Tokyo Olympics: मीराबाई बोलीं, गोल्ड के लिए लगा दिया था पूरा जोर, लेकिन सिल्वर से बेहद खुश

 

-आयुषी प्रधान

 

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने इतिहास रच दिया. 26 साल की चानू ने वेटलिफ्टिंग (Weightlifting) की 49 किलोग्राम कैटेगरी में सिल्वर जीता और पूरे देश का सीना गर्व से चौड़ा हो गया.

 

देश की हीरो बनीं मीराबाई चानू

 

मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) देश के लिए अपना पहला मेडल जीतकर बेहद खुश थी. उन्होंने कहा, ‘मैं इन खेलों में अपने देश के लिए पहला मेडल जीतकर बहुत खुश हूं. जब उनसे पूछा गया कि उनके लिए एक मणिपुरी होना क्या है? तब उन्होंने कहा, ‘मैं सिर्फ मणिपुर से संबंधित नहीं हूं, मैं पूरे देश से संबंधित हूं’.

 

मेडल जीतने के बाद उन्होंने कहा, ‘मैं अपना बेस्ट देने के लिए पूरी तरह तैयार थी, लेकिन 2016 ओलंपिक ने मुझे बहुत कुछ सिखाया. मैंने गोल्ड जीतने के लिए अपना बेस्ट दिया, लेकिन मैं गोल्ड नहीं जीत सकी, मैंने बहुत कोशिश की. जब मैंने दूसरी लिफ्ट की, मुझे समझ आ गया था कि मैं अपने देश के लिए मेडल जीतने वाली हूं. मैं बहुत खुश हूं कि मैंने मेडल जीता. पूरा देश मुझे देख रहा था और सबको उम्मीदें थीं, मैं थोड़ी बेचैन थी लेकिन मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ देने की ठान ली…मैंने इसके लिए बहुत मेहनत की है’.

 

Share