उत्पन्ना एकादशी कब है? जानें पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

 

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, एक महीने में दो एकादशी का व्रत होता है. एक शुक्ल पक्ष में और दूसरा कृष्ण पक्ष में. कार्तिक पूर्णिमा के बाद कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी (Ekadashi) को उत्पन्ना एकादशी के नाम से जाना जाता है. उत्पन्ना एकादशी (Utpanna Ekadashi 2021) महत्वपूर्ण एकादशी में से एक है. इसे एकादशी की जयंती माना जाता है. वार्षिक उपवास रखने का संकल्प लेने वाले भक्त उत्पन्ना एकादशी से एकादशी का व्रत शुरू करते हैं. इस साल उत्पन्ना एकादशी 30 नवंबर 2021 मंगलवार के दिन है.

 

सभी एकादशी व्रत देवी एकादशी को समर्पित हैं जो भगवान विष्णु की शक्तियों में से एक हैं. ऐसा माना जाता है कि एकादशी का जन्म भगवान विष्णु का वध करने वाले राक्षस मूर का विनाश करने के लिए भगवान विष्णु की देह से हुआ था. इसलिए इस दिन भगवान विष्णु के भक्त उनका आशीर्वाद लेने के लिए एकादशी का व्रत रखते हैं. देवी एकादशी भगवान विष्णु की सुरक्षात्मक शक्तियों में से एक है.

 

उत्पन्ना एकादशी 2021 –  तिथि

 

उत्पन्ना एकादशी शुरुआत –  30 नवंबर 2021, मंगलवार सुबह 04:13 बजे
उत्पन्ना एकादशी समापन –  01 दिसंबर 2021, बुधवार मध्यरात्रि 02: 13 बजे
पारण तिथि हरि वासर समाप्ति का समय –  सुबह 07:34 मिनट
द्वादशी व्रत पारण समय: 01 दिसंबर 2021, सुबह 07:34 बजे से 09: 01 मिनट तक

 

उत्पन्ना एकादशी दिसंबर 2021 – पूजा विधि

 

इस दिन भक्त सुबह जल्दी उठते हैं, स्वच्छ वस्त्र धारण करते हैं, धूप, दीपक, फूल, चंदन, फूल, तुलसी से भगवान विष्णु की व्रत पूजा करते हैं. वे भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए एक विशेष भोग भी तैयार करते हैं. हर दूसरी पूजा की तरह, अनुष्ठान किए जाते हैं, और भक्त विशिष्ट व्रत कथा पढ़ते हैं और पारण में उपवास खोलते हैं.