“हमारे हथियारों का जखीरा दिवाली के लिए नहीं रखा गया” यह सुन डर गया पाकिस्तान

Pakistan was scared

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

आज वो दिन है जब पाकिस्तान घुटनों के (Pakistan was scared) बल गिरा था। आज ही के दिन हमारे वीर पायलट अभिनन्दन की वापसी हुई थी जब मिग-21 क्रेश के बाद वो पाकिस्तान में गिरे थे और पाकिस्तान ने उन्हें बंधक बना लिया था। आपको हम उस शौर्य की कहानी आज बताएंगे जिस पर पूरा भारत गर्व करता है और उन्होंने पाकिस्तान को भी बता दिया था कि भारतीय नागरिक हो या सैनिक किसी से डरते नहीं हैं।

 

 

भारत के जबरदस्त दबाव से पाकिस्तान डरा था

 

 

भारत के जबरदस्त दबाव की वजह से महज 1 दिन में ही पाकिस्तान को उन्हें (Pakistan was scared) रिहा करने का ऐलान करने के लिए मजबूर होना पड़ा था। दबाव किस कदर था, इसका खुलासा पाकिस्तानी संसद में सांसद अयाज सादिक ने किया था कि कैसे विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के यह कहते हुए पैर कांप रहे थे कि अगर अभिनंदन को रिहा नहीं किया गया तो रात 9 बजे भारत हमला करने वाला है। दरअसल, तब पाकिस्तानियों के कब्जे में अभिनंदन की लहूलुहान तस्वीरें देखने के बाद पीएम मोदी ने पाकिस्तान को दो टूक संदेश भिजवाया था विंग कमांडर को तत्काल रिहा करो।

 

बंगाल चुनाव: आठ चरणों में होने वाले चुनाव के पीछे की कहानी, पढ़िए पूरा विश्लेषण

 

इमरान खान ने संसद से किया था रिहाई का ऐलान

 

 

एक समाचर पत्र की रिपोर्ट के मुताबिक़ प्रधानमंत्री मोदी का (Pakistan was scared) पाकिस्तान को संदेश था- ‘हमारे हथियारों का जखीरा दिवाली के लिए नहीं रखा गया है।’ अभिनंदन के पाकिस्तानी कब्जे में आने के अगले ही दिन 28 फरवरी को इमरान खान को संसद में उनकी रिहाई का ऐलान करना पड़ा। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने इसे ‘अमन का पैगाम’ बताया था। 1 मार्च को अभिनंदर अटारी बॉर्डर के रास्ते स्वदेश लौट आए।

 

 

पाकिस्तान को साफ-साफ संदेश भेजा जाए-प्रधानमंत्री

 

 

प्रधानमंत्री मोदी ने जब इंडियन पायलट को लहूलुहान (Pakistan was scared) और उन्हें बंधक बनाने वालों के मुस्कुराते चेहरों वाली तस्वीरें और वीडियो देखे तब उन्होंने रिसर्च ऐंड ऐनालिसिस विंग के चीफ अनिल धसमाना को कहा कि पाकिस्तान को साफ-साफ संदेश भेजा जाए कि अगर अभिनंदन की तत्काल रिहाई नहीं हुई तो नतीजे गंभीर होंगे। पीएम मोदी का पाकिस्तान के लिए संदेश था- ‘हमारे हथियारों का जखीरा दिवाली के लिए नहीं है।’ रॉ चीफ धसमाना ने तत्कालीन आईएसआई चीफ लेफ्टिनेंट जनरल सैयद आसिम मुनीर अहमद शाह को फोन मिलाया और साफ-साफ लफ्जों में पाकिस्तान को भारत का संदेश सुनाया।

 

संदेश को सुनकर डर गई थी आईएसआई

 

 

संदेश इतना ‘साफ और सख्त’ था कि मुनीर भौंचक (Pakistan was scared) रह गए थे। रॉ चीफ ने दो टूक कह दिया था कि अब इस्लामाबाद के ऊपर है कि वह क्या चाहता है, अगर पायलट को खरोंच तक आई तो गंभीर नतीजे होंगे। उन्हें बिना किसी नुकसान के तत्काल छोड़ा जाए। इस फोन कॉल के बाद पाकिस्तान में हड़कंप मचना लाजिमी था। खास बात यह है कि जून 2019 में मुनीर को आईएसआई चीफ के पद से हटा दिया गया।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *