IPL 13: आईपीएल के दूसरे क्वॉलिफायर किसका पलड़ा होगा भारी

DC vs SRH
Share

 

-अक्षत सरोत्री

 

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 13) में सही समय पर लय हासिल करने वाली सनराइजर्स हैदराबाद की टीम रविवार को जब टूर्नमेंट के दूसरे क्वॉलिफायर (DC vs SRH) में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मैदान पर उतरेगी तो उसका पलड़ा भारी होगा। इस मैच के विजाता का सामना फाइनल में मुंबई इंडियंस से होगा।सनराइजर्स हैदराबाद के लिए पिछले चारों मुकाबले करो या मरो के थे लेकिन टीम ने सभी में जीत दर्ज की तो वहीं शुरुआती मैचों में शानदार प्रदर्शन करने वाली दिल्ली कैपिटल्स की टीम टूर्नमेंट के आखिरी चरण तक पहुंचते-पहुंचते लय से भटक गयी। शुरुआती चरण में लचर प्रदर्शन करने वाली हैदराबाद की टीम की वापसी का श्रेय कप्तान डेविड वॉर्नर को जाता है, जिन्होंने अपने खिलाड़ियों का शानदार इस्तेमाल किया।

 

वॉर्नर 2016 की सफलता को फिर से दोहराने के मुड में

 

दूसरी तरफ शुरुआती नौ मैचों में सात जीत दर्ज करने वाले दिल्ली कैपिटल्स की पिछले छह मैचों में पांच हार से कप्तान श्रेयस अय्यर की योजनाओं को झटका लगा है। युवा कप्तान अय्यर टूर्नमेंट के 13वें सत्र में टीम को पहली बार फाइनल में ले जाना चाहेंगे तो वहीं वॉर्नर 2016 की सफलता को एक बार फिर से दोहराकर दूसरी बार टीम को चैम्पियन बनाना चहेंगे। वॉर्नर अगर अगले दो मैचों में जीत दर्ज करने में सफल रहे तो टूर्नमेंट में सबसे कम अनुभव वाले खिलाड़ियों के साथ जीत दर्ज करने का सेहरा उनके सिर बंधेगा। दिल्ली की टीम के लिए सबसे बड़ी चिंता उनके शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों की है। शिखर धवन (15 मैचों में 525) ने कुल मिलाकर अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन पिछले कुछ मैचों में बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे।

 

सलामी बल्लेबाजों के खाता खोले बगैर आउट होने से परेशान हैं पोंटिंग

 

युवा पृथ्वी साव (13 मैचों से 228) की कमजोरियां बेहतर तेज गेंदबाजी के खिलाफ उजागर हो गयी तो वहीं अनुभवी अजिंक्य रहाणे (7 मैचों में 111) ने अब तक केवल एक मैच में दमदार प्रदर्शन किया है। टीम के कोच रिकी पॉन्टिंग सलामी बल्लेबाजों के खाता खोले बगैर आउट होने से परेशान हैं। टूर्नमेंट में अब तब नौ बार ऐसा हो चुका है जिसमें धवन चार, साव तीन और रहाणे दो बार स्कोररों को परेशान किए बिना पविलियन लौट गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *