शिरोमणि अकाली दल ने NDA के राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को दिया समर्थन

President Polls
शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने का ऐलान किया है

भाजपा के पूर्व सहयोगी शिरोमणि अकाली दल (SAD) ने एनडीए (NDA) की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) को समर्थन देने की घोषणा की। शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Singh Badal) ने कहा कि उन्होंने एनडीए की राष्ट्रपति पद (President Polls) की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने का फैसला किया है। बादल ने कहा कि वे सिख समुदाय पर किए गए अत्याचारों के कारण कांग्रेस के साथ कभी नहीं जाएंगे।

यह भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट से नूपुर शर्मा को नहीं मिली कोई राहत, कोर्ट ने लगाई कड़ी फटकार

हम कांग्रेस कभी कांग्रेस का साथ नहीं देंगे: अकाली दल 

उन्होंने कहा, “हमने एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने का फैसला किया है। सिख समुदाय पर उनके द्वारा किए गए अत्याचारों के कारण हम कभी कांग्रेस में नहीं जाएंगे।”

शिरोमणि अकाली दल ने एक ट्वीट में कहा, “शिरोमणि अकाली दल ने आगामी राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन के लिए द्रौपदी मुर्मू की अपील को स्वीकार कर लिया है क्योंकि वह अल्पसंख्यकों, आदिवासियों, शोषित और पिछड़े वर्गों के साथ-साथ महिलाओं की गरिमा का प्रतीक हैं। वह गरीबों के प्रतीक के रूप में उभरी हैं।”

गुरुवार को भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने पूर्व सहयोगी शिअद अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल से एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के लिए समर्थन मांगा था (President Polls)। बादल ने नड्डा से कहा था कि वह अकाली दल (Akali Dal) के अन्य नेताओं से सलाह लेने के बाद उनसे संपर्क करेंगे।

भाजपा और शिअद के बीच दशकों पुराना गठबंधन तीन कृषि कानूनों के कारण टूट गया, जिन्हें बाद में मोदी सरकार ने वापस ले लिया। एसडीए नेता और बादल की पत्नी हरसिमरत कौर ने भी किसानों का समर्थन करने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस के शासन में लोगों को रथ यात्रा के दौरान दंगों का डर था: अमित शाह ने कांग्रेस पर कसा तंज