पाकिस्तान बना रहेगा एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में, आतंकी फंडिंग मामले में हुई थी कार्रवाई

FATF

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

पाकिस्तान (Pakistan) उस समय बहुत खुश हुआ था जब जो बाइडन ने अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव में जीत हासिल की थी। उसे लगता था कि जो फंड उसके ट्रंप ने बंद किये थे वो बाइडन प्रशासन दे देगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। पाकिस्तान से जो बाइडन भी नाराज हैं और इसका नतीजा यह हुआ है कि अभी पाकिस्तान एफएटीएफ में बना रहेगा। जिसकी बजह से पाकिस्तान को किसी प्रकार की आर्थिक सहायता संस्थाओं से नहीं ले पाएगा।

 

गुजरात निकाय चुनाव में भाजपा का रुतबा कायम, 6 निगमों में कब्जे की और अग्रसर

 

फ्रांस भी है खिलाफ

 

 

ऐसे में पाकिस्तान (FATF) के ऊपर एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में जून तक बने रहने का खतरा मंडराने लगा है। उधर, फ्रांस के अलावा कुछ अन्य यूरोपीय देशों ने माना है कि पाकिस्तान ने एफएटीएफ की निर्धारित कार्ययोजना के सभी बिंदुओं का पूर्ण रूप से पालन नहीं किया है। अमेरिका भी इमरान खान से डेनियल पर्ल के हत्यारों की रिहाई को लेकर चिढ़ा हुआ है।

 

अब अभिषेक की पत्नी रुजिरा की नागरिकता पर उठे सवाल, CBI ने लिखा गृह मंत्रालय को पत्र

 

 

आतंकी फंडिग मामले में किया गया ब्लैक लिस्ट

 

 

एफएटीएफ की (FATF) मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद के फाइनेंसिंग पर निगरानी के लिए पूर्ण बैठक 22 फरवरी से होने वाली है। पेरिस स्थित वित्तीय कार्रवाई कार्यदल (एफएटीएफ) ने जून 2018 में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट’ में रखा था। जिसके बाद एफएटीएफ ने इस्लामाबाद को 2019 के अंत तक मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद के फाइनेंसिंग पर लगाम लगाने के लिए कार्ययोजना को लागू करने के लिए कहा था। लेकिन, बाद में कोविड-19 महामारी के कारण यह समयसीमा बढ़ा दी गई थी।

 

आईआईटी खड़गपुर से बोले पीएम मोदी डिजास्टर मैनेजमेंट में तकनीक अहम

 

एफएटीएफ का पूर्ण सत्र 22 से पैरिस में होगा

 

 

एफएटीएफ का पूर्ण सत्र 22 फरवरी से 25 फरवरी तक पेरिस में आयोजित होगा जिसमें पाकिस्तान (FATF) सहित ग्रे सूची में रहने समेत विभिन्न देशों के मामलों पर विचार किया जाएगा और बैठकों के समापन पर इस पर निर्णय लिया जाएगा। अक्टूबर 2020 में आयोजित अंतिम पूर्णसत्र में, एफएटीएफ ने निष्कर्ष निकाला था कि पाकिस्तान फरवरी 2021 तक अपनी ग्रे लिस्ट में जारी रहेगा क्योंकि यह वैश्विक धनशोधन और आतंकवादी वित्तपोषण निगरानी के 27 में से छह दायित्वों को पूरा करने में विफल रहा है।

 

बिग बॉस जीतने के बाद रुबीना का घर में हुआ स्वागत, अभिनव ने दिया सरप्राइज

 

भारत मीटिंग में उठा सकता है बांछित आतंकियों का मुद्दा

 

 

भारत के दो (FATF) सबसे वांछित आतंकवादी-जैश-ए मोहम्मद प्रमुख मौलाना मसूद अजहर और जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई भी शामिल है। अजहर और सईद भारत में कई आतंकवादी कृत्यों में उनकी संलिप्तता के लिए सबसे वांछित आतंकवादी हैं, जिनमें 26/11 मुंबई आतंकवादी हमला और पिछले साल जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ की बस पर आतंकी हमला शामिल है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *