चार धाम की यात्रा करनी हैं तो कृपया ध्यान दें…सारी पांबदियां हट गई, लेकिन जाने से पहले ये काम जरूर करलें

Spread the love

रवि श्रीवास्तव 

कोरोना काल में उत्तराखंड में चारधाम यात्रा श्रद्धालुओँ के लिए शुरू तो कर दी गई थी..लेकिन तमाम ऐसी पाबंदिया थी, जिसकी वजह से भक्त अपने भगवान के धाम में जाने से कतरा रहे थे..अब उन तमाम पांबदियों को हटा दिया गया है ताकि चार-धाम यात्रा में श्रद्धालुओँ की आवक बढ़ सके।

अब चारधाम आने वाले श्रद्धालुओं को अब पंजीकरण के दौरान 72 घंटे पुरानी कोविड 19 नेगेटिव रिपोर्ट नहीं दिखानी होगी। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड ने नई एसओपी जारी करते हुए कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट की अनिवार्यता खत्म कर दी है।

अभी तक चारधाम की यात्रा बेहद धीमी रफ्तार से चल रही थी, पिछले साल की तुलना में इस साल श्रद्धालुओँ की संख्या तकरीबन 85 प्रतिशत कम रही।जानकारी के मुताबिक चार धाम यात्रा में अब तक करीब 50 हजार तीर्थयात्री चारों धामों के दर्शन कर चुके हैं। सबसे अधिक तीर्थयात्री बदरीनाथ धाम के दर्शन करने पहुंचे

चार धाम जाना है तो ध्यान दें

नए नियम के मुताबिक अगर आपकों चारधाम यात्रा करनी है तो सबसे पहले बोर्ड की वेबसाइट www.badrinath-kearnath.gov.in  पर पंजीकरण कर ईपास लेना होगा जो बेहद आसान है। यात्रा कोविड प्रोटोकोल के तहत होगी, लेकिन अगर आप ठीक है तो आपकों कोई परेशानी नहीं होगी, हां, अगर आपकों कोरोना के लक्षण है तो यात्रा करने से आपको रोका जा सकता है, बोर्ड की तरफ से ये भी कहा गया है कि ऐसे तीर्थ यात्री जो सीधे हेलीकॉप्टर से बदरीनाथ और केदारनाथ में दर्शन के लिए आते हैं, तो उन्हें चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण की भी जरूरत नहीं होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *