क्या नवाज़ शरीफ जाएंगे जेल ! या मिल जाएगी नवाज़ को बेल?

Nawaz sharif
Nawaz sharif

Nawaz sharif : एक तरफ़ पाकिस्तान आर्थिक मंदी से जूंझ रहा है, तो दूसरी तरफ पाकिस्तान में सियासत का खेल जोरो शोरो पर है। जिसमें जल्द ही पूर्व प्रधानंमत्री नवाज शरीफ की एंट्री भी होने वाली है। हालांकिं नवाज शरीफ के ऊपर गिरफ्तारी की तलवार भी लटक रही है। अगर उन्हे ट्रांजिट जमानत नहीं मिलती है, तो उन्हे जेल भी हो सकती है। इसी को लेकर इमरान खान शाहबाज सरकार पर हमलावर हैं। उनका कहना है कि क्या उनके छोटे भाई शहबाज शरीफ के प्रधानमंत्री बनने से उनके सारे गुनह मांफ हो जाएगे।

यह भी पढ़ें : ED ने सोनिया गांधी को नया समन जारी किया

Nawaz sharif
Nawaz sharif

नवाज शरीफ (Nawaz sharif) के लौटने की अफवाहें 

बता दें कि नवाज शरीफ के लौटने की अफवाहें पहले भी बार-बार सामने आती रही हैं, लेकिन अप्रैल में गठबंधन सरकार बनने के बाद अटकलें तेज हो गईं, क्योंकि PML-N पार्टी की सरकार बनने में नवाज शरीफ अहम खिलाड़ी है। इसी बीच सवाल ये भी उठ रहे हैं कि अगर पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पाकिस्तान वापसी होती है। तो क्या उनकी गिरफ्तारी होगी ?

इसी को लेकर PML-N नेता और संघीय कानून मंत्री आजम नजीर तरार का बयान सामने आया है। उन्होंने एक प्रैस प्रेस कॉन्फ्रेंस कहा कि अगर नवाज शरीफ को पाकिस्तान वापस आने के दौरान ट्रांजिट जमानत नहीं मिली तो उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है। बता दें, इस समय पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के ऊपर गिरफ्तारी की तलवार लाटकती हुई नजर आ रही है।

यह भी पढ़ें : असम बाढ़ के बीच महाराष्ट्र सरकार गिराने में व्यस्त पीएम मोदी: कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई

पनामा पेपर्स मामले में दोषी

वहीं 2017 में, नवाज को पनामा पेपर्स मामले में दोषी पाया गया। जिसके बाद पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने उन्हे प्रधानमंत्री पद से हटा दिया था। साथ ही साल 2018 में पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने नवाज को दस साल जेल की सजा भी सुनाई थी। हालांकि कुछ अरसे बाद नवाज शरीफ ने लाहौर हाईकोर्ट से अपने इलाज के लिए विदेश जाने की अनुमति ली थी। तब से वो लंदन में ही रह रहे हैं।

इसी को लेकर विपक्ष भी सत्तारुढ़ पार्टी पर हमलावर है। जहां लंदन में नवाज शरीफ के घर के बाहर PTI के सदस्यों ने प्रदर्शन किया और साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार को गिराने का आरोप नवाज शरीफ पर लगाया, उन्होंने कहा कि इमरान खान की सरकार का गिरना मंहगाई नहीं बल्कि उनके खिलाफ सोची समझी साजिश थी। सच आवाम के सामने आ चुका है।

यह भी पढ़ें : उद्धव ठाकरे सीएम आवास छोड़, अपने घर ‘मातोश्री’ पहुंचे!

पाकिस्तान में जल्द ही चुनाव करवाना चाहते हैं इमरान खान

वहीं अपनी सत्ता के जाने के बाद से इमरान खान लगातार पाकिस्तान में जल्द ही चुनाव करवाना चाहते हैं। जिसके लिए वो शहबाज सरकार पर दबाव बना रहे हैं, साथ ही अब इमरान खान नवाज शरीफ की वापसी पर हमला बोला है।

एक तरफ पाकिस्तान में सिसायी खेल खत्म होने का नाम नहीं ले रहा हैं। तो दूसरी तरफ पाकिस्तान में आर्थिक हालात बदतर होते जा रहे है। जहां पेट्रोल-डीजल 200 के पार है। यहां तक बिजली के यूनिट पर भारी इजाफा किया गया। खाने पीने की चीजों को लेकर किल्ल्त हो रही हैं। यहां कि वर्तमान सरकार ने पाकिस्तान की जनता से चाय न पीने का फरमान सुना दिया। पाकिस्तनी रुपया हर दिन डॉलर के मुकाबले हर दिन गिरता जा रहा है। कुछ रिपोर्टस में दावा भी किया जा है कि पाकिस्तान के हालात श्रीलंका और बंग्लादेश होने वाले हैं।

यह भी पढ़ें: “शिवसेना ने कभी हिंदुत्व नहीं छोड़ा”: फेसबुक लाइव में बोले उद्धव ठाकरे

-Tarannum Rajpoot