वापस हुआ तीन कृषि कानून, अब MSP और किसानों की मौत पर बातचीत की मांग

 

 

केंद्र सरकार द्वारा संसद में तीन कृषि कानूनों की वापसी विधेयक पास होने के बाद अब किसान एमएसपी की मांग पर अड़े हुए है.  खबर ये भी है कि अब कुछ किसान आंदोलन खत्म कर वापस घर जाना चाहते हैं जबकि कुछ MSP खरीद गारंटी पर क़ानून बनाने के लिए केंद्र सरकार से बिना ठोस आश्वासन के आंदोलन खत्म करने के पक्ष में नहीं है.

 

टिकैत की मांग MSP और किसानों की मौत को लेकर बातचीत करे सरकार 

 

इस बीच भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष राकेश टिकैत ने किसानों की मौत और MSP गारंटी को लेकर सरकार से बातचीत करने का प्रस्ताव रखा है.  उन्होंने कहा है कि ”हम चाहते हैं कि भारत सरकार 4 दिसंबर को हमारी (एसकेएम) बैठक से पहले एमएसपी और मरने वाले किसानों पर हमारे साथ बैठक करे. हमारा आंदोलन खत्म नहीं हो रहा है. सरकार ने अभी तक हमारी मांगों को स्वीकार नहीं किया है.”

 

आंदोलन को खत्म करने की कोशिश 

 

इस बीच 1 दिसंबर को किसान नेताओं द्वारा आपात बैठक बुलाई गई है. स बैठक में वो सभी 42 के लगभग किसान संगठनों के नेता होंगे जो विज्ञान भवन में केंद्र सरकार से बातचीत में शामिल थे. माना जा रहा है कि इस बैठक का मकसद संयुक्त किसान मोर्चा के सभी नेताओं में किसान आंदोलन को खत्म करने के सर्वमान्य तरीके पर सहमति बनाने की कोशिश होगी.