UP Election 2022: लखनऊ की रैली में भीड़ जुटाने पर चुनाव आयोग ने सपा को भेजा नोटिस, 24 घंटे में मांगा जवाब

सपा कार्यालय में कोरोना दिशानिर्देशों के उल्लंघन मामले में चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी को नोटिस जारी किया है.

लखनऊ सपा कार्यालय (SP Office) में कोरोना दिशा-निर्देशों के उल्लंघन मामले में चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी को नोटिस जारी किया है. चुनाव आयोग ने चौबीस घंटे में पार्टी से मामले पर स्पष्टीकरण मांगा है. बता दें कि सपा ऑफिस में कोरोना दिशा-निर्देशों (Corona Protocol) के उल्लंघन के मामले में लखनऊ के गौतमपल्ली थाना प्रभारी दिनेश सिंह बिष्ट को 14 जनवरी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया था. लखनऊ डीएम की इसी रिपोर्ट पर चुनाव आयोग ने कोरोना प्रोटोकॉल के उल्लंघन के तहत संज्ञान लिया है. राज्य चुनाव आयोग (Election Commission) ने सपा को नोटिस जारी कर मामले पर जवाब मांगा है. पार्टी को चौबीस घंटे के भीतर जवाब देना होगा.

ये भी पढ़ें-विराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, दक्षिण अफ्रीका से सीरीज हारने के बाद उठाया कदम

यूपी चुनाव आयोग ने लखनऊ सपा ऑफिस (Lucknow SP Office) में भारी भीड़ जुटने के मामले पर संज्ञान लिया है. बता दें कि शुक्रवार को सपा कार्यालय में अखिलेश यादव ने एक बड़ी रैली की थी. इस रैली में करीब 250 लोग शामिल हुए थे. इसे कोरोना प्रोटोकॉल (Corona Protocol) और आचार संहिता का उल्लंघन माना गया है. दरअसल राज्य में फैल रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए चुनाव आयोग ने फिजिकल रैली पर रोक लगाई है. चुनाव आयोग के आदेश को ताक पर रखकर सपा कर्यालय में एक बड़ी रैली का आयोजन किया गया था.

ये भी पढ़ें-जम्मू में इंटरनेशनल बॉर्डर पर पकड़ा गया पाक नागरिक

सपा ऑफिस में धारा 144 का उल्लंघन

बता दें कि बीजेपी के बागी नेताओं को पार्टी में शामिल कराने के दौरान भीड़ इकट्ठा करने के मामले में लखनऊ पुलिस ने पार्टी कार्यालय में नोटिस चिपकाया है. पुलिस ने धारा 144 के उल्लंघन करने के लिए पार्टी ऑफिस में नोटिस चस्पा किया है. चुनाव आयोग के आदेश के बाद गौतमपल्ली थाने के इंस्पेक्टर दिनेश सिंह बिष्ट को सस्पेंड किया जा चुका है.अब चुनाव आयोग ने सपा को भी नोटिस जारी कर उनसे जवाब तलब किया है.

चुनाव आयोग के आदेश के बाद भी जुटाई भीड़

स्वामी प्रसाद मौर्य बीजेपी छोड़कर शुक्रवार को आधिकारिक तौर पर सपा में शामिल हो गए. मौर्य के पार्टी ज्वाइन कार्यक्रम में सपा ऑफिस में आचार संहिता और कोरोना नियमों का उल्लंघन किया गया था. बड़ी संख्या में कार्यकर्ता वहां शामिल हुए थे. हैरानी की बात ये है कि चुनाव आयोग के आदेश के बाद भी अखिलेश यादव ने खुल रैली के जरिए हुंकार भरी. चुनाव आयोग इस मामले में अब स्खत नजर आ रहा है.

ये भी पढ़ें-पीएम मोदी 18 जनवरी को Virtual बातचीत में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ जीत का मंत्र साझा करेंगे