रेल रोको आंदोलन कल करेंगे किसान, रेलवे ने 20 हजार सैनिक किए तैनात

Rail stop movement

 

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

18 फरवरी को होने वाले किसानों के रेल रोको आंदोलन (Rail stop movement) के लिए सारा प्रशासन अलर्ट पर है। किसान आंदोलन के दौरान ही हुई दिल्ली हिंसा की बजह से भी सबकी परेशानियां बढ़ी हुई हैं। इस बार तो सुरक्षा एंजसियां भी पूरी तरह से अलर्ट पर रखा है। प्रशासन इस कोशिश में लगा है कि इस बार किसी तरह का कोई हंगामा न हो।

 

पाकिस्तानी रेलवे की हालत हुई बद से बदतर, दोस्त चीन ने भी दिया धोखा

 

18 फरवरी को दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक होगा

 

 

‘रेल रोको आंदोलन’ (Rail stop movement) देश भर में 18 फरवरी को दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक होगा। केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों ने ‘रेल रोको आंदोलन’ बुलाया है। इस मोके पर राकेश टिकैत ने कहा कि केंद्र ने अन्य प्रतिबंधों को हटा दिया है, लेकिन पिछले आठ महीनों से कई ट्रेनों को अनुमति नहीं दी है। उन्होंने कहा कि केंद्र के फैसले के कारण लोगों को विभिन्न कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था। बीकेयू के प्रवक्ता ने कहा कि उनके गांवों के लोग कल के ‘रेल रोको आंदोलन’ में भाग लेंगे, जिसकी घोषणा संयुक्ता किसान मोर्चा ने की है।

 

 

रेलवे ने भी की सुरक्षा कड़ी

 

 

एसकेएम आंदोलनकारी किसान यूनियनों की एक संस्था है। एसकेएम की घोषणा के मद्देनजर, रेलवे ने पंजाब, हरियाणा, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश पर ध्यान केंद्रित करते (Rail stop movement) हुए देश भर में रेलवे सुरक्षा विशेष बल की 20 अतिरिक्त कंपनियां तैनात की हैं। रेलवे सुरक्षा बल के महानिदेशक अरुण कुमार ने सभी से शांति बनाए रखने का आग्रह किया। उन्‍होंने कहा, ”हम जिला प्रशासन के साथ संपर्क करेंगे और हर जगह पर एक नियंत्रण कक्ष होगा। हम खुफिया जानकारी इकट्ठा करेंगे। पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल जैसे अन्‍य राज्यों पर हम ध्यान केंद्रित करेंगे।

 

महानिदेशक अरुण कुमार ने दी यह जानकारी

 

” अरुण कुमार ने कहा, “हम उन्हें यात्रियों के लिए असुविधा का (Rail stop movement) कारण नहीं बनने दे सकते हैं। हमारे पास चार घंटे है और हम चाहते हैं कि यह (रेल रोको) शांति से चले।” किसान किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा अधिनियम, और आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम पर किसानों (सशक्तिकरण और संरक्षण) समझौते के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *