इंदिरा गांधी की 36वीं पुण्यतिथि पर राहुल ने दी श्रद्धांजलि, बोले- शुक्रिया दादी

indira gandhi
Share

-आकृति वर्मा

 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गाधी ने अपनी दादी व पूर्व प्रधानमंत्री और इंदिरा गांधी की उनकीं 36वीं पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। 19 नवंबर 1917 को उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में जन्मीं पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद उनके ही सुरक्षाकर्मी ने 31 अक्टूबर 1984 उनकी हत्या कर दी थी।

 

वह एक ऐसी महिला थी जो की कड़े से कड़े फैसले लेने से कभी नहीं घबराई। उनके ही कड़े फैसलों की बदौलत आज बांग्‍लादेश का अस्तित्‍व भी मौजूद है। फिर बात चाहे बांग्‍लादेश की हो या फिर खालिस्‍तान की , ऑपरेशन ब्‍लू स्‍टार की या फिर पोखरण में पहला परमाणु परीक्षण करने की सभी में उनकी दमदार छवि साफतौर पर उभरकर सामने आती है। ओडिशा में 30 अक्‍टूबर को अपने दिए गए आखिरी भाषण में उन्‍होंने कहा था कि “मैं आज यहां हूं, कल शायद यहां न रहूं। मुझे चिंता नहीं मैं रहूं या न रहूं। मेरा लंबा जीवन रहा है और मुझे इस बात का गर्व है कि मैंने अपना पूरा जीवन अपने लोगों की सेवा में बिताया है। मैं अपनी आखिरी सांस तक ऐसा करती रहूँगी और जब मैं मरूंगी तो मेरे खून का एक-एक कतरा भारत को मजबूत करने में लगेगा।

 

 

वहीं इसको लेकर राहुल गांधी ने अपनी दादी व पूर्व प्रधानमंत्री को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए लिखा – ‘असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय, मृत्योर्मामृतं गमय. असत्य से सत्य की ओर, अंधेरे से प्रकाश की ओर, मृत्यु से जीवन की ओर. शुक्रिया दादी! आपने मुझे इन शब्दों का सही अर्थ समझाया और इन शब्दों के साथ जीना सिखाया.’

 

 

 

 

 

वही पीएम ने इस मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री को श्रद्धांजलि अर्पित करते ट्वीट किया, ‘‘हमारी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि।

 

 

 

 

 

बता दें कि ऑपरेशन ब्लू स्टार’ को लेकर सिख समुदाय के लोगों ने अपने नाराजगी के चलते पुरे मर्डर प्लान किया था। पंजाब में सिख आतंकवाद को दबाने के लिए इंदिरा ने 5 जून 1984 को ऑपरेशन ब्लू स्टार शुरू किया। इसमें प्रमुख आतंकी भिंडरावाला सहित कई की मौत हो गई। जिसमें ऑपरेशन में स्वर्ण मंदिर के कुछ हिस्सों को क्षति पहुंची। इससे सिख समुदाय में एक तबका इंदिरा से नाराज हो गया था। इंदिरा के दो हत्यारों को 6 जनवरी 1989 को फांसी पर चढ़ाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *