इन कारणों से पूजनीय माना जाता है पीपल, जानिए इसकी पूजा से क्या हैं लाभ!

 

पीपल के पेड़ को शास्त्रों में पूजनीय बताया गया है. शास्त्रों में पीपल का जिक्र करते हुए कहा गया है कि इसके मूल में ब्रह्मा, मध्य में विष्णु और अग्रभाग में शिव का वास होता है. वहीं स्कंद पुराण में कहा गया है कि पीपल के मूल में विष्णु, तनों में केशव, शाखाओं में नारायण, पत्तों में श्रीहरि और फलों में सभी देवताओं के साथ अच्युत भगवान निवास करते हैं. इस तरह पीपल को एक दैवीय वृक्ष बताया गया है.

 

वैज्ञानिक रूप से भी देखा जाए तो पीपल का वृक्ष काफी महत्वपूर्ण बताया गया है. ये ऐसा वृक्ष है जो 24 घंटे ऑक्सीजन देता है. इस तरह ये सभी प्राणियों के लिए जीवनदायी है. इसे काटने से बचाने के लिए और इसकी महत्ता को समझाने के लिए इस वृक्ष की पूजा करने के लिए कहा जाता है. यहां जानिए पीपल से जुड़ी ऐसी तमाम धार्मिक बातें जिसके चलते पीपल वृक्ष पूज्यनीय माना जाता है.

 

पितृ दोष दूर करने वाला

 

यदि किसी के परिवार में पितृ दोष हो तो वो व्यक्ति अपने जीवन को कभी सुखपूर्वक नहीं जी पाता. आए​ दिन परेशानियां उसे घेरकर रखती हैं. पीपल को पितृ दोष निवारण का साधन माना जाता है. रोजाना पीपल की पूजा करके आप अपने पितरों से आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं और पितृ दोष को दूर कर सकते हैं. यदि अमावस्या के दिन पीपल का पौधा लगाया जाए और इस पौधे की देखभाल की जाए तो इस पौधे के बढ़ने के साथ साथ आपके परिवार से पितृ दोष का प्रभाव समाप्त होने लगता है और आपकी समस्याओं का भी निदान होने लगता है.

 

श्रीकृष्ण को अतिप्रिय है पीपल

 

श्रीकृष्ण भगवान विष्णु का स्वरूप हैं. द्वापरयुग में गीता के प्रवचन कहते समय उन्होंने स्वयं अपने मुख से कहा है कि वृक्षों में मैं पीपल हूं. इसलिए पीपल का वृक्ष नारायण को अति प्रिय है.

 

शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव कम होता

 

मान्यता है कि पीपल की पूजा करने से शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव कम होता है. लोगों को शनि से जुड़े तमाम कष्टों से मुक्ति मिलती है. इसके अलावा अथर्व वेद में लिखा है कि ‘अश्वत्थ देवो सदन, अश्वत्थ पुजिते यत्र पुजितो सर्व देवता’ यानी पीपल के पेड़ की पूजा से सर्व देवताओं की भी पूजा हो जाती है.

 

वास्तुदोष खत्म करता पीपल

 

ये भी मान्यता है कि पीपल को घर में लगाने से घर का वास्तुदोष समाप्त हो जाता है. घर में सुख शांति आती है. अगर आपके घर छत पर या कहीं किसी दीवार पर पीपल का वृक्ष उग आए तो डरें नहीं, उसे नुकसान पहुंचाए बिना निकाल कर किसी गमले या अन्य स्थान पर रोप दें.