सचिन पायलट ने किया किसान महांपचायत का आयोजन, साधा केंद्र पर निशाना

Sachin Pilot

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

किसान आंदोलन पर आजकल हर दल में राजनीति (Sachin Pilot) तेज हो गई है। हर कोई नेता अपना शक्ति प्रदर्शन कर के यह बताने की कोशिश कर रहा है कि वो किसानों के पक्ष में खड़ा है। आज इसी कड़ी में राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने महांपचायत के जरिए शक्ति प्रदर्शन किया और केंद्र सरकार पर निशाना साधा।

 

प्रेम सम्बन्ध के चलते हुई थी हत्याएं, एक आरोपी ने कबूला अपना गुनाह-पुलिस

 

जयपुर में किया गया किसान महापंचायत का आयोजन

 

तीनों कृषि कानून के विरोध में जयपुर में किसान (Sachin Pilot) महापंचायत का आयोजन किया गया। ख़ास बात यह थी की इस किसान महापंचायत में सचिन पायलट के खेमे के 15 विधायक एक ही मंच पर लामबंद दिखे। अपनी जमीनी पकड़ का राजनितिक संकेत भी आलाकमान तक पहुंचाने की कोशिश करते दिखे। कुछ दिन पहले कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को राजस्थान बुलाकर अशोक गहलोत ने इसी तरह से किसान आन्दोलन को समर्थन देने और तीनों केन्द्रीय कृषि कानून के विरोध में अपना इरादा बता दिया था।

 

इसी तरह का संकेत पहले सरकार के खिलाफ दिया था

 

 

अब इसी तरह का संकेत देने की बारि अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ बगावत करके मंत्रिमंडल से बर्खास्त होने वाले सचिन पायलट (Sachin Pilot) की थी। सचिन पायलट समर्थक विधायक वेदप्रकाश सोलंकी ने जयपुर से करीब 30 किलोमीटर दूर चाकसू में किसान महापंचायत का आयोजन किया। टोंक, जयपुर और दौसा इलाके के दूर-दराज के गांवों से पायलट समर्थकों ने महापंचायत में किसानों को बुलाने के लिए जनसंपर्क अभियान चलाया था।

 

 

कार्यक्रम में नहीं दिखे सीएम गहलोत

 

 

हालांकि सीएम अशोक गहलोत और वर्तमान पीसीसी (Sachin Pilot) अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा को भी उन्होंने इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए बुलाया, लेकिन वे नहीं आये. एसे में सचिन पायलेट खेमे के विधायक सोलंकी ने अपने नेता सचिन पायलट के जरिये ही किसानों के समर्थन में यहाँ से हुंकार भरी। पायलट को देखते ही समर्थकों ने पायलट जिंदाबाद के नारे भी लगाए। इस दौरान सचिन पायलट ने कहा कि देश का किसान खून के आंसू रो रहा है, केंद्र में कोई सुनने वाला नहीं है। किसान को सहानुभूति नहीं सहयोग चाहिए।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *