साउथ अफ्रीका और ब्राजील स्ट्रेन के संक्रमित मिलने से मचा हड़कंप, स्वास्थ्य मंत्रालय अलर्ट पर

Brazil strains

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

जबसे कोरोना वैक्सीन आई है तबसे लोगों में कोरोना का डर खत्म हुआ है। लेकिन आज जो खबर आई वो डराने वाली है। क्योंकि नए कोरोना स्ट्रेन (Brazil strains) ने भारत में दस्तक दे दी है। जानकारी के अनुसार भारत में अब तक साउथ अफ्रीका स्ट्रेन के चार, ब्राजील स्ट्रेन के दो और यूके कोरोना स्ट्रेन के 187 केस पाए गए हैं। सभी यात्रियों और उनके कॉन्टैक्ट को क्वॉरन्टीन कर टेस्ट किया गया। वहीं ब्राजील वैरिएंट SAS-CoV-2 का एक केस फरवरी के पहले हफ्ते में सामने आया।

 

चीन के एप्प वैन होने पर भारतीय एप्प की मांग बाज़ार में बढ़ी

 

स्ट्रेन के संक्रमित को आईसीएमआर पुणे में किया आइसोलेट

 

 

वैरिएंट SAS-CoV-2 वायरस स्ट्रेन के संक्रमित (Brazil strains) आईसीएमआर पुणे में सफलतापूर्वक आइसोलेट किया गया। ब्राजील और साउथ अफ्रीका वाले वैरिएंड यूके वाले वैरिएंट से अलग हैं। इसके साथ ही बलराम भार्गव ने जानकारी दी कि आज भारत में यूके वैरिएंड के 187 मरीज हैं। सभी कंफर्म केस को क्वॉरन्टीन किया गया है और इलाज हो रहा है। इनके संपर्क में आने वाले लोगों की भी जांच की गई और उन्हें आइसोलेट किया गया है। उन्होंने कहा कि हमारे पास जो वैक्सीन उसमें इस यूके वैरिएंट को न्यूट्रलाइज करने की क्षमता है।

 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह दी जानकारी

 

 

प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोरोना पर (Brazil strains) जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि मंगलवार दोपहर एक बजे तक देश भर में कोरोना वैक्सीन की 87 लाख 40 हजार 595 डोज दी गईं। 85 लाख 69 हजार 917 लोगों को पहला डोज दिया गया जबकि 1 लाख 70 हजार 678 लोगों को दूसरा डोज दिया गया। राजस्थान, केरल, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार सहित 14 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 70 फीसदी से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड टीके की पहली खुराक दी गयी। वहीं दिल्ली, पंजाब, आंध्र प्रदेश सहित 11 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 50 फीसदी से भी कम स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड टीके की पहली खुराक दी गयी। झारखंड, असम, उत्तर प्रदेश, गुजरात सहित आठ राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 60 फीसदी से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड टीके की दूसरी खुराक दी गयी।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *