सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस में नया मोड़ देखने को मिल रहा है. सुशांत के पिता के के सिंह ने रिया चक्रवर्ती के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है. उन्होंने ये FIR पटना के राजीव नगर पुलिस थाने में दर्ज कराई है. के के सिंह ने आरोप लगाया है कि रिया ने सुशांत से पैसे लिए और उन्हें सुसाइड के लिए उकसाया है. आईपीसी की धारा 341, 342, 380, 406, 420, 306 के तहत ये केस दर्ज हुआ है.

इस मामले में सुशांत के पिता के के सिंह ने अपने आवेदन में लिखा है कि मुम्बई पुलिस द्वारा जो जांच की जा रही है, उस पर उन्हें भरोसा नही हैं. इसलिए पटना पुलिस से इस मामले में जांच करने को कहा गया है. केके सिंह ने सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार वालो पर गंभीर आरोप लगाए हैं. केके सिंह के मुताबिक, रिया ने सुशांत को धोखा दिया, उसके पैसे हड़प लिए. इसके अलावा, परिवार से सुशांत को पूरी तरीके से काट दिया.

सुशांत के पिता ने अपनी FIR में कई सवाल उठाए हैं जो सोचने पर मजबूर कर देते हैं. उन्होंने अपनी शिकायत में कहा कि रिया से मिलने से पहले सुशांत मानसिक रूप से ठीक था. ऐसा क्यों हुआ कि उसके संपर्क में आने के बाद वह मानसिक रूप से डिस्टर्ब हो गया था? सुशांत के पिता ने अपनी शिकायत में कहा कि रिया ने अपना मोबाइल नंबर बदलने के लिए उनके बेटे पर दबाव बनाया था ताकि वह अपने करीबी लोगों से बात नहीं कर सके. इतना ही नहीं रिया ने सुशांत के करीबी स्टाफ को भी चेंज करवा दिया था जो उनके लिए काम किया करते थे.

उन्होंने बताया कि रिया ने सुशांत से कहा था कि अगर मेरी बातें नहीं मानोगे तो मैं मीडिया में तुम्हारी मेडिकल रिपोर्ट दे दूंगी और सबको बता दूंगी की तुम पागल हो. जब रिया को लगा की सुशांत सिंह उसकी बात नहीं मान रहा है और उसका बैंक बैलेंस भी बहुत कम रह गया है, तो रिया ने सोचा कि अब सुशांत उसके किसी काम का नहीं है तो रिया जोकि सुशांत के साथ रह ही थी दिनांक 8 जुलाई,2020 को शुशांत के घर से काफी सामान कैश, जेवरात, लैपटॉप , पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड, उनके पिन नम्बर जिसमें सुशांत के अहम दस्तावेज, ईलाज के सारे कागज लेकर चली गई.

सुशांत के पिता ने FIR में कहा, “जाने के बाद उसने मेरे बेटे सुशांत का फोन नम्बर अपने फोन में ब्लॉक कर दिया. इसके बाद सुशांत ने मेरी बेटी को फोन किया. सुशांत ने कहा रिया मुझे कहीं फंसा देगी, वो यहां से काफी सामान लेकर चली गई है. मुझे धमकी देकर गई है कि अगर तुमने मेरी बात नहीं मानीं तो तुम्हारे इलाज के सारे कागज मीडिया को दे दूंगी.”

पटना के एसएसपी उपेंद्र शर्मा के आदेश पर राजीव नगर के थाना प्रभारी को इस केस का आईओ बनाया गया है. इस मामले की जांच के लिए चार सदस्यों की टीम को मुम्बई भेजा गया है. यह टीम मुम्बई पुलिस से मिलकर उनसे केस डायरी के अलावा अन्य जरूरी कागजात हासिल करेगी. टीम में दो इंस्पेक्टर और दो सब इंस्पेक्टर शामिल हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here