अफगानिस्तान में तालिबान सरकार के 101 दिन पूरे, सरकार के सामने अब भी कई चुनौतियां

 

अफगानिस्तान में तालिबानी सरकार का गठन हुए 101 दिन पूरे हो चुके है. हालांकि सरकार के सामने अब भी कई तरह की चुनौतियां है. तालिबानी सरकार को शायद अब समझ आने लगा है कि किसी देश पर कब्जा करना तो आसान है, लेकिन उस देश को चलाना बेहद मुश्किल है.

 

सरकार को अब तक नहीं मिली अंतराष्ट्रीय मान्यता 

 

विदेश मंत्री आमिर खान मुत्ताकी ने तालिबान की सरकार को वैश्विक मान्यता दिलाने के लिए काफी कूटनीतिक कोशिशें की हैं, लेकिन सब फेल साबित हुईं. इस सरकार का नेतृत्व मौलवी हिबतुल्ला अखुंदजादा कर रहा है. जो अफगानिस्तान की तालिबान सरकार में सुप्रीम लीडर है.

 

कई तरह के संकट से गुजर रही है तालिबानी सरकार 

 

तालिबान सरकार को उम्मीद थी कि  इन बैठकों में उसे वैश्विक मान्यता देने को लेकर बात होगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. वैश्विक स्तर पर हुई बैठकों में दूसरे मुद्दों पर चर्चा हुई, जैसे- अफगानिस्तान में समावेशी सरकार, मानवाधिकार, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, अफगान लड़कियों और महिलाओं के लिए शिक्षा और रोजगार का अधिकार और चरमपंथ एवं आतंकवाद के खिलाफ किसी तीसरे देश द्वारा जमीन का इस्तेमाल नहीं होने देना.