नवरात्र में करें मां मनसा देवी के दर्शन, धागा बांधने से हर मन्नत होगी पूरी

Spread the love

-नीलम रावत, संवाददाता

 

नवरात्र के पावन अवसर पर देवी मां के दर्शन करना अत्यंत ही शुभ माना जाता है. ऐसी ही एक मां है माता मनसा देवी, जो अपने भक्तों की हर मनोकामना को पूरा करती है. हरिद्वार में स्थित मां मनसा का मंदिर देशभर में प्रसिद्ध है. हरिद्वार आने वाले श्रद्धालु मां मनसा के दर्शन किए बिना नहीं जाते.

 

 

 

 

देवी मनसा को भगवान शंकर की पुत्री के रूप में जाना जाता है. कहा जाता है कि मां मनसा की शरण में आने वालों का कल्याण होता है. इनका प्रसिद्ध मंदिर हरिद्वार शहर से लगभग 3 किमी दूर शिवालिक पहाड़ियों पर बिलवा पहाड़ पर स्थित है. नवरात्रों में मां के दरबार में लाखों की तादाद में श्रद्धालु आते हैं. यहां लोग माता से अपनी मनोकामना को पूरा करने के लिए आशीर्वाद लेते हैं. माना जाता है कि माता मनसा देवी से मांगी गई हर मुराद माता पूरी करती है.

 

मां मनसा की महिमा

 

 

माता मनसा के मंदिर में देवी की दो मूर्तियां हैं. एक मूर्ति की पांच भुजाएं और तीन मुंह हैं, जबकि दूसरी मूर्ति की आठ भुजाएं हैं. मां के भक्त अपनी इच्छा पूर्ण कराने के लिए यहां आते हैं और पेड़ की शाखा पर एक पवित्र धागा बाँधते हैं और जब उनकी इच्छा पूरी हो जाती है तो दोबारा आकर मां का आशीर्वाद लेते हैं और धागे को शाखा से खोलते हैं.

 

नागराज वासुकी की मां हैं मनसा

 

वैसे तो मनसा देवी को कई रूपों में पूजा जाता है. इन्हें कश्यप की पुत्री और नागमाता के रूप में साथ ही शिव पुत्री, विष की देवी के रूप में भी पूजा जाता है. 14वीं सदी के बाद इन्हें शिव के परिवार की तरह मंदिरों में आत्मसात किया गया. मां की उत्पत्ति को लेकर कहा जाता है कि मनसा का जन्म समुद्र मंथन के बाद हुआ था.

 

 

नवरात्र के मौके पर ना सिर्फ हरिद्वार से बल्कि देश के अलग-अलग हिस्सों से लोग मां मनसा के दर्शन करने आते है. मां मनसा भी सच्चे दिल से मांगी गई भक्तों की हर मुराद को पूरा करती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *