योगी सरकार का बड़ा फैसला, UP में अपने परिवारों से नहीं मिल सकेंगे जेलों में बंद कैदी

Up jail prisoners can not meet their family due to corona infection by government order

यूपी में कोरोना संक्रमण (UP Corona Infection) और ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के देखते हुए सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. यूपी की जेलों में बंद कैदियों को फिलहाल उनके परिवारों से नहीं मिलने दिया जाएगा. अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने यूपी के पुलिस महानिदेशक के नाम एक पत्र जारी किया है. इस शासनादेश में कहा गया है कि जेल में बंद बंदियों को कोरोना संक्रमण (Corona Infection) से बचाने के लिए अगले आदेश तक उन्हें परिवारों से मिलने की इजाजत नहीं दी जाए. इस आदेश को तत्काल प्रभाव से लागू किया जाए.

यूपी के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि 16 अगस्त 2021 को निरुद्ध बंदियों (UP Prisoners) को उनके परिवारों से मिलने की परमिशन दी गई थी. लेकिन कोरोना और ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों की वजह से कैदियों की सुरक्षा को देखते हुए परिवार से मिलने की परमिशन एक बार फिर से रोकी जा रही है. उन्होंने कहा है कि जेलों (UP Jail) को सख्ती से इस आदेश का पालन करना होगा.

ये भी पढे़ं-यूपी में सपा सरकार बनने पर मिलेगी 300 यूनिट मुफ्त बिजली : अखिलेश यादव का चुनावी वादा

कैदियों से नहीं मिल सकेगा परिवार

बता दें कि पहले भी संक्रमण की वजह से कैदियों के आगंतुकों से मिलने पर रोक लगा दी गई थी. करीब 6 महीने के बाद अगस्त 2021 में कोरोना प्रोटोकॉल के साथ परिवार से मिलने की परमिशन दी गई थी. कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान कैदियों को उनके परिवार से मिलने पर रोक लगा दी गई थी. लेकिन अगस्त महीने में एक बार फिर से मिलने की परमिशन दे दी गई थी. देशभर में एक बार फिर से कोरोना का खतरा तेजी से बढ़ रहा है. बड़ी संख्या में संक्रमण के मामले देखने को मिल रहे हैं.

ये भी पढे़ं- कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों ने ढेर किया एक आतंकी, इलाके में कई और दहशतगर्दों के छिपे होने की आशंका

कोरोना संक्रमण की वजह से जेलों में पाबंदी

यही वजह है कि एक बार फिर से बंदियों के उनके परिवार से मिलने पर रोक लगा दी गई है. सरकार ने यह कदम जेल में बंद कैदियों की सुरक्षा को देखते हुए उठाया है. कोरोना की दूसरी लहर के दौरान भी बड़ी संख्या मे जेल में बंद कैदी कोरोना संक्रमित हो गए थे. दरअसल कैदियों से मिलने बाहर से लोग आते हैं,ऐसे में कैदियों में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. अगर एक कैदी संक्रमित होता है, तो इससे जेल के दूसरे कौदियों के संक्रमित होने का खतरा बना रहता है. यही वजह है कि एहतियात के तौर पर सरकार ने समय रहते यह बड़ा कदम उठाया है. सरकार की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि अगले आदेश तक जेल के बंदी अपने परिवारों से नहीं मिल सकेंगे.

ये भी पढे़ं- वैष्णो देवी मंदिर हादसा: सभी मृतकों की हुई पहचान, परिजनों को सौंपे गए 11 लोगों के शव- दो को किया एयरलिफ्ट