बिहार विधानसभा में तेजस्वी यादव होंगे विपक्षी दल के नेता

Tejashwi Yadav
Share

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election 2020)  में एनडीए को 125 सीटों और महागठबंधन को 110 सीटें मिली है। जिसके बाद एनडीए के खेमे में सरकार गठन की तैयारी चल रही है तो महागठबंधन में आगे की रणनीति को लेकर मंथन हो रहा है। आरजेडी विधायक दल और महागठबंधन विधायक दल की संयुक्त बैठक में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को विपक्षी दल (Leader Of Opposition) का नेता चुना गया है। वही दूसरी और सरकार गठन को लेकर नीतीश के आवास पर पार्टी विधायकों के साथ बैठक की। एनडीए के सहयोगी और हम पार्टी के मुखिया जीतन राम मांझी भी अपने तीन विधायकों के साथ नीतीश से मिलने पहुंचे। हालाकि मांझी ने इस मुलाकात को दिवाली से पहले औपचारिक मुलाकात बताया।

 

16 नवंबर को नए कार्यकाल के लिए बतौर सीएम शपथ लेंगे नीतीश कुमार, पूरा कार्यक्रम तय

 

आपको बता दें कि बिहार चुनाव (Bihar Election 2020) में कांग्रेस पार्टी का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा। 70 सीटों पर लड़ने वाली कांग्रेस महज 19 सीटों पर ही जीत हासिल कर सकी। कांग्रेस महासचिव तारिक अनवर ने कहा- हमारा प्रदर्शन आरजेडी और वाम दलों जितना अच्छा नहीं रहा। उन्होंने हमसे बेहतर प्रदर्शन किया। अगर हमने उनकी तरह प्रदर्शन किया होता, तो बिहार में महागठबंधन की सरकार होती। बिहार के लोग ऐसा ही चाहते थे और बदलाव के लिए अपना मन भी बना चुके थे।

 

शिवसेना को बड़ा झटका, बिहार चुनाव में मिले नोटा से भी कम वोट

 

वही खबरें है कि नीतीश कुमार 16 नवंबर यानी भाई दूज को सातवां बार बिहार सीएम पद की शपथ ले सकते हैं। भाई दूज के दिन शपथग्रहण के पीछे जो तर्क दिया जा रहा है वह यह कि बिहार चुनाव में महिलाओं ने एनडीए को सबसे ज्यादा सपोर्ट किया और उनकी वजह से ही नीतीश कुमार एक बार फिर राज्य की सत्ता के शिखर पर पहुंचे हैं। बुधवार को बीजेपी मुख्यालय पर पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि हम बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही आगे बढ़ेंगे। गौरतलब है कि, एनडीए गठबंधन में बीजेपी को 74 सीटें हासिल हुई हैं जबकि जेडीयू को महज 43 सीटें मिली हैं। इसलिए कहा जा रहा था कि गठबंधन में सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते बीजेपी से भी सीएम बनाने की मांग उठ सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *