्रमित हुए थे। जिसकी जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट कर दी थी। हालांकि तब वे कुछ ठीक भी हो गए थे। लेकिन डॉक्टरों की माने तो कोरोना ने उनके शरीर के अंगों को कमजोर कर दिया। जिसके कारण मल्टी ऑर्गन फेलियर की वजह से उनका निधन हो गया। अहमद पटेल का इलाज गुरूग्राम के मेदांता अस्पताल में 15 अक्टूबर से चल रहा था

 

 

बेटे फैजल ने दी पिता के निधन की जानकारी 

अहमद पटेल का निधन तड़के 3.30 बजे के करीब हुआ। इस बात की जानकारी खुद उनके बेटे फैजल ने ट्वीट कर दी। उनके बेटे ने ट्वीट कर लिखा -‘बड़े दुख के साथ मैं यह बताना चाहता हूं कि मेरे पिता अहमद पटेल का बुधवार देर रात 3.30 बजे निधन हो गया है। करीब एक महीने पहले उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी और उनके शरीर के कई अंग काम करना बंद कर चुके थे, जिसके बाद उनकी मौत हो गई। अल्लाह उन्हें जन्नत फरमाए।

 

 

राहुल गांधी ने भी निधन पर जताया शोक 

अहमद पटेल के जाने का दुख अगर उनके परिवार के बाद किसी को सबसे ज्यादा होगा तो वो है गांधी परिवार। अहमद पटेल गांधी परिवार के सबसे भरोसेमंद नेताओँ में से थे। इंदिरा से लेकर सोनिया गांधी के युग तक कांग्रेस का हर लेखा-जोखा अहमद पटेल के पास ही होता था। यही वजह है कि अपने सबसे विश्वनीय नेता को खोने का गम कांग्रेस में भी है। राहुल गांधी ने अहमद पटेल के निधन को लेकर भावुक पोस्ट किया और ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए लिखा – ‘आज दुखद दिन है। अहमद पटेल कांग्रेस पार्टी के स्तंभ थे। वे हमेशा पार्टी के लिए जिए और कठिन वक्त में हमेशा पार्टी के साथ खड़े रहे। हमेशा उनकी कमी खलेगी।’

 

पीएम मोदी ने भी शोक संवेदनाएँ व्यक्त की

अहमद पटेल एक पक्के कांग्रेसी होने के साथ-साथ देश के वरिष्ठ नेताओँ में गिने जाते थे। उन्हें लोग सादगी वाली सियासत के लिए जानते रहे हैं, उनकी भूमिका भले ही सरकार में ना रही हो। लेकिन पर्दे के पीछे से संगठन को कैसे चलाना है ये पटेल बखूबी जानते थे। यही वजह है कि उनके रिश्ते लगभग हर पार्टी के नेताओँ से एक समान थे। इसलिए अहमद पटेल के जाने का दुख पीएम मोदी को भी है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर शोक संवेदनाएं व्यक्त की। पीएम मोदी ने लिखा – अहमद पटेल जी के निधन से दुखी हूं। उन्होंने कई साल सार्वजनिक जीवन में समाज के लिए काम किया। उन्हें अपने तेज दिमाग के लिए जाना जाता था। कांग्रेस को मजबूत करने के लिए वे हमेशा याद किए जाएंगे। मैंने उनके बेटे फैजल से बात की है। उनकी आत्मा को शांति मिले।

 

इंदिरा..राजीव से लेकर सोनिया गांधी के युग तक अपनी सेवाएं कांग्रेस को देने वाले अहमद पटेल मौजूदा वक्त में भी कांग्रेस के कोषाध्यक्ष थे। पर्दे के पीछे से संगठन को मजबूत करना उनकी खूबी थी और यही खूबी उन्हें गांधी परिवार के करीब लाती थी। अब वे दुनिया से रुखसत हो गए हैं। लिहाजा उनके परिवार के आलावा कांग्रेस में भी दुख की लहर है। साथ ही सच्ची ईमानदारी औऱ सादगी से राजनीति करने वाले अहमद पटेल को सियासी पंडित एक मिसाल भी दे रहे  हैं

 

 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *