अपने लेटेस्ट कलेक्शन के साथ फैशन डिजाइनर ने लोगों से ‘दहेज को ना कहने’ का आग्रह किया

LIFESTYLE

 

– कीर्ति दीक्षित

 

 

पाकिस्तानी फैशन डिजाइनर अली ज़ीशान एक दुल्हन के आउटफिट में नजर आईं, जिसका उद्देश्य “दहेज की सदियों पुरानी परंपरा” को खत्म करना है। ज़ीशान के ‘नुमाइश’ शीर्षक वाले कलेक्शन की तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं। तस्वीरों में एक युवा दुल्हन को दिखाया गया है, जो एक पारंपरिक शादी के पहनावे और भारी गहनों में लिपटी हुई है, वहीं वो एक दहेज से लदी हुई गाड़ी को खींचती हुई नजर आ रही है, जिसमें ऊपर दूल्हा बैठा हुआ है।

 

अपने लेटेस्ट कलेक्शन के साथ फैशन डिजाइनर ने लोगों से ‘दहेज को ना कहने’ का आग्रह किया
पाकिस्तानी फैशन डिजाइनर अली ज़ीशान एक दुल्हन के आउटफिट में नजर आईं, जिसका उद्देश्य “दहेज की सदियों पुरानी परंपरा” को खत्म करना है। ज़ीशान के ‘नुमाइश’ शीर्षक वाले कलेक्शन की तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं। तस्वीरों में एक युवा दुल्हन को दिखाया गया है, जो एक पारंपरिक शादी के पहनावे और भारी गहनों में लिपटी हुई है, वहीं वो एक दहेज से लदी हुई गाड़ी को खींचती हुई नजर आ रही है, जिसमें ऊपर दूल्हा बैठा हुआ है।

 

 

 

 

डिजाइनर ने इंस्टाग्राम पर एक फिल्म भी जारी की, जिसमें ड्रामा किया गया कि कैसे दुल्हन और उसके माता-पिता को दहेज का बोझ उठाना पड़ता है। जीशान के आधिकारिक इंस्टाग्राम पेज ने वीडियो को कैप्शन दिया कि कैसे,“अपनी बेटियों की पढ़ाई की जगह उसके माता-पिता बेटी के दहेज (जहेज़) के लिए पैसे बचाने पर लग जाते हैं। इस अतिव्यापी परंपरा पर विराम लगाने का समय आ गया है!”
एक अन्य तस्वीर को भी साझा करते हुए कैप्शन में लिखा गया कि, “उसे प्यार से स्वीकार करें, एक शिक्षित दुल्हन एक अरब मुद्रा से बहुत बेहतर है।”

 

 

 

 

 

इस बीच, बहुत से लोगों ने सोशल मीडिया पर इस पहल का समर्थन भी किया है। वहीं, दूसरी ओर, अन्य लोगों ने महसूस किया कि यह विडंबना है कि डिजाइनर ने जो ड्रेस तैयार किया है, वो वास्तव में कितना मंहगा है।

 

डिजाइनर ने इंस्टाग्राम पर एक फिल्म भी जारी की, जिसमें ड्रामा किया गया कि कैसे दुल्हन और उसके माता-पिता को दहेज का बोझ उठाना पड़ता है। जीशान के आधिकारिक इंस्टाग्राम पेज ने वीडियो को कैप्शन दिया कि कैसे,“अपनी बेटियों की पढ़ाई की जगह उसके माता-पिता बेटी के दहेज (जहेज़) के लिए पैसे बचाने पर लग जाते हैं। इस अतिव्यापी परंपरा पर विराम लगाने का समय आ गया है!”

 

एक अन्य तस्वीर को भी साझा करते हुए कैप्शन में लिखा गया कि, “उसे प्यार से स्वीकार करें, एक शिक्षित दुल्हन एक अरब मुद्रा से बहुत बेहतर है।”

 

 

अपने लेटेस्ट कलेक्शन के साथ फैशन डिजाइनर ने लोगों से ‘दहेज को ना कहने’ का आग्रह किया

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *