चीन और पाकिस्तान पर सख्ती, कुछ फैसले ट्रंप से विपरीत ले सकते हैं बाइडन

Biden

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

अमेरिका में आज से जो बाइडन (Biden) सत्ता संभालेंगे इसी बीच कई देशों की चिंता बढ़ने लगी है। समाचार के अनुसार बड़ी उम्‍मीदें पाले चीन और पाकिस्‍तान को झटका लगा है। अमेरिका में शपथ ग्रहण करने जा रहे जो बाइडन प्रशासन ने साफ कर दिया है कि लद्दाख में भारतीय जमीन पर नजरें गड़ाए बैठे चीन के खिलाफ अमेरिकी सख्‍ती ट्रंप प्रशासन की तरह से ही जारी रहेगी।

 

कश्मीर को लेकर यह बोला बाइडन प्रशासन

 

 

वहीं कश्‍मीरी आतंकवादियों को पालने वाले पाकिस्‍तान को भी बाइडन (Biden) प्रशासन ने लश्‍कर-ए-तैयबा और अन्‍य भारत विरोधी आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए आगाह किया है। अमेरिका के भावी रक्षा मंत्री जनरल लॉयड ऑस्टिन ने कहा है कि चीन पहले ही ‘क्षेत्रीय प्रभुत्वकारी शक्ति’ बन चुका है और अब उसका लक्ष्य ‘नियंत्रणकारी विश्वशक्ति’ बनने का है। इस मोके पर ऑस्टिन ने कहा, ‘चीन पहले ही क्षेत्रीय प्रभुत्वकारी ताकत है और मेरा मानना है कि उनका अब लक्ष्य नियंत्रणकारी विश्व शक्ति बनने का है। वह हमसे विभिन्न क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धा करने के लिए काम कर रहे हैं और उनके प्रयास नाकाम करने के लिए पूरी सरकार को एक साथ मिल कर विश्वसनीय तरीके से काम करने की जरूरत होगी।’

 

लद्दाख में खुराफात की कोशिश में चीन, बढ़ा सकता है सैनिक गतिविधियां

 

 

रूस को लेकर हो सकती है यह नीति

 

 

रूस के बाद चीन ने अमेरिका को चुनौती दी है और आज खुलकर वो अमेरिका के खिलाफ काम कर रहा है। यह एक बड़ा सवाल है कि जो बाइडन (Biden) भी ट्रंप की तरह रूस के प्रति रवैया अपनाते हैं। इसी बीच एक और सवाल उठ रहा है कि क्या सत्ता बदलने के साथ विदेश नीति में भी बदलाव होता है। पिछले पांच सालों में भारत अमेरिका के बीच रक्षा और रणनीतिक सहयोग काफी ज्यादा गहरा हुआ है क्या आगे भी जारी रहता है संकेत तो यही मिल रहे हैं।

 

 

 

जो बाइडन के इन फैसलों के मिल रहे हैं संकेत

 

 

जो बाइडन के एक सहयोगी ने बताया कि बुधवार को बाइडन (Biden) ट्रंप की तरफ से खड़ी की गई उन दीवारों को गिरा सकते हैं, वो चाहे बात कुछ मुस्लिम बहुल देशों से यात्रा पर बैन की बात हो या फिर पेरिस जलवायु समझौता और विश्व स्वास्थ्य संगठन को दोबारा ज्वाइन करने की। इसके साथ ही, के स्टोन एक्सएल ऑयल पाइप लाइन को मंजूरी को खारिज किया जा सकता है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *