क्‍या पाकिस्‍तान करने देगा अमेरिकी सेना को अपनी जमीन का इस्‍तेमाल? जानें- इमरान खान का जवाब

 

पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री ने साफ कर दिया है कि वो अफगानिस्‍तान में किसी भी तरह के हमले के लिए अमेरिकी सेना को कोई भी बेस नहीं देगा। उन्‍होंने ये भी कहा कि वो किसी भी तरह के हमले चाहे वो आतंकवाद के खिलाफ उसकी कार्रवाई के तहत ही हों पाकिस्‍तान की जमीन का इस्‍तेमाल भी नहीं करने देगा। अंतरराष्‍ट्रीय चैनल एचबीओ के लिए एक्सियोज को दिए अपने इंटरव्‍यू में उन्‍होंने ये बात कही है। उनके जवाब से हैरान इंटरव्‍यूअर जोनाथन स्‍वान ने जब इस जवाब पर उनसे पूछा कि क्‍या सच में तो इमरान ने जोर देकर कहा कि हां, जरूर।

 

स्‍वान ने इस इंटरव्‍यू में उन मीडिया रिपोर्ट्स का भी जिक्र किया जिसमें पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के हवाले से इसकी संभावना व्‍यक्‍त की थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कुरैशी ने सीनेट में दिए संबोधन के दौरान इस तरह की बात कही थी। अपने बयान में उन्‍होंने कहा कि अफगानिस्‍तान में तालिबान और अलकायदा के आतंकी हमलों का जवाब देने के लिए ऐसा किया जा सकता है। उन्‍होंने सीधेतौर पर एक्सियोस से कहा कि पाकिस्‍तान के सभी सैन्‍य ठिकाने उसके लिए हैं और उसके ही लिए रहेंगे। इन्‍हें अमेरिकी सेना को नहीं दिया जाएगा। इमरान ने कहा कि जिन मीडिया रिपोर्ट्स का हवाला दिया जा रहा है वो पूरी तरह से निराधार हैं, जिनका कोई अर्थ नहीं है।

 

पाकिस्‍तान के प्रधानंत्री ने कहा कि इस तरह की सभी मीडिया रिपोर्ट्स पूरी तरह से निराधार हैं। पाकिस्‍तान न तो अपनी जमीन के इस्‍तेमाल की इजाजत अमेरिका को दे रहा है और न ही इस संबंध में उनके साथ किसी भी तरह की कोई बातचीत चल रही है। इतना ही नहीं पाकिस्‍तान इसके लिए अमेरिका को किसी भी तरह के ड्रोन हमले की भी इजाजत नहीं देने वाला है। उन्‍होंने पूर्व की सरकारों के फैसलों पर अंगुली उठाते हुए कहा कि जिस तरह से पूर्व की सरकारों ने अमेरिकी सेना को ड्रोन सर्विलांस और हमले की इजाजत दी थी, मौजूदा सरकार ऐसा कोई फैसला नहीं लेगी।

Share