Vaishakh Purnima 2022: वैशाख पूर्णिमा आज, जानिए पूजा विधि और महत्व…

Vaishakh Purnima 2022
वैशाख पूर्णिमा 2022

Vaishakh Purnima 2022: वैशाख (Vaishakh) के हिंदू महीने को हिंदू कैलेंडर (Hindu Calendar) में सबसे शुभ महीना माना जाता है। वैशाख पूर्णिमा वैशाख मास की पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है। वैशाख के महीने में पड़ने वाली पूर्णिमा को वैशाख पूर्णिमा कहा जाता है। वैशाख पूर्णिमा के दिन भक्त भगवान विष्णु (Bhagwan Vishnu) की पूजा करते हैं। इस महीने वैशाख पूर्णिमा 16 मई 2022 सोमवार को मनाई जा रही है।

स्कंद पुराण के अनुसार जो मुख्य हिंदू शास्त्रों में से एक है, वैशाख पूर्णिमा के महत्व पर प्रकाश डालता है। ऐसा माना जाता है कि वैशाख पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से भक्तों को स्वास्थ्य, धन, शांति और समृद्धि का आशीर्वाद मिलता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि वैशाख पूर्णिमा को बुद्ध जयंती (Buddha Jayanti) के रूप में भी मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें: सीता नवमी 2022: आज है सीता नवमी, जानिए इसके पीछे की कथा और इसका महत्व

Vaishakh Purnima 2022: तिथि और समय

  • वैशाख पूर्णिमा दिनांक 15-16 मई 2022
  • पूर्णिमा तिथि 15 मई 2022, दोपहर 12:47 बजे शुरू होगी
  • वैशाख पूर्णिमा तिथि 16 मई 2022 को समाप्त, सुबह 9:45 बजे

वैशाख पूर्णिमा के अनुष्ठान

  1. इस दिन पवित्र नदी में स्नान करना सबसे शुभ माना जाता है।
  2. वैशाख पूर्णिमा के दिन भक्तों को सत्यनारायण कथा का पाठ अवश्य करना चाहिए
  3. सत्यनारायण पूजा के बाद हवन या यज्ञ करना चाहिए
  4. भगवान विष्णु को पवित्र या सात्विक भोजन अर्पित करें
  5. भक्त शाम को जल ‘अर्घ्य’ देकर चंद्रमा की पूजा भी करते हैं
  6. भक्तों को देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु को खीर, पंचामृत और तुलसी पत्र अवश्य चढ़ाना चाहिए
  7. जो लोग नया व्यापार, नौकरी, साझेदारी और शादी शुरू करना चाहते हैं उनके लिए यह दिन बेहद शुभ माना जाता है
  8. पूर्णिमा का दिन या पूर्णिमा का दिन कपल्स के लिए सबसे खास दिन माना जाता है
  9. सत्यनारायण पूजा के बाद सत्यनारायण कथा सुनने वालों को प्रसाद अवश्य बांटना चाहिए
  10. भक्तों को पूर्ण लाभ और मनोवांछित इच्छाओं की पूर्ति के लिए वैशाख पूर्णिमा का व्रत पवित्र आत्मा के साथ करना चाहिए

यह भी पढ़ें: Buddha Purnima 2022: जानिए कब है बुद्ध पूर्णिमा और इसका महत्व…

जो लोग अवसाद या चिंता की समस्या का सामना कर रहे हैं और जिनकी कुंडली में चंद्रमा कमजोर है, उन्हें इस दिन सत्यनारायण पूजा करनी चाहिए और शाम को चंद्रमा को जल अर्पित करना चाहिए। ऐसा करने से उन्हें अपनी परेशानी से निजात मिल सकती है। वैशाख पूर्णिमा का व्रत भी रखने की सलाह दी जाती है।

यह भी पढ़ें: इस दिन करें सत्यनारायण पूजा, जरूर मिलेगा फल…