WHO ने अपने पोर्टल पर भारत सीमाओं को गलत ढंग से दिखाया, भारत ने दी चेतावनी

WHO

 

 

-अक्षत सरोत्री

 

 

कई देशों का आजकल अपनी सीमाओं को लेकर विवाद चलता रहता है। जिसमें भारत भी शामिल है। लेकिन अगर कोई संगठन ही किसी देश की सीमाओं को गलत तरीके से दर्शा दे तो विवाद लाजमी है। ऐसा ही कारनामा विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने किया है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के मानचित्रों में भारत की सीमाओं को गलत ढंग से दिखाया जा रहा है। भारत ने इसपर कड़ा ऐतराज जताते हुए के चीफ टेड्रोस एडहानॉम को चिट्ठी लिखी है। एक समाचार पत्र के अनुसार, चिट्ठी में बेहद सख्‍त लहजे में कहा गया है कि गलत नक्‍शे को फौरन सुधार लिया जाए।

 

 

कई बार दी जा चुकी है चेतावनी

 

 

भारत की तरफ से इस मुद्दे पर पिछले एक महीने में विश्व स्वास्थ्य संगठन को लिखी गई यह तीसरी चिट्ठी है। इससे पहले दिसंबर में दो बार WHO प्रमुख को पत्र लिखा जा चुका है। यूएन में भारत के परमानेंट प्रतिनिधि इंद्र मणि पांडेय ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख को मामले की जानकारी दी थी। भारत ने साफ किया है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के पोर्टल्‍स पर मौजूद वीडियोज और मैप्‍स में उसकी सीमाओं को ठीक से नहीं दर्शाया जा रहा।

 

 

यह कहना है भारतीय अधिकारियों का

 

 

इस मामले में अधिकार ने चिठ्ठी में कहा कि मैं आपको भेजे गए हमारे पिछले संदेशों की भी याद दिलाना चाहूंगा जिनमें हमने इन्‍हीं गलतियों की बात की थी। मैं आपसे इस मामले में तुरंत दखल देखकर भारत की सीमाओं को गलत ढंग से प्रदर्शित करना बंद करवाने की गुजारिश करता हूं। कृपया सही मानचित्रों का प्रयोग करें।” स्वास्थ्य संगठन के मैप्‍स में जम्‍मू और कश्‍मीर तथा लद्दाख को बाकी भारत से अलग शेड में दिखाया गया है। इसके अलावा 5,168 वर्ग किलोमीटर में फैली शक्‍सगाम घाटी जिसे पाकिस्‍तान ने 1963 में अवैध रूप से चीन के हवाले कर दिया था, उसे चीन का हिस्‍सा दिखाया गया है।

 

 

 

विवादित अक्साई क्षेत्र को बताया चीन का अंग

 

 

 

1954 में चीन ने जिस अक्‍साई चिन क्षेत्र पर कब्‍जा किया, उसे नीली स्ट्रिप्‍स में दिखाया गया है। WHO ऐसे ही रंग में चीनी क्षेत्र को दर्शाता है। भारतीय कानून के तहत, देश का गलत नक्‍शा छापना अपराध है। इसके लिए छह महीने की जेल और जुर्माने का प्रावधान है। एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने कहा कि WHO के कोविड-19 ट्रैकर जिसे दुनियाभर में खूब इस्‍तेमाल किया जाता है।

 

Republic Day 2021: इस वर्ष NSG कमांडो द्वारा कंधे से कंधा मिलाकर मार्च नहीं किया जायेगा

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *