बंगाल भर्ती घोटाला मामले में पार्थ चटर्जी, अर्पिता मुखर्जी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

Teacher Scam
Partha Chatterjee and Arpita Mukherjee

एक विशेष पीएमएलए (PMLA) अदालत ने स्कूल सेवा आयोग नियुक्ति घोटाले (Teacher Job Scam) में प्रवर्तन निदेशालय (ED) जांच के सिलसिले में बंगाल के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी (Partha Chatterjee) और उनकी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी (Arpita Mukherjee) को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी 23 जुलाई को बंगाल के स्कूलों में शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों की कथित अवैध नियुक्ति (Teacher Scam) के मामले में गिरफ्तारी के बाद से ईडी रिमांड में हैं।

यह भी पढ़ें: बैठक के लिए दिल्ली में पीएम मोदी के आवास पहुंचीं ममता बनर्जी

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने चटर्जी को उनके मंत्री पद से मुक्त कर दिया है, जबकि तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटा दिया है।

इस बीच अर्पिता मुखर्जी ने ईडी को बताया था कि उनके घर से बरामद नकदी का पहाड़ चटर्जी का है।

इससे पहले, ईडी ने अदालत को बताया था कि चटर्जी की हिरासत में 15 दिनों में से कम से कम दो दिन यहां के सरकारी एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती होने के कारण बर्बाद हो गया।

ईडी ने दावा किया है कि उसने मुखर्जी के स्वामित्व वाले फ्लैटों से 49.8 करोड़ रुपये नकद, भारी मात्रा में आभूषण और सोना बरामद किया है।

केंद्र सरकार के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन आज, पूरे नई दिल्ली इलाके में धारा 144 लागू