West Bengal: TMC में बढ़ी टेंशन, पार्टी के सभी पदाधिकारी हटाये गये, अभिषेक बनर्जी भी नहीं रहे राष्ट्रीय महासचिव

West Bengal TMC
फाइल फोटोः ममता बनर्जी और अभिषेक बनर्जी.

पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस (TMC)  की सुप्रीमो ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और उन्हीं के भतीजे अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) के बीच जारी टेंशन ने शनिवार को महत्वपूर्ण मोड़ ले लिया है. अभिषेक बनर्जी और ममता बनर्जी के समर्थकों के बीच एक दूसरे के समर्थन में किए जा रहे पोस्ट के बीच आज शनिवार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने आवास पर आपातकालीन बैठक हुई. बैठक में 20 सदस्यीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी के गठन का ऐलान किया गया, हालांकि कार्यकारिणी में अभिषेक बनर्जी सहित पार्टी के महत्वपूर्ण नेताओं को जगह दी गयी है, लेकिन महत्वपूर्ण है कि आज पदाधिकारियों के नामों का ऐलान नहीं किया गया है. टीएमसी नेता पार्थ चटर्जी ने कहा कि पदाधिकारियों के नामों का ऐलान पार्टी चेयरमैन ममता बनर्जी शीघ्र करेंगी. इस बीच, राष्ट्रीय कमेटी की पूरा काम देखेगी. इसके साथ ही यह सवाल उठा है कि क्या अभिषेक बनर्जी राष्ट्रीय महासचिव रहेंगे या नहीं. इसे लेकर बाजार में चर्चा शुरू हो गई है. पदाधिकारियों के चयन का दायित्व पार्टी चेयरपर्सन ममता बनर्जी को सौंपा गया है. ममता बनर्जी ही पार्टी पदाधिकारियों के नामों का ऐलान बाद में करेंगी.

यह भी पढ़ें:TMC में जारी कलह के बीच सुप्रीमों ममता बनर्जी ने शनिवार को पार्टी के शीर्ष नेताओं के साथ बुलाई अहम मीटिंग

बता दें कि आज ही इस बैठक के पहले पहले अभिषेक बनर्जी और ममता बनर्जी के बीच महत्वपूर्ण बैठक हुई है जिसके बाद माना जा रहा है कि दोनों के रिश्ते पर जमी बर्फ गल रही है. शाम 5:00 बजे होने वाली बैठक से पहले ही अभिषेक बनर्जी कालीघाट स्थित मुख्यमंत्री के आवास पर शाम 4:00 बजे के करीब पहुंच गए थे उसी समय ममता और अभिषेक के बीच बैठक हुई है. बैठक समाप्त होने के बाद भी अभिषेक बनर्जी कालीघाट स्थित आवास पर काफी समय तक रहे.

“एक व्यक्ति एक पद” की मांग से मचा हंगामा

दरअसल कयास लगाए जा रहे थे कि पार्टी में “एक व्यक्ति एक पद” की नीति लागू कराने के लिए अभिषेक कई बार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को संकेत दे चुके थे लेकिन इस पर कोई कदम नहीं उठाए जा रहे थे जिससे नाराज होकर वह पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव के पद से इस्तीफा देने वाले थे. इसी बीच अभिषेक के समर्थन में ममता बनर्जी के परिवार के कई लोगों ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था. इसके अलावा राज्य के अन्य नेता मंत्री और सांसद भी अभिषेक का समर्थन करने लगे थे.

यह भी पढ़ें:SCHOOL REOPEN IN BENGAL : बंगाल में आज से खुले कक्षा 8वीं से 12वीं के स्कूल, आधे घंटे पहले शिक्षक और बच्चे

अभिषेक और ममता बनर्जी के बीच दरार

दूसरी और ममता बनर्जी सीधे अभिषेक से इस बारे में बात ना कर अपने करीबी मंत्री फिरहाद हकीम और अन्य नेताओं के जरिए यह कहलवा रही थीं कि पार्टी एक व्यक्ति एक पद की नीति का समर्थन नहीं करती और ना ही इसके पक्ष में चलाए जा रहे अभियान को बर्दाश्त करेंगे. इसलिए ममता और अभिषेक के बीच दूरियां और बढ़ती जा रही थीं और खबर थी कि दोनों एक दूसरे से बात नहीं कर रहे हैं. इस बीच शनिवार को ममता ने इसी मुद्दे पर चर्चा के लिए आपातकालीन बैठक बुलाई थी और इस बैठक से पहले अभिषेक बनर्जी के साथ उनकी बैठक बड़ा संकेत माना जा रहा है.

यह भी पढ़ें:भाजपा के सुवेंदु अधिकारी ने पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा के लिए TMC नेता को जिम्मेदार ठहराया