भारत के सभी हिस्सों में प्रसिद्ध एक अनूठी रेसिपी है राजगिरा पूरी

राजगिरा पूरी
राजगिरा पूरी

राजगिरा पूरी: राजगिरा पूरी भारत के सभी हिस्सों में प्रसिद्ध एक अनूठी फूला हुआ ब्रेड रेसिपी है।

विशेष रूप से उत्तर भारत में, कोई भी त्योहार इस स्वादिष्ट व्यंजन को तैयार किए बिना पूरा नहीं होता है।

यह पूरी ऐमारैंथ के आटे, उबले और मसले हुए आलू और सेंधा नमक का उपयोग करके तैयार की जाती है।

ऐमारैंथ का आटा शुभ अवसरों और त्योहारों के दौरान सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली और खपत की जाने

वाली सामग्री में से एक है। यह आटा प्रोटीन से भरा हुआ है और उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है जो शाकाहारी

भोजन खाते हैं।

Navratri Special Rajgira Puri - व्रत में बनाये झटपट राजगिरा पुरी - How To Make Vrat Rajgira Poori - YouTube

ALSO READ: हरे मटर की अच्छाई से तैयार बनाएं मटर की खीर

राजगिरा पूरी की सामग्री

250 ग्राम ऐमारैंथ पाउडर
आवश्यकता अनुसार पानी
1 1/2 कप रिफाइंड तेल
2 आलू
आवश्यकता अनुसार सेंधा नमक

ऐसे बनाते है राजगिरा पूरी

एक छोटा प्रेशर कुकर मध्यम से तेज आंच पर रखें और उसमें पर्याप्त पानी के साथ आलू डालें।

आलू को 1-2 सिटी तक उबाल लें और भाप को अपने आप निकलने दें।

एक बार हो जाने के बाद, अतिरिक्त पानी निकाल दें और उन्हें एक कटोरे में छील लें। अच्छी तरह मैश करें।

अब, मैश किए हुए आलू के साथ राजगिरा आटा / ऐमारैंथ का आटा और सेंधा नमक डालें।

फास्टिंग ट्रीट: राजगिरा की पूरी (Fasting Treat: Rajgira ki Puri)

पूरे मिश्रण को अच्छी तरह मिला लें। इस मिश्रण में ज़रुरत मात्रा में पानी डालकर आटा गूंदना शुरू कर दें।

फिर से, आटा में और पानी डालें ताकि यह सूखा न हो।

लेकिन ध्यान रहे कि आटा चिपचिपा भी ना हो

अगर यह चिपचिपा है तो इसमें थोड़ा और मैदा छिड़क कर थोड़ा और गूंद लें।

इसे ढककर 15 मिनट के लिए अलग रख दें।

अब, मध्यम आकार की पूरी को धूल वाली सतह पर बेल लें। ध्यान रहे कि वे न ज्यादा पतले हों और न ज्यादा मोटे।

– इसके बाद एक कढ़ाई डालकर उसमें मध्यम आंच पर तेल गर्म करें

ALSO READ: चॉकलेट बर्फी आसान व्यंजन है जिसको तैयार करने के लिए बस कुछ सामग्री चाहिए

पूरी को ध्यान से गरम तेल में एक-एक करके डालिये और तल कर निकाल लीजिये

पूरी को कढ़ाही में से निकाल लीजिए

पेपर नैपकिन पर रखकर अतिरिक्त तेल निकाल दें। पूरी को अपनी पसंद की सब्जी या सब्जी के साथ परोसिये और खाइये

– कशिश राजपूत