कमलनाथ के ‘आइटम’ शब्द को बीजेपी ने बनाया एटम बम, अब उपचुनाव में फोड़ने की तैयारी, जानिए इमरती देवी को लेकर सत्ता का संग्राम कहां पहुंचा ?

Spread the love

रवि श्रीवास्तव 

मध्य प्रदेश में चुनावी माहौल है, और उपचुनाव के इस माहौल में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कमलनाथ ने अपनी ही पूर्व सहयोगी और बीजेपी की मौजूदा नेत्री के खिलाफ ऐसा शब्द बोल दिया जिसके बाद राज्य में सियासी उबाल है, बीजेपी कर रही बवाल है और कांग्रेस नेताओँ के लिए अब सवाल ही सवाल है, इमरती देवी को  कमलनाथ ने आइटम कहा तो बीजेपी ने मुद्दा लपकते हुए आइटम शब्द को एटम बम बना दिया और अब सिंधिया से लेकर सीएम शिवराज तक इस एटम बम को चुनाव में फोड़ने की तैयारी में जुट गए हैं

 

सीएम शिवराज सिंह चौहान रखेंगे 2 घंटे का मौन व्रत 

कमलनाथ के बयान को मुद्दा बनाकर राज्य में कमल खिलाने की तैयारी में बीजेपी अब इस मुद्दे को भुनाने के लिए एलान कर चुकी है मध्य प्रदेश बीजेपी आज दो घंटे का मौन वर्त रखेगी. खुद सीएम शिवराज भोपाल में पुरानी विधानसभा पास महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना देंगे. बीजेपी कमलनाथ के विवादित बयान की शिकायत चुनाव आयोग से भी कर चुकी है. मांग की गई है कि कमलनाथ को चुनाव प्रचार से रोका जाए.

 

कमलनाथ पर इमरती देवी का हमला

सिंधिया और शिवराज के बाद अब खुद इमरती देवी ने अपने सम्मान में कमलनाथ को सबक सिखाने की ठानी है, कमलनाथ के बयान पर पलटवार करते हुए इमरती देवी ने कहा वो बंगाली आदमी हैं, वो मध्यप्रदेश सिर्फ मुख्यमंत्री बनने आए. उन्हें सभ्यता नहीं है तो क्या कहा जाए. मुख्यमंत्री के पद से हटकर वो पागल हो गए हैं और अब पागल बनकर पूरे मध्यप्रदेश में घूम रहे हैं. अब इसमें हम क्या कह सकते हैं, कुछ भी नहीं कह सकते.”

 

सिंधिया, शिवराज और इमरती देवी ने घेरा, तो कमलनाथ ने दी सफाई

 

इसी 3 नवंबर को मध्यप्रदेश में 28 सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं, ऐसे में बयान बीजेपी को चुनावी फायदा ना दें, इसे देखते हुए कमलनाथ बैकफुट पर आ गए और उन्होंने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा शिवराज जी आप कह रहे हैं कमलनाथ ने आइटम कहा. हां मैंने आइटम कहा है क्योंकि यह कोई असम्मानजनक शब्द नहीं है. मैं भी आइटम हूं आप भी आइटम है और इस अर्थ में हम सभी आइटम है. लोकसभा और विधानसभा में कार्यसूची को आइटम नंबर लिखा जाता है, क्या यह असम्मानजनक है? सामने आइए और मुकाबला कीजिए. सहानुभूति और दया बटोरने की कोशिश वही लोग करते हैं जिन्होंने जनता को धोखा दिया हो

 

इमरती देवी कांग्रेस के उन बागी नेताओं में शामिल है,जिन्होंने सिंधिरा विद्रोह का समर्थन करके राज्य में कमलनाथ की सरकार गिराकर कमल खिलाया था, यही वजह है कमलनाथ इमरती देवी से खार खाए बैठे हैं

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *