6 फरवरी को दिल्ली चक्का जाम नहीं करेंगे किसान संगठन, राकेश टिकैत ने किया ऐलान

Rakesh Tikait

 

-अक्षत सरोत्री

 

कृषि कानून को लेकर 6 फरवरी को होने वाले किसानों के चक्का जाम को फिलहाल किसानों ने टाल दिया है। गौर है कि ऐसा फैसला किसान संगठनों ने 26 जनवरी को दिल्ली हिंसा के बाद लिया होगा। इसके बाद अब प्रश्न यह है कि किसान संगठनों का अगला कदम क्या होगा। इस मुद्दे पर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा है कि 6 फरवरी को होने वाला चक्का जाम दिल्ली में नहीं होगा।

 

विपक्ष भटका रहा है, कृषि कानून में जमीन छीनने का कोई प्रावधान नहीं-तोमर

 

 

जो जहाँ हैं वहीं करें प्रदर्शन

 

उन्होंने समर्थकों से अपील की है कि जो लोग यहां नहीं आ पाए वो अपने-अपने जगहों पर कल चक्का जाम शांतिपूर्ण (Rakesh Tikait) तरीके से करेंगे। नए कृषि कानूनों को वापस लेने और एमएसपी पर कानून बनाए जाने की मांग करते हुए आंदोलन कर रहे किसान नेताओं ने चक्का जाम करने का ऐलान किया है। संयुक्त किसान मोर्चा के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा इसकी जानकारी देते हुए कहा था कि छह फरवरी को देशभर में आंदोलन होगा। इसके साथ ही, दोपहर 12 बजे से दोपहर तीन बजे तक सड़कों को ब्लॉक भी करेंगे।

 

बजट में किसानों को ‘नजरअंदाज’ करने का भी लगाया आरोप

 

 

किसान संगठनों ने चक्का जाम करने का यह ऐलान बजट में किसानों को ‘नजरअंदाज’ किए जाने, विभिन्न जगहों पर इंटरनेट बंद करने समेत अन्य मुद्दों के विरोध में किया है। मालूम हो कि सिंघु, गाजीपुर समेत दिल्ली के कई बॉर्डर्सपर हजारों की संख्या में किसान नवंबर से आंदोलन कर रहे हैं। 26 जनवरी को हुई ट्रैक्टर परेड में हिंसा के बाद आंदोलन कर रहे किसानों की संख्या में पिछले दिनों कमी आई थी, लेकिन भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) के भावुक होने के बाद एक बार फिर से आंदोलन को बड़ी संख्या में किसानों का समर्थन मिलने लगा। लेकिन सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि आखिर या आंदोलन लक़ब तक चलेगा और कब किसान अपनी मांगों का निपटारा करके वापस जायेंगे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *