उत्तर प्रदेश के शामली में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का विरोध, ग्रामीणों ने नहीं घुसने दिया काफिला

 

देश में चल रहे किसान आंदोलन का विरोध अब और भी बढ़ता जा रहा है. जिसका भुगतना केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान  (SANJEEV BALYAN)को भी करना पड़ा. नए कृषि कानूनों के फायदे बताने पहुंचे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान को रविवार को शामली में भारी विरोध का सामना करना पड़ा. शामली के भैंसवाल में में संजीव बालियान और बीजेपी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई.

 

दरअसल संजीव बालियान गांव में लोगों को नए कृषि कानूनों के फायदे गिनवाने पहुंचे थे जिसके बाद ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने केंद्रीय मंत्री बालियान के काफिले के आगे ट्रेक्टर लगा दिया और उन्हें वहां आने से रोका गया साथ ही उनके खिलाफ नारेबाजी भी की गई. इस विरोध पर संजीव बालियान ने कहा है कि 10 लोगों के विरोध करने से और मुर्दाबाद बोलने से मैं मुर्दाबाद नहीं हो जाऊंगा. विरोध के कारण मंत्री का काफिला गांव से लौट गया .

 

 

यूपी का बजट…नया स्ट्रेन, पीएम मोदी और राहुल गांधी के दौरे समेत इन खबरों पर होगी नजर

 

इस बीच किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सवित मलिक ने एक वीडियो संदेश जारी किया है, जिसमें उन्होंने कहा कि अब बीजेपी का गांव- गांव में भी विरोध होना शुरू हो गया है. ऐसे में बीजेपी को अब समझ लेना चाहिए कि वह कृषि कानूनों में केंद्र सरकार के नेतृत्व में मीटिंग कर जल्द निर्णय लेने का काम करे, वरना गांव में ऐसे ही बीजेपी का विरोध होता रहेगा .

 

आंदोलन को हुए तीन महीने –  

 

गौरतलब है कि देशभर में चर्चा का विषय बने किसान आंदोलन को लगभग तीन महीने पूरे हो चुके है ऐसे में देश के अलग-अलग हिस्सों से किसान देश के अलग-अलग बॉर्डर पर अपना विरोध प्रदर्शन कर रहें है.  जिसकी अगुआई किसान नेता राकेश टिकैत कर रहे है. 28 जनवरी को राकेश टिकैत के आंसू के बाद पूरे जाटलैंड में फिजा बदली हुई है और हर कोई कृषि कानूनों का विरोध कर रहा है.

 

 

इसी कड़ी में किसान संगठनों के अलावा आरएलडी, कांग्रेस और सपा ने पश्चिमी यूपी में कई किसान महापंचायतें की. इन महापंचायतों में बड़ी संख्या में भीड़ जुटी.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *