निर्भया मामले में दोषी विनय शर्मा की याचिका को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा झटका दिया है। दोषी विनय शर्मा ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा दया याचिका खारिज करने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। जिसमें उसने मानसिक हालत ठीक नहीं होने की अर्जी दी थी। उसने यह भी आरोप लगाया था कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सामने उसकी बीमारी को लेकर सभी तथ्य नहीं रखे गए थे और इन सभी में राजनीतिक चाल चली गई थी।

इसी पर उच्चतम न्यायलय ने दोषी विनय की इन दलीलों को खारिज करते हुए कहा कि राष्ट्रपति के सामने सभी दस्तावेज रखे गए थे। जस्टिस आर भानुमति, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस ए.एस.बोपन्ना की बेंच ने दोषी विनय की दलील को खारिज करते हुए कहा है कि मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक निर्भया के दोषी विनय की मानसिक हालत बिल्कुल ठीक है।

बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने दोषी मुकेश की अर्जी को खारिज किया था, जिसमें मुकेश ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर राष्ट्रपति की दया याचिका खारिज करने के फैसले को चुनौती दी थी। याचिका में 1 फरवरी के डेथ वारंट पर रोक लगाने की भी मांग की गई थी।

गुरुवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों को फांसी देने के लिए डेथ वारंट जारी करने की मांग वाली याचिका पर 17 फरवरी तक सुनवाई को टाल दिया है। साथ ही साथ कोर्ट ने कहा था कि संविधान के अनुसार निर्भया के दोषियों को कानूनी उपायों का इस्तेमाल करने का हक हैं और उनके मौलिक अधिकारों को अनदेखा नहीं कर सकते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here