पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में की आरएसएस पर प्रतिबंध की मांग

RSS

 

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

पाकिस्तान भारत से खौफ खाता है यह तो सबको पता है लेकिन राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) से पाकिस्तान का डरना हैरियत में डालता है। भाजपा और मोदी के खिलाफ अक्सर पाकिस्तान के नेताओं के बयान आते रहते हैं। और भारत के खिलाफ जहर उगलना तो पाकिस्तान में ऐसे होता है की मानो जितनी भारत को गालियां देंगे उतनी टीआरपी मिलेगी। पाकिस्तान ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के मंच का उपयोग भारत के खिलाफ प्रोपगेंडा फैलाने और गलतबयानी करने के लिए किया है।

 

 

संयुक्त राष्ट्र संघ से यह मांग कर रहा है पाकिस्तान

 

 

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के राजदूत ने दुनिया के सबसे शक्तिशाली मंच से राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर डाली। इतना ही नहीं, पाकिस्तान ने बीजेपी और कश्मीर को लेकर भी यूएन में खूब झूठ बोला। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के राजदूत मुनीर अकरम ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में दुनियाभर के हिंसक राष्ट्रवादी समूहों को आतंकवादी संगठन घोषित करने की मांग की। कश्मीर में आतंकवाद को पालने पोसने वाले पाकिस्तान ने भारतीय सेना के ऊपर लोगों को आतंकित करने का आरोप लगाया है। पाकिस्तानी राजदूत ने कहा कि भारतीय सेना कश्मीर में युद्ध अपराध और मानवता के खिलाफ अपराध कर रही है।

 

BIRD FLU: दिल्ली की सीमाओं पर ड्यूटी से दिल्ली सरकार ने दी शिक्षकों को राहत

 

 

वैश्विक शांति का हवाला दे कर रहा है पाकिस्तान मांग

 

 

वैश्विक शांति और सुरक्षा के लिए नए खतरे पैदा करने वाले पाकिस्तान ने दुनिया को आतंकवाद से निपटने के गुर सिखाए। पाकिस्तानी राजदूत ने कहा कि (RSS) हिंदू राष्ट्रवादी पार्टी बीजेपी हिंदुत्व विचारधारा को मानती है। उनके जहरीले बयान यहीं नहीं रुके। अकरम ने यहां तक कहा कि बीजेपी अपने देश के मुस्लिमों को धमकी भी देती है। खुद के लोगों पर फौज से हमले करवाने वाले पाकिस्तान ने यूएएनएससी को हिंसक राष्ट्रवाद के उदय को रोकने के लिए सुझाव भी दिया। पाकिस्तान ने अपने सुझाव में यूएनएससी से मांग करते हुए कहा कि वह सभी देशों से अपने यहां के हिंसक राष्ट्रवादी संगठनों को आतंकवादी संगठन के रूप में नामित करने के लिए कहे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *